बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News – ज़ज़्बे को सलाम – माँ और SDM के फ़र्ज़ निभाती एक आईएएस अधिकारी का वीडियो हुआ वायरल

22 दिन पहले मां बनीं, अब बच्ची के साथ दफ़्तर पहुंच गई महिला IAS अफ़सर निभा रही SDM और मां का फर्ज एक साथ!

207

पटना Live डेस्क। एक माँ अपने नवजात को गोद मे लेकर अपने दफ्तर में बैठ कर फाइलों को निपटा रही है। सोशल मीडिया पर यह तस्वीर व वीडियो खू़ब वायरल हो रही है। Viral Video में महिला अपने दुधमुंहे बच्चे के साथ पूरी तनमयता से न केवल माँ का फर्ज निभाती दिखाई दे रही बल्कि बाकायदा फाइलों पर भी दस्तख़त कर उचित टिप्पणियां भी कर रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, वायरल तस्वीर में दिखाई दे रही महिला का नाम सौम्या पांडेय हैं। आईएएस सौम्या पांडेय को करीब एक साल पहले मोदीनगर की उपजिलाधिकारी बनाया गया था।

गत 17 सिंतबर को उन्होंने एक बेटी को जन्म दिया। बेटी के जन्म के 22 दिन बाद ही वह काम पर लौट आईं। वर्त्तमान में NCR से सटे मोदीनगर की उपजिलाधिकारी सौम्या पांडेय की अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस पर 15 दिन की बेटी को गोद में लेकर काम करने की फोटो सोशल मीडिया पर छाई हुई है।कार्यालय पहुंचकर अपना पदभार सम्भाल लिया है। अपनी नवजात बच्ची को वो घर पर अकेला नहीं छोड़ सकती थीं, इसलिए उसे दफ़्तर ही ले आईं। इस तरह से वो एक मां और अफ़सर दोनों का फ़र्ज़ एकसाथ बखूबी निभा रही हैं।

भारत समेत पूरी दुनिया मे Covid-19 का कहर बरपा था तब भी सौम्या प्रैग्नेंसी के दौरान भी पूरी जिम्मेदारी के साथ अपनी जिम्मेदारियों को निभा रही थी। कोरोना कहर के दौरान भी वह कई अस्पतालों की मॉनिटरिंग कर चुकी है। जब सरकार से गर्भवती महिलाओं को सार्वजनिक स्थानों से दूरी बनाने की गाइड लाइन के बाद ही सौम्या ने ऑफिस में ही रह कर कार्य करने लगीं।

फ़र्ज़ के प्रति समर्पण खातिर हो रही तारीफ़

अपनी प्रशासनिक जिम्मरदारियों के प्रति वर्ष 2017 बैच की यूपी कैडर की आईएएस सौम्या पांडेय मूलत यूपी के प्रयागराज की रहने वाली है। वैश्विक महामारी कोरोना काल में भी सौम्या ने माँ और एसडीएम की जिस तरह दोहरी ड्यूटी निभा रही हैं। वो किसी प्रेरणा से कम नहीं। अब डिलीवरी के महज 22 दिन बाद ही अपने नवजात के संग ड्यूटी ज्वॉइन कर वो औरों के लिए मिसाल बनी हैं। सौम्या के जज़्बे को सलाम और ये सर्वोत्तम उदाहरण है अगर इरादे नेक हो तो छोटे छोटे प्रयासों से भी बदलाव की नींव रखी जा सकती है।

इंजीनियर से IAS तक का सफर

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2016 में सौम्या पांडेय ने देश की प्रतिष्ठित यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (UPSC) परीक्षा में चौथा स्थान हासिल किया था। मूल रूप से प्रयागराज की निवासी सौम्या ने देश के प्रतिष्ठित कॉलेज मोतीलाल नेहरू राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में बीटेक में गोल्ड मेडल प्राप्त किया था। वही इलाहाबाद की सौम्या ने चौफटका स्थित इलाहाबाद पब्लिक स्कूल से ही इंटरमीडिएट तक की पढ़ाई की है। सौम्या पांडेय ने अपने प्रथम प्रयास में ही आईएएस की परीक्षा सफलता पाई है।

सौम्या पांडेय ने कहा

सौम्या पांडेय का कहना है कि वह काम को सर्वोपरि मानती हैं। जापान जैसे देश का उदाहरण देते हुए उन्होंने बताया कि वहां डिलीवरी के कुछ समय बाद ही महिलाएं अपने काम पर चली जाती हैं। अगर स्वास्थ्य सामान्य है तो जल्द काम पर लौटने में कोई दिक्कत नहीं है।

Comments are closed.