बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

Super Exclusive-DIG मनु महाराज सेंट्रल डेपुटेशन पर ITBP या NSG में कर सकते है योगदान !

मनु महाराज को लेकर लंबे समय से केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर जाने के लगते रहे है कयास। पटना SSP रहते भी बीएसएससी पेपर लीक मामले की जांच के दौरान एसआईटी के अध्यक्ष एसएसपी मनु महाराज के सेंट्रल डेपुटेशन पर जाने की खबर निकली थी महज अफवाह

413

पटना Live डेस्क।बिहार कैडर के तीन बेहद चर्चित आईपीएस अधिकारियों बीएमपी डीजी आर.एस भट्टी, ADG कुंदन कृष्णन और सारण प्रक्षेत्र के डीआईजी मनु महाराज को केन्द्रीय प्रतिनियुक्ति पर भेजने का पत्र जारी हो गया है। इन तीनों की सेवा केन्द्र सरकार के गृह विभाग को सौप दिया गया है।आईपीएस कुंदर कृष्णन को 3साल के लिए केन्द्रीय प्रतिनियुक्ति पर भेजा गया है। साथ ही साथ बिहार सरकार के गृह विभाग ने 2 अन्य आईपीएस अफसरों आरएस भट्ठी और मनु महाराज को भी केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर भेजे जाने को लेकर आदेश जारी कर दिया है। साथ ही बिहार सरकार ने अपनी सहमति दे दी है और अब ये दोनों अधिकारी भी बिहार छोड़ देंगे। यानी अब डीआईजी व 2005 के आईपीएस अधिकारी महाराज केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर जाने वाले हैं। निश्चित तौर पर यह कुछ ऐसे नाम हैं जो बिहार पुलिस के मजबूत स्तंभ माने जाते रहे हैं।इनका राज्य सेवा छोड़ कर जाना सवाल खड़े करता है।

वही, ADG कुंदन कृष्णन केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर बुधवार को दिल्ली पहुचे और राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद सचिवालय में संयुक्त सचिव के पद पर योगदान दे दिया है।वही अन्य दोनों अधिकारियों को केंद्र सरकार किस विभाग में नियुक्ति देता है इसको लेकर अभी स्थिति स्पष्ट नही है। लेकिन पटना Live को विश्वस्त सूत्रों से मिली जानकारी मिली है कि आईपीएस मनु महाराज को ITBP (इंडो तिब्बत बॉडर पुलिस) या NSG (National Security Guard) में प्रतिनियुक्त किया जाएगा।दरअसल, मनु महाराज अपनी फ़िटनेस को लेकर बेहद संज़ीदा और तत्पर रहते है। 15 साल की अपनी पुलिस की बेहद थकाऊ और व्यस्तता से भरपूर रूटिन के बावजूद बेहद फिट DIG मनु महाराज भी राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड में जाने की चाहत रखते है। समय समय पर उनके सेंट्रल डेपुटेशन पर जाने के प्रयासों को लेकर खूब कयास लगते रहे है।

शिमला से पाटलिपुत्र 

बिहार के काफी तेज तर्रार और सुपरकॉप अफसरों में शुमार मनु महाराज का जन्म 20 अक्टूबर 1974 को हिमाचल प्रदेश के शिमला में हुआ था। इन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा शिमला में ही सेंट्रल स्कूल से पूरी की। तदुपरांत इन्होने आईआईटी रुड़की से बी.टेक में स्नातक पूरा किया। फिर इन्होंने दिल्ली के जवाहर नेहरु विश्वविद्यालय से पर्यावरण में मास्टर डिग्री पूरी की। इसके साथ ही वे सिविल सर्विसेस की तैयारी भी कर रहे थे।

बताया जा रहा है कि बिहार के चर्चित आईपीएस अधिकारी और वर्तमान में सारण रेंज के डीआईजी मनु महाराज भी केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर जा रहे हैं। बिहार सरकार ने इसकी सहमति दे दी है। मनु महराज भारतीय पुलिस सेवा 2005 के आईपीएस अफसर हैं। वर्त्तमान में सारण रेंज के डीआईजी बनने से पहले मनु महाराज मुंगेर के डीआईजी रह चुके हैं।

मनु महराज पटना और दरभंगा के सीनियर एसपी भी रह चुके हैं राजधानी पटना में सीनियर एसपी रहने के दौरान मनु महाराज काफी चर्चा में रहें।आये दिन मीडिया में ये छाए रहते थे। पटना में एसएसपी रहने के दौरान इन्होंने कई बड़े व संगीन मामलों का खुलासा किया।

