बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

बड़ी खबर (वीडियो) मोकामा के बाहुबली विधायक को  लैंड माइंस विस्फोट में उड़ाने की साज़िश? ब्लाष्ट में मारा गया हमलावर

255

पटना Live डेस्क।बिहार के बेहद चर्चित बाहुबलियों में शुमार मोकामा के निर्दलीय विधायक अनंत सिंह उर्फ
छोटे सरकार इन दिनों अपने विधानसभा क्षेत्र के गांवों में घूम रहे है। ताकि अपने मतदाताओं की समस्याओं से न केवल रुबरु हो सके बल्कि यूं कहें कि समस्याओं का ऑन स्पॉट समाधान कर सके या कर सके। बाहुबली अनन्त का यह कार्यक्रम जारी है। इसी बीच मोकामा में हुई एक घटना ने न केवल पुलिस को बल्कि सियासी गलियारों तक मे सनसनी फैला दी है।
पटना जिला के मोकामा की धरती पर पहली बार हुए लैंडमाइंस विस्फोट की एक घटना,निर्दलीय विधायक के वहां से उसी रास्ते से गुजरने का तय कार्यक्रम ,टाइमिंग और विस्फ़ोट के तौर-तरीके पर गौर करें तो कन्हाईपुर में विस्फोट के सहारे जिस टारगेट को हिट करने की खौफ़नाक साज़िश रची गई थी वह “टारगेट” कोई और नही बल्कि बाहुबली छोटे सरकार ही नज़र आते है।

                                         लैंड माइंस विस्फोट की यह घटना रविवार सुबह घटित हुई बताई जा रही है। ग्रामीणों और सूत्रों के अनुसार सोमवार सुबह ठीक उसी समय कुछ देर बाद अनंत सिंह का अपने विधान सभा क्षेत्र मोकामा में जनसम्पर्क कार्यक्रम शुरू होना था।उल्लेखनीय है कि अनंत सिंह ने रविवार से इलाके में सघन जनसंपर्क अभियान की शुरुआत की थी। नगर परिषद क्षेत्र के 5 वार्डों का दौरा कर अनंत सिंह क्षेत्र की जनता से मिलने ख़ातिर जिस समय विस्फोट हुआ ठीक उसी समय उसी रास्ते कुछ देर के बाद कन्हाइपुर गांव होते हुए सम्पर्क अभियान में निकलने वाले थे। कयास लगाया जा रहा है कि हमलावरों की मंशा स्वागत के बहाने अनंत सिंह को रोकने और वहीं पर ग्रामीणों से बातचीत के दौरान लैंड माइंस विस्फोट कराने की थी,ताकि मोकामा विधायक को हलाक किया जा सके।
वही,मोकामा के कन्हाईपुर के समीप नेशनल हाईवे के किनारे लैंड माईंस विस्फोट में एक संदिग्ध की मौत के बाद इलाके में चारो तरफ अजीब सी बेचैनी और खौफ का मयार कायम हो गया है।इलाके के हर आमोखास की जुबान पर सिर्फ और सिर्फ एक ही सवाल है तो आंखों में हैरानी और अनजाने डर का अक्स दिखाई दे रहा है। सवाल बाहुबली विधायक की हत्या की साज़िश से जुड़ा है तो अनंत भी खुलकर यह कह रहे हैं कि हो सकता है यह उनके विरोधियों की उनको खत्म करने की ही साजिश हो। वही घटना की जानकारी मिलते ही मोकामा थानाअध्यक्ष कैसर आलम दलबल के साथ घटना स्थल पर पहुचे पुलिस लैंड माइंस विस्फ़ोट और विधायक के दावो पर चुप्पी साधे जांच का हवाला दे रही है।

