बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG ब्रेकिंग (Exclusive)- Patna में जहरीली शराब का कहर,अबतक 3 की मौत चौथा अस्पताल में

राजधानी में जहरीली शराब का कहर रात के इस पहर में जिला प्रशासन समेत पूरा सरकारी अमला मौके पर मौजुद, पुलिस विभाग व आबकारी विभाग के अहलकार इलाके में मौजूद सच को छुपाने की हो रही कोशिश

1,591

पटना Live डेस्क। बिहार में पूर्ण शराबबंदी लागू है, लेकिन राज्य में जहरीली शराबों से मौत का मामला रुक नहीं रहा है। अबतक सुदूर जिलो में जहरीली शराब का कहर बरपता रहा है। लेकिन अब तो सरकार की नाक के नीचे जहरीली शराब ने कहर बरपा कर दिया है। मिल रही एक बड़ी खबर के मुताबिक राजधानी में जहरीली शराब पीने से 3 लोगो की दर्दनाक मौत हो गई है। वही एक युवक बेहद गंभीर हालत में अस्पताल में ईलाजरत बताया जा रहा है। वही अबतक Patna Live को 2 मृतकों की तस्वीर मिली है। जिसमे एक का नाम अखिलेश बताया जा रहा है वही दूसरे का नाम विवेक है। दोनो ने एक ही थाना क्षेत्र व एक ही  इलाके के निवासी बताए जा रहे है।

लेकिन इस खबर को कोई भी सरकारी एदारा कुबूल नही कर रहा बल्कि यथा शक्ति इस खबर को दबाने की क़वायद जारी है। मकतुलो के परिजनों को दबाव देकर किसी से बात नही करने और मुँह बंद रखने की हिदायत दी गई है। लेकिन विश्वस्त सूत्र बता रहे है कि अबतक 3 लोगो की मौत हो चुकी है। 2 की तस्वीर हमने साझा की है वही तीसरे शख़्स के परिजन कुछ भी कहने से न केवल इनकार कर रहे है।बल्कि पहले तो मौत से ही इनकार करते रहे थे। ख़ैर वही बात चौथे की करें तो चौथे की भी हालत ठीक नही है। वही अस्पताल में भर्ती युवक की पहचान अभिषेक उर्फ भोलू के तौर पर हुई है। जो गंगाराम अस्पताल के ICU में भर्ती है। वही पटना पुलिस अभी कैसे हुई मौत के बाबत अनुसंधान की बात कह रही है।

राजधानी में सुशासन सरकार की नाक के नीचे जहरीली शराब के कहर ने नीतीश कुमार के पूर्णशराबबंदी कानून और उसे लागू करने की व्यवस्था की पोल खोल दी है। सुशासन का दावा सवालों के घेरे में है और टारगेट पर पूरे ताम झाम से वर्ष 2016 से लागू नीतीश सरकार की पूर्ण शराबबंदी के दावे है।मिल रही जानकारी के अनुसार जहरीली शराब से मौत का आंकड़ा बढ़ने की भी संभावना है। वही राजधानी पटना में जहरीली शराबत्रासदी से हुई मौतों ने अब तो  पूर्ण शराबबंदी के दावे की चूले ही हिलाते हुए इसपर सवालिया निशान लगा दिया है। साथ ही पटना पुलिस के दावे और आलमगंज थाना पुलिस की कार्यशैली पर भी बड़ा सा प्रश्नचिन्ह खड़ा कर दिया है।

यह जहरीली शराब के कहर का त्रासद मामला आलमगंज थाना क्षेत्र का है। वही मक़तूलो के बाबत बताया जा रहा है ये सभी थानाक्षेत्र के संदलपुर, बिस्कोमान कॉलोनी के रहने वाले हैं। उल्लेखनीय है कि सघन आबादी वाले इन बसावट में अमूमन  अवैध शराब कि बिक्री को लेकर मीडिया के तमाम मंचो पर लगातार व बारम्बार खबरे दिखाई और लिखी जाती रही है। लेकिन स्थानिए थाना के खाकी की उदासीनता ने आज कहर बरपा कर दिया हैं। जबकि सरकार के द्वारा बिहार पुलिस में एक मद्य निषेध का पूरा का पूरा यूनिट इस काम पर लगाया गया है। ये हाल है नीतीश सरकार के नाक के नीचे तो आप स्वयं अंदाजा कर सकते है कि बाकी व सुदूर जिलो में हालात क्या होगे?

Comments are closed.