बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG Breaking – नक्सलियों ने पुलिस वैन पर किया हमला, दरोगा समेत 4 पुलिसकर्मी शहीद, एक जवान घायल

107

पटना Live डेस्क। झारखंड में विधानसभा का चुनाव होने वाला है। उससे पहले ही नक्सलियों ने पुलिस वैन पर हमला कर अपनी धमक दिखाने की कोशिश की है। उल्लेखनीय है कि झारखंड में 5 चरण में चुनाव होने वाला है। फर्स्ट फेज में 30 नवंबर को वोटिंग निर्धारित है। इसी बीच झारखंड के लातेहार जिले से एक बड़ी खबर आ रही है।जहां नक्सलियों एक पेट्रोलिंग वैन पर घात लगाकर हमला कर दिया है। घटना के बाद पुलिस ने वारदातस्थल की चारों तरफ से घेराबंदी कर ली है। वही घटनास्थल पर वरीय पुलिस अधिकारी भी पहुंचे हुए हैं।

मिली जानकारी के अनुसार झारखंड के लातेहार के चंदवा थाना क्षेत्र के लुकुइया गांव में शुक्रवार की रात नक्सली हमले में चंदवा थाना में पदस्थापित एसआई सुकरा उरांव समेत चार पुलिसकर्मी शहीद हो गए। शहीद होने वालों में चालक यमुना प्रसाद,शंभू प्रसाद और सिकंदर सिंह भी शामिल हैं। मारे गए आरक्षी सिकंदर सिंह मुठभेड़ के कुछ समय बाद तक लापता रहे। लेकिन जब घटनास्थल के तआसपास को सर्च किया गया तो बाद में पुलिस को उनका शव मिला। वही, शंभू प्रसाद मुठभेड़ में घायल हो गए थे, रिम्स ले जाने के दौरान उनकी मौत हो गई।

घटना के बारे में बताया जा रहा है कि चंदवा थाने की पुलिस रात्रि गश्ती में निकली थी। थाने से महज 2 किलो मीटर की दूरी पर रुकैया मोड़ के पास पीसीआर वैन को लक्ष्य कर उग्रवादियों ने फायरिंग शुरू कर दी,जब तक पुलिस पार्टी कुछ समझ पाती तब तक दारोगा और एक जवान को गोली लग चुकी थी। शेष जवानों ने मोर्चा संभालते हुए जवाबी फायरिंग की और स्थिति को संभाले रखा।


वही,थाने से महज दो किमी की दूरी पर हुई फायरिंग से ग्रामीणों में काफी दहशत व्याप्त है। फायरिंग की आवाज सुनकर ग्रामीण अपने घरों में दुबक गए। इधर, फायरिंग की सूचना मिलने पर सीआरपीएफ के सहायक कमांडेंट रविशंकर सिंह और चंदवा थाना प्रभारी मोहन पांडेय जवानों के साथ घटनास्थल पहुंचे और जवाबी फायरिंग की। दोनों ओर से करीब 70 से 80 राउंड फायरिंग होने की सूचना है।

इस हमले के बाबत बताया जा रहा है कि इस हमले में पुलिसकर्मियों और सीआरपीएफ जवानों की जवाबी कार्रवाई में कई नक्सलियों को भी गोली लगी हुई है,लेकिन अंधेरे का वह फायदा उठाकर की साथियों समेत भाग निकले है। बताया जाता है कि हमला करने के बाद नक्सली मारे गए जवानों का हथियार भी अपने साथ ले भागे।

रविंद्र गंझू दस्ते का हाथ होने की आशंका

पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस घटना में भाकपा माओवादी के जोनल कमांडर रविंद्र गंझू के दस्ते का हाथ होने की आशंका जताई जा रही है। रविंद्र गंझू पर सरकार ने 15 लाख रुपये का इनाम भी घोषित कर रखा है। घटना के बाद इलाके में सर्च ऑपरेशन तेज कर दिया गया है।

Comments are closed.