बडी ख़बर- राजद सुप्रीमो की जेड प्लस सुरक्षा हटाई गई मिल सकती है Z कटेगरी,जीतनराम मांझी और शरद यादव के सुरक्षा खत्म

पटना Live डेस्क। केंद्र सरकार के एक नए फैसले ने बिहार की सियासत में पहले से ही भाजपा जदयू गठबंधन सरकार पर हमलावर राजद को बैठे बिठाये एक बेहद हमलावर मुद्दा थमा दिया है। यह फैसला भारत के गृह मंत्रालय के द्वारा लिया गया जिसके तहत तत्काल प्रभाव से बिहार के पूर्व सीएम मांझी की सीआरपीएफ की सुरक्षा वापस ले ली गयी है। अभि तक ऐसा कोई निर्देश भी नही दिया गया है जिसके तहत सीआरपीएफ किस श्रेणी की सुरक्षा मांझी को उपलब्ध कराई जाएगी। वहीं आरजेडी सुप्रीमों लालू यादव की भी NSG सुरक्षा वापस होगी।गौरतलब है कि लालू प्रसाद को आज तक Z+ श्रेणी की सुरक्षा उपलब्ध थी। आगे इन्हें भी किस तरह की सुरक्षा व्यवस्था उपलब्ध कराई जाएगी इसका भी इंतजार है। वही सूत्रों का दावा है कि जेड कटेगरी की सुरक्षा जारी रहेगी। इन दोनों वरिष्ठ नेताओं के सुरक्षा से सम्बंधित आदेश पटना को 26 नवम्बर को शाम में बिहार सरकार को प्राप्त हुआ है।                                                 पूर्व सीएम मांझी हुए नाराज़बताया जा रहा है कि गृह मंत्रालय के इस फैसले से मांझी नाराज़ हो गए है।मांझी नक्सल प्रभावित जिला औरंगाबाद के इमामगंज विधानसभा का प्रतिनिधित्व करते है। इससे पहले कई बार मांझी अपनी सुरक्षा को लेकर चिंता जता चुके है। अब देखने वाली बात होगी कि मांझी के नाराजगी का असर केंद्र सरकार पर कितना हो पाता है।                         लालू को मिल सकती है Z श्रेणी की सुरक्षा सूत्रों की माने तो लालू को Z श्रेणी की सुरक्षा मिल सकती है। लालू यादव को लंबे अरसे से Z+ केटेगरी की सुरक्षा उपलब्ध थी। अब Z केटेगरी की सुरक्षा उपलब्ध कराई जा सकती है जिसमे NSG नेशनल सिक्युरिटी गार्ड के जवान नही होंगे । गौरतलब है कि समय समय पर सुरक्षा एजेंसियां अपने इनपुट के आधार पर इस तरह का निर्णय लेते रहती है और राजनीतिक पार्टियां अपने अपने हिसाब से इसे मुद्दा बनाकर हवा देने की कोशिश करते रहती।उल्लेखनीय है कि इसी वर्ष जुलाई में केंद्र सरकार ने राज्‍य के दोनों पूर्व मुख्‍यमंत्रियों लालू यादव और उनकी पत्नी राबड़ी देवी को पटना एयरपोर्ट पर मिली विशेष सुविधा को समाप्‍त कर दिया था।लालू प्रसाद यादव और राबड़ी देवी को पटना एयरपोर्ट पर सीधे वाहन के जरिए हवाई पट्टी पर विमान तक जाने की मिली सुविधा को खत्‍म कर दिया गया था।