बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

मांझी की बहू ने राबड़ी देवी को दिया करारा जवाब, कह दिया ‘जंगलराज की महारानी’

66

पटना Live डेस्क। शराबबंदी को लेकर पटना पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है। इस दौरान बीते रविवार को शराब की तलाशी करते हुए एक होटल में दुल्हन के कमरे में पुलिस जा घुसी। जिसकी चारों तरफ निंदा हो रही है। पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी समेत पूरा विपक्ष इस तरह की कार्रवाई की निंदा कर रहा है। विपक्ष के हमले का जवाब पूर्व सीएम जीतनराम मांझी की बहू दीपासंतोष मांझी ने ट्वीट कर दिया है।

दीपासंतोष मांझी ने ट्विट कर लिखा कि ” वाह “जंगलराज की महारानी जी” वाह,अब आप यह तो मान रहीं हैं ना कि सरकार शराबबंदी को लेकर बहुत सख़्त है, ई बात अप्पन बेटवा के बता दिजिए। वईसे एगो बात कहें? आपके राज में महिलाओं की क्या स्थिति थी थोडा उसका भी बखान कर दिजिए। “गर्भवती महिलाओं को दिन दहाड़े आपके लोग उठाकर ले जातें थें।”

बता दें कि दुल्हन के कमरे में पुलिसिया रेड को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देव ने भी ट्वीट किया है। उन्होंने कार्रवाई की निंदा करते हुए लिखा कि “ बिहार पुलिस शराबबंदी के नाम पर बिना महिला पुलिसकर्मियों के दुल्हन के कमरों और कपड़ों की तलाशी ले रही है। यह निजता के अधिकार का उल्लंघन है। बिहार में शराब कैसे व क्यों पहुँच रही है,कौन पहुँचा रहा है? उसकी जाँच और खोजबीन नहीं लेकिन उल्टा सनकी सरकार महिलाओं को ही परेशान कर रही है?।

दरअसल, पटना में रविवार को शराब मामले को लेकर होटलों में रेड हुआ। इस दौरान पुलिस ने तमाम हदों को पार कर दिया। पुलिस रामकृष्णनगर के बोधि विहार होटल में छापेमारी के लिए घुसी। इस होटल में शादी के लिए बुकिंग की गई थी। लड़की पक्ष के लोग यहां ठहरे हुए थे। पुलिस ने कमरों की तलाशी शुरू कर दी। तलाशी लेने के दौरान पुलिसकर्मी के पांव दुल्हन के कमरे की तरफ भी बढ़ गये। बिना किसी महिला पुलिस को लिये दारोगा दुल्हन के कमरे में घुस गये और तलाशी लेने लगे।

पुलिस अधिकारी को कमरे में घुसा देख दुल्हन भी दंग रह गयी। शादी के माहौल के बीच अब चिंता की लकीरें घरवालों के सिर पर दिखने लगी। दुल्हन के कमरे की तलाशी लेने के बाद पुलिस अधिकारी अन्य कमरों में भी घुसे। जिस कमरे में महिलाएं बैठीं थीं और समारोह के लिए तैयार हो रही थीं, अधिकारी उस कमरे में भी घुसने से परहेज नहीं कर सके। महिलाएं खुद आलमारी खोल-खोलकर उन्हें दिखाने लगीं और अधिकारी ने हवाला दिया कि वो क्या कर सकते हैं भला।उन्हें तो उपर से आदेश है।
पुलिसकर्मियों के द्वारा छापेमारी के नाम पर की गई इस हरकत की निंदा चारों तरफ हो रही है। सोशल मीडिया पर लोग तरह-तरह की बातें लिख रहे है। छापेमारी के नाम पर लोगों को इस तरह शर्मिंदा करना व परेशान करना लोग उचित नहीं ठहरा रहे। लोगों का कहना है कि अगर पुलिस को अंदर जाना ही था तो महिला पुलिसकर्मी को अंदर भेजना था।

Comments are closed.