बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News- फिर एक बार RJD MLC रामबली सिंह चंद्रवंशी पर लगा “अप्राकृतिक संबंध” बनाने की कोशिश का सनसनीखेज आरोप !

ये वही रामबली सिंह चंद्रवंशी हैं जिनपर विगत बर्ष 2020 के मार्च महीने में अनुराग पाल नाम के छात्र ने सेक्सुअल और मेन्टल हरासमेंट का आरोप लगाते हुए राजधानी के पीरबहोर थाना में काण्ड संख्या 0148/20 संख्या से केस भी दर्ज कराया था। MLC रामबली सिंह बीएन कॉलेज के प्रोफेसर हैं।

163

पटना Live डेस्क। एक बार फिर से राजद के MLC रामबली सिंह चंद्रवंशी पर बेहद संगीन आरोप लगे है। एक युवक ने पटना के सचिवालय थाना में लिखित आवेदन देकर अप्राकृतिक यौनाचार की मंशा के तहत बेहद अश्लील व्यवहार करने का बेहद गंभीर आरोप लगाया हैं। पुलिस द्वारा पीड़ित युवक के आवेदन को स्वीकर करते हुए जांच की बात कही है। तो वही दूसरी तरफ राजद MLC ने इनआरोपों को निराधार बताया है।

वही, इस बार अरवल के सोनभद्र के रहने वाले एक युवक ने सचिवालय थाने में आवेदन दिया है। अपने आवेदन में लिखा है कि MLC ने उनके साथ अप्राकृतिक यौन संबंध बनाने की मंशा से अश्लील व्यवहार किया। जब हमने विरोध किया तो मारपीट भी किया। घटना के बाबत सिलसिलेवार जानकारी देते हुए पीड़ित ने लिखा है कि वह 4 फरवरी की रात 11 बजे के आसपास MLC आवास में थे। इसी दौरान राजद एमएलसी रामबली सिंह चंद्रवंशी के द्वारा अप्राकृतिक यौन संबंध बनाने की मंशा से अश्लील व्यवहार तथा विरोध करने पर मारपीट किया गया। जिसके बाद मैं और मेरे दोनो साथी आनन-फानन में जान बचाते हुए वहां से भागे। इसी क्रम में मेरा ब्लू रंग का जैकेट भी वहीं पर छूट गया।भागते समय उन्होंने हम लोगों को झूठे मुकदमे में फंसाने और जान से मारने की धमकी दी।

हमारे ही क्षेत्र के है MLC प्रोफेसर

युवक ने अपने आवेदन में कहा है कि वे MLC के क्षेत्र के हैं। हम लोग इनके पास सामाजिक मुद्दों पर चर्चा एवं विचार विमर्श के लिए मिलने आए थे। शाम ज्यादा होने की वजह से MLC ने अपने आवास पर ही रहने और खाने को बोला। मेरे दोस्तों को नीचे कमरे में तथा मुझे ऊपर वाले कमरे में अपने साथ सोने के लिए बोले। रात्रि 11:00 बजे के आसपास MLC साहब अश्लील व्यवहार करने लगे। जब हमने इसका विरोध किया तो मुझे पीटा भी गया। किसी तरह हम वहां से जान बचाकर भागे।साथ ही अपने आवेदन में पीड़ित ने बीते विगत वर्ष 2020 का उल्लेख किया हैं कि इसके पहले भी इन पर पीरबहोर थाना में इसी प्रकार का एक मामला कांड संख्या 148/ 20 दर्ज है। ऐसे में पुलिस इस मामले में संज्ञान लेते हुए न्याय एवं सुरक्षा दे।

पीड़ित के आवेदन को सचिवालय थाने की पुलिस ने आवेदन स्वीकार कर जांच करने की बात कही है। पुलिस ने कहा कि आवेदन मिला है। पुलिस हर बिंदू की जांच कर आगे की कार्रवाई करेगी। वहीं, राजद MLC रामबली सिंह चंद्रवंशी ने कहा कि आरोप बिल्कुल निराधार है। जब इस तरह की कोई बात ही नहीं है तो फिर क्या कहेंगे। हमें इस मामले में कोई जानकारी नहीं है। अगर पुलिस के पास आवेदन दिया गया है तो उसे जांच करने दीजिए। लेकिन विवादों से राजद MLC का बेहद पुराना नाता है। अबतक यह तीसरी बार है जब इनपर संगीन आरोप लगे है।

पहले पीरबहोर और अब सचिवालय

राजद विधानपार्षद पर एक बार फिर से बेहद संगीन आरोप की जद में आ गए हैं। उल्लेखनीय हैं कि यह पहली बार नही हैं जब बीएन कॉलेज के प्रोफेसर व MLC रामबली सिंह पर ऐसा आरोप लगा हो। प्रोफेसर रामबली सिंह चंद्रवंशी पर विगत वर्ष 2020 के मार्च महीने में अनुराग पाल नाम के छात्र ने सेक्सुअल और मेन्टल हरासमेंट का आरोप लगाया था। साथ ही पीरबहोर थाने में 148/20 संख्या से केस भी दर्ज कराया था। MLC पर धारा 341, 323, 504, 506 के तहत मामला दर्ज हुआ था।

चैटिंग का दिया था स्क्रीन शॉट

शिकायतकर्ता युवक ने प्रोफेसर पर अश्लील हरकत करने, फेसबुक पर अश्लील चैट करने, जबरदस्ती घर ले जाने, मना करने पर मारपीट करने, मोबाइल पर अपशब्द बोलने, जान से मारने और चोरी का झूठा आरोप लगाने का मामला दर्ज कराया था। पीड़ित अनुराग पाल ने पटना पुलिस को प्रोफेसर की ओर से की गई चैटिंग का स्क्रीन शॉट भी उपलब्ध कराया था।

1993 में छात्रा के यौन उत्पीड़न हुए थे सस्पेंड

रामबली सिंह मूल रूप से अरवल जिले के ओझा बिगहा गाँव के रहने वाले हैं।आरजेडी के अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ के अध्यक्ष हैं। रामबलि सिंह चंद्रवंशी का विवादों से और यौन उत्पीड़न जैसे संगीन आरोपो से पुराना नाता है। रामबली सिंह बी एन कॉलेज में भूगर्भशास्त्र (Geology) प्रोफेसर हैं। वहीं वर्ष 1993 में प्रोफेसर रामबली सिंह के ऊपर उनके अपने ही कॉलेज यानी बीएन कॉलेज में एक छात्रा के साथ यौन उत्पीड़न का बेहद संगीन आरोप लग चुका है। साथ ही साथ वर्ष 1993 में पटना विश्वविद्यालय (Patna University) प्रशासन ने इनको ऐसे ही एक अन्य मामले में दोषी पाते हुए सस्पेंड भी किया था।

Comments are closed.