बताया जाता है कि मनु महाराज जब पटना में थे, तब शहर के बड़े-बड़े क्रिमिनल और गुंडे इनसे कांपते थे। पटना में एसएसपी रहने के बाद जब इनका डीआईजी के पद पर प्रमोशन हुआ तो इन्हें 1 जनवरी 2019 को बिहार सरकार ने के पटना से मुंगेर भेज दिया। मुंगेर में डीआईजी रहने के बाद इनका तबादला सारण कर दिया गया।

मनु महाराज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सबसे विश्वसनीय ऑफिसर में से एक हैं।इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद मनु महाराज ने यूपीएससी की तैयारी शुरू की। इसी दौरान मनु ने जेएनयू से एन्वायरन्मेंटल साइंस में पीजी किया। 2005 में यूपीएससी क्लियर कर आईएएस रैंक मिली, इसके बावजूद मनु ने आईपीएस को चुना। दरअसल, मनु महाराज एक IPS अफसर बनाना चाहते थे। इन्हें बिहार कैैैडर मिला।

एके-47 लेकर लीड करते हैं ऑपरेशन

मूंछ वाले इस अफसर से अपराधी तो खौफ़ खाते ही है इनके मातहत भी डरते है। पटना के एसएसपी रहते हुए मनु अक्सर पटना की सड़कों पर अपने गनर के साथ चेहरा ढंककर बाइक से शहर की सुरक्षा देखने निकल पड़ते। अपनी सिंघम स्टाइल और मूंछों की वजह से चर्चा में रहने वाले मनु महाराज किसी भी ऑपरेशन में खुद टीम को लीड करते हैं और एके-47 लेकर फील्ड में पहुंच जाते।
मनु महाराज किसी बड़े ऑपरेशन को खुद ही लीड करते हैं और एके-47 लेकर मौके पर पहुंच जाते हैं।
बता दें कि पटना दियारा इलाके में एक ऑपरेशन के दौरान उन्होंने खुद ही कमान संभाली थी।

वही,दरभंगा में भी एक अपराधी को पकड़ने के लिए मनु घोड़े पर सवार होकर मैदान में उतरे थे।
मनु महाराज पटना के अलावा गया व दरभंगा में भी पोस्टेड रहे। गया में पोस्टिंग के दौरान नक्सली इलाकों में भी पहुंच जाते थे। वहीं, दरभंगा में कई बड़े ऑपरेशन को भी अंजाम दिया।

मनु महाराज पहले पटना में सिटी एसपी थे। तब उनके मूंछ का स्टाइल साधारण था। उन्होंने अजय देवगन की फिल्म सिंघम देखने के बाद अपना लुक बदला और मूंछ रखना शुरू कर दिया। इस अफसर को पटना के लोग सिंघम और दबंग भी पुकारते हैं।

पुलिसवालों को भी सिखाते हैं सबक
एक बार मनु महराज चेहरे पर गमछा लगाए और चप्पल पहने टूटी साइकिल से एक पुलिस जिप्सी के पास पहुंचे।उन्होंने जीप में बैठे पुलिसवालों से कहा, साहब, मैं मजदूरी करके लौट रहा था, तभी रास्ते में बदमाशों ने मुझे लूट लिया है। कृपया मेरी मदद कर दीजिए।पुलिसवाले उनकी बात अनसुनी करने लगे और उन्हें वहां से पुुुलिसवाले झिड़क व डॉट डपट कर भगाने लगे तो मनु महाराज के रिक्वेस्ट के बाद झल्लाए एक पुलिसवाले ने उन्हें थप्पड़ मारने की कोशिश की, तभी उन्होंने चेहरे से गमछा हटा दिया।इसके बाद उस पुलिस वाले के खिलाफ कार्रवाई का आदेश दिया।

मनु महाराज ने चुरा ली थी पुलिस की जीप

मनु अक्सर पटना की सड़कों पर अपने गनर के साथ चेहरा ढंककर बाइक से शहर की सुरक्षा देखने निकल पड़ते हैं।मनु महाराज एक बार अपनी बाइक से शहर में घूम रहे थे और शहर के बीचोंबीच सबसे वीवीआईपी थाना कोतवाली पहुंच गए।

वहां उन्होंने देखा कि ड्यूटी पर तैनात पुलिसवाला और ड्राइवर आराम से सो रहे थे।मनु महाराज ने थाने से पुलिस की जीप चोरी कर ली। पूरी रात उसी जीप से पटना में घूमते रहे पर पुलिस को भनक नहीं लगी।अगले दिन ही मनु ने ड्यूटी पर तैनात पुलिस वालों को लापरवाही के आरोप में सस्पेंड कर दिया।

Comments are closed.