लैंडमांइस विस्फोट की साज़िश

मोकामा से राजधानी पटना के रास्ते में कन्हाईपुर गांव के समीप एनएच-31 के किनारे लैंडमाइंस विस्फोट की बड़ी साजिश नाकाम हो गई है।मिली खबर के मुताबिक कन्हाईपुर के टोला गंगा प्रसाद के नजदीक हाईवे के किनारे एक केले के खेत में 4 की संख्या में रहे संदिग्ध युवको ने रविवार की सुबह सबेरे तकरीबन 7.00 बजे के आसपास डेटोनेटर से विस्फोट कराने के लिए तैयारी में विस्फोटक को डेटोनेटर से जोड़ने और टेस्टिंग की कोशिश कर रहे थे।इसी टेस्टिंग के दौरान हादसा हो गया और ब्लाष्ट की चपेट में आने से 4 में से एक संदिग्ध हमलावर की “मौका-ए-वारदात” पर दर्दनाक मौत हो गई। वही एक और बेहद गम्भीर रूप से ज़ख्मी हो गया। बक़ौल ग्रमीणों को विस्फोट की सूचना पर थाना पुलिस पहुची और अपनी जांच प्रारम्भ करते हुए। घटना के बाबत पुलिस की प्राथमिक जांच से स्पष्ट हुआ है कि डेटोनेटर द्वारा विस्फोट से उड़ा कर शत्रु को उड़ाने से पहले वहां अपराधियों का जमघट लगा था। घटनास्थल पर कई घंटे तक पुलिस ने छानबीन करती रही।
पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कन्हाइपुर टोला गंगाप्रसाद निवासी शैलेंद्र सिंह के केला बगान में रविवार की सुबह 4 हमलावर बम ब्लाष्ट करने की मंशा से जुटे थे।अपने मकसद को फाइनल टच देने से पहले ही डेटोनेटर से विस्फोटक को जोड़ने या बैटरी से डेटोनेटर को जोड़ने के दौरान हादसा हो गया।जोरदार विस्फोट के बाद 3 युवक निकल भागे। बक़ौल ग्रामीणों के एक युवक घायल था जबकि दो अन्य की हालत ठीक ठाक थी। दौड़ते हुए एनएच 31 पर आते ही पहले से खड़ी एक सफेद कलर की बोलेरो गाड़ी में बैठकर तीनों फरार हो गए।

लैंडमाइंस विस्फोट की पहली घटना

मोकामा इलाके में पहली बार डेटोनेटर से विस्फोट कराने की साजिश का भंडाफोड़ तब हुआ जब अचानक विस्फोट हो गया। पहले की आपराधिक वारदातों में अत्याधुनिक हथियारों के अलावा देशी बमों और हैंड ग्रेनेड का इस्तेमाल भले होता रहा हो लेकिन डेटोनेटर और बैटरी से विस्फोट करने की साजिश का खुलासा पहली बार हुआ है। घटनास्थल से पुलिस ने डेटोनेटर,बैटरी,चार्जर और कई मीटर लंबा डीसी वायर भी बरामद किया है। बैटरी में लगने वाले लाल रंग के डीसी वायर की कुल लंबाई 50 मीटर से अधिक बताई जा रही है। डीसी वायर घटना स्थल पर कई टुकड़ों में इधर-उधर फैला हुआ मिला था।दो पैकेटों में विस्फोटक को रखे जाने की बात सामने आ रही है।बताया जाता है कि डेटोनेटर से विस्फोटक को उड़ाकर टारगेट को हिट करना था,लेकिन टारगेट को हिट करने से पहले ही घटना हो गई और अपराधियों की मंशा धरी की धरी रह गई। कई मीटर लंबा वायर बरामद होने से संभावना जताई जा रही है कि अपराधी दूर से ही विस्फोट कर टारगेट को फिनिश करना चाहते थे।हालांकि उनकी योजना नाकाम हो गई और एक साथी को गवाकर अपराधियों की योजना असफल हो गई।

प्रतिद्वंदी हुए एकजुट

माना जा रहा है कि अनंत सिंह के प्रतिद्वंदी गिरोहों ने इस घटना की साजिश रची थी।पंडारक,लेमुआबाद और नदवां के तीन अपराधी सरगनाओं द्वारा मिलकर इस साजिश को अंजाम दिया जाना था।पंडारक,लेमुआबाद और नदवां में सक्रिय अपराधी गिरोहों की फिलहाल मोकामा विधायक अनंत सिंह से जबरदस्त अदावत चली आरही है।माना जा रहा है विस्फोटक के जरिए अनंत सिंह को मारने की फुलप्रूफ प्लानिंग कर ली गई थी।छोटे सरकार के विरोधी तीनों अपराधी गिरोह अपने अपने निजी कारणों से अनंत सिंह से अदावत में एक साथ हो गए हैं। नदवां के एक गिरोह से विधायक की जानी दुश्मनी है। वही पंडारक का एक सरगना भी अनंत सिंह के विरोध में है,तो लेमुआबाद के अपराधी की दुश्मनी अनंत सिंह एक खास लल्लू मुखिया से है।फिलहाल तीनों गिरोह अनंत सिंह के विरोध में एकजुट हैं और मोर्चाबंदी कर विधायक के खिलाफ साजिश का ताना बाना बुन रहे है।

Comments are closed.