बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

उत्तर बिहार औऱ सीमांचल से खत्म नहीं हुआ है बाढ़ का खतरा,प्रशासन सचेत,नहीं मिल रहा लोगों को सरकारी राहत

24

पटना Live डेस्क. उत्तर बिहार और सीमांचल के इलाकों में फिलहाल बाढ़ से निजात नहीं मिली है. किसी नदी का पानी उतर रहा है तो किसी नदी में पानी बढ़ रहा है. गंगा में उफान जारी है. साथ ही, बूढ़ी गंडक में उफान और तीन पुलियों के टूटने से मुजफ्फरपुर शहर पर बाढ़ का खतरा गहरा गया है. कटिहार भी फिलहाल खतरे से बाहर नहीं है. हालांकि अन्य जगहों पर नदियों का जलस्तर ढलान की ओर है. बाढ़ की वजह से मरने वालों की संख्या 368 हो गई है.

एक ओर जहां सीमांचल इलाके में बाढ़ की स्थिति में कुछ सुधार हुआ है तो वहीं अब उत्तर बिहार में नदियां कहर बरपा रही हैं. मुजफ्फरपुर में बागमती व बूढ़ी गंडक के कहर से पूरा जिला बाढ़ की चपेट में आ गया है. सोमवार देर रात छोटी कोठिया में पुलिया के ध्वस्त होने से शहर के पूर्वी भाग में बाढ़ आ गई.

निगम क्षेत्र के कन्हौली विशुनदत्त, बीएमपी व मालीघाट में बूढ़ी गंडक का पानी प्रवेश कर गया है. जिस रफ्तार से पानी का बहाव हो रहा उससे कई और मोहल्लों के इसकी चपेट में सुबह तक आने की आशंका है. पुलिया टूटने की सूचना मिलते ही लोग घरों से बाहर निकल आए.

निचले इलाके के लोग सामान लेकर ऊंची जगह की ओर पलायन करने लगे हैं. प्रशासन ने अलर्ट जारी कर दिया है. वहीं बोचहां की बिशनपुर जगदीश पंचायत का गुढ़मी रिंग बांध भी टूट गया. इससे गुढ़मी गांव में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया.

वहीं कटिहार के कुछ इलाकों को छोड़ दें तो पूर्वी बिहार, कोसी और सीमांचल इलाके में पानी अब उतर रहा है, किंतु बाढ़ पीड़ितों को अब भी राहत का इंतजार है. पीडि़तों में आक्रोश भी है. सुपौल में कोसी का उतार-चढ़ाव और किनारों का कटाव जारी है. सहरसा में पानी ढलान पर है. मधेपुरा के गांव बाढ़ से उबरने लगे हैं पर राहत नहीं मिलने के कारण गुस्सा बढ़ रहा है. पूर्णिया और किशनगंज में पानी घट रहा है.

 

कटिहार में फिलहाल स्थिति में कोई ज्यादा सुधार नहीं दिख रहा है. महानंदा का जलस्तर नीचे जा रहा है. गंगा स्थिर है. कोसी में मामूली वृद्धि है. कुछ इलाकों से पानी उतरना शुरू हो गया है. मनिहारी और अमदाबाद में बाढ़ के पानी का फैलाव जारी है. खगडिय़ा में बागमती और कोसी अभी भी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. हालांकि गंगा और बूढ़ी गंडक ने राहत दी है.

 

Comments are closed.