बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

Super Exclusive- पटना में “मिडडे मील” त्रासदी का खौफ़नाक सच दिलखुश की दर्दनाक मौत की कीमत डेढ़ लाख जबरिया कराइ गई अंत्येष्टि

161

पटना Live डेस्क।वो महज 5 साल का था। बेहद नटखट था। माता पिता ने बच्चे को दिलखुश नाम दिया था।लेकिन उन्हें क्या मालूम था कि उनके दिल की यह खुशी सरकारी लापरवाही और सड़ चुके सिस्टम की भेंट चढ़ जायेगा।                               बिहार की राजधानी पटना में “मिड डे मील” के दाल के टब में डूबकर 5 साल के मासूम बच्चे की बेहद दर्दनाक मौत को दबाने की कोशिश लागतार जारी है।आखिर क्यों ? सवाल बडा है। जवाब भी जरूरी है। सूबे में अब तक मिड डे मील में छिपकिली, चूहा आदि के मरने की खबर पुरानी हो गई। लेकिन ताजा और बेहद लोमहर्षक घटना सामने आई है,जिसमे दाल के टब में 5 वर्षीय बच्चे के डूब मरने की खबर से लोग सकते में है।                                  यह खौफ़नाक हादसा और इसे छुपाने की साज़िश की घटना खुसरुपुर प्रखंड के उत्क्रमित मध्य विद्यालय,बड़ा हसनपुर की है। इस सरकारी विद्यालय के  हेडमास्टर नाम कामता कुमार है। घटना गुरूवार को घटित हुई। लेकिन हेडमास्टर कामता कुमार ने घटना को छुपाने की खतरनाक साज़िश रच दी। घटना के 24 घंटे बाद भी जिला प्रशासन इस सच से मरहूम रहा आखिर क्यों ? क्या वजह थी कि इसे स्कूल प्रशासन से छुपाया। सवाल कई है? अगर ये महज एक दुर्घटना या हादसा है तो फिर क्यो इसे छुपाने की कोशिश की गई। बच्चे का बेहतर इलाज कराया जाना चाहिए था नाकि सच को छुपाने की कवायद की जानी चाहिए थी। इसके उलट हेड मास्टर ने “दिलखुश की दर्दनाक मौत” को छुपाने ख़ातिर प्रशासन को अंधेरे में रख मामले की लीपापोती ख़ातिर बेहद ख़ौफ़नाक साज़िश रची और फिर 5 साल के मासूम की कीमत डेढ़ लाख तय कर परिवार को होस्टाइल कर लिया हद तो ये की दिलखुश की आनन फानन में अंत्येष्टि करवा दिया। ताकि मासूम की मौत का खौफ़नाक सच जमाने के सामने न आ सके।वही, अब भी एक गरीब महिला की बेबसी का फायदा उठाने की कोशिश की जा रही है।गरीबी की कोख से जन्मे दिलखुश के पिता का नाम गुड्डू कुमार है जो दिल्ली में मजदूरी करता था वर्त्तमान में किसी मामले में फस कर लंबे समय से जेल में है। वही दिलखुश गांव में अपने माँ और दादा दादी के संग रहा करता था। मृत दिलखुश के दादा कीरत सिंह मजदूरी करते हैं। मृत दिलखुश की दादी शीला देवी खुसरुपुर प्रखंड के उत्क्रमित मध्य विद्यालय में मिडडे मिल बनाने ख़ातिर बातौर रसोइए का काम कर परिवार का भरण पोषण करती है।

इस लिंक पर क्लिक कर पढ़े ….

Super Exclusive – पटना में “मिड डे मील” के दाल में डूबकर बच्चे की दर्दनाक मौत, लीपापोती में स्थानीय प्रशासन – https://patnalive.co.in/mid-meal-pulse-making-killed-5-years-%e0%a4%87%e0%a4%a8-patna/

 

Comments are closed.