बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

बड़ी ख़बर – एनआईए ने पकड़ा 4 लक्ज़री गाड़ियों में रखे 28 कार्टूनो भरे गए कुल 37 करोड़ के नोट,आतंकियों की होनी थी फंडिंग

146

पटना Live डेस्क। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) टेरर फंडिंग मामले में काफी समय से जांच कर रही है। जांच के दौरान कई लोगो की अब तक गिरफ्तारी भी की गई है। टेरर फंडिंग के लिंक्स को एनआईए खंगालती आ रही है।इस मामले में वह पहले से ही कश्मीर के दर्जनो लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है,जिसमें अलगाववादी नेताओं और उनके संबंधी भी शामिल हैं। एनआईए ने कट्टरपंथी हुर्रियत नेता सईद अली शाह गिलानी के करीबी और हिजबुल मुजाहिद्दीन के प्रमुख सैयद सलाहुद्दीन के बेटे सैयद शाहिद को भी गिरफ्तार किया है। शाहिद 27 नवंबर तक न्यायिक हिरासत में हैं। एनआईए लागतार इस टेरर फाउंडिंग के लिंक कों तोड़ने की कवायद में लागतार जुटी है। आज यानी 8 नवंबर को नोटबंदी की पहली सालगिरह है।
राष्ट्रीय जांच एजेंसी( एनआइए) ने बड़ी कार्रवाई की है। एनआईए ने कार्रवाई करते हुए दिल्ली के कनॉट प्लेस के पास जय सिंह रोड से जांच एजेंसी ने 4 लग्जरी गाड़ियों पर रखे गये अवैध नोटों (500 और 1000 रुपये) के 28 कार्टून को जब्त किया और 7लोगों को हिरासत में लिया गया। एनआईए ने इन संदिग्धों के पास से 36 करोड़ 34 लाख 78 हजार 500 रुपये बरामद किए हैं।इसके बाद हिरासत में लिये गए सातों लोगों को एनआईए मुख्यालय लाया गया और उनसे पूछताछ किया गया। उनकी निशानदेही पर तीन और लोगों को हिरासत में लिया गया। कुल नौ लोगों को गिरफ्तार किया गया। फिर क्युल रकम का आंकड़ा करीब 37 करोड़ रुपये हो गया। ये सभी 500 और 1000 रुपये के प्रतिबंधित नोट हैं।


सभी आरोपियों को बुधवार को अदालत में पेश किया जाएगा। गिरफ्तार लोगों के नाम प्रदीप चौहान, भगवान सिंह, विनोद शेट्टी, शहनवाज मीर, दीपक तोपरानी, माजिद सोफी, इजाज़ुल हसन, जसविंदर सिंह और उमैर डार हैं।

 

Comments are closed.