बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

UP Assembly Election 2022-लालू राबड़ी के दामाद राहुल यादव को सपा ने सिकंदराबाद सीट से उतारा सियासी मैदान में

पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के चौथे दामाद राहुल यादव ने स्विट्जरलैंड से होटल एंड रेस्टोरेंट मैनेजमेंट का कोर्स किया है। पिता सपा से MLC हैं। 2017 में भी राहुल ने सियासत अपनी किस्मत आजमाई थी पर जीत नही पाए। इस बार पुनः उप्र विधानसभा चुनाव में सिकंदराबाद सीट से सपा उम्मीदवार बनाए गए हैं।

418

पटना Live डेस्क। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी ने अब तक घोषित अपने प्रत्याशियों की पूरी लिस्ट पहली बार सार्वजनिक की है। समाजवादी पार्टी सीधे नामों का सार्वजनिक ऐलान करने के बजाय खामोशी से प्रत्याशियों को बुलाकर कर उन्हें सिंबल के लिए फॉर्म ए और बी दे रही थी। सिर्फ गठबंधन की सीटें ही घोषित की जा रही थी। सोमवार को जारी की गई उम्मीदवारों की लिस्ट में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव करहल से, रामपुर सीट से आजम खां, स्वार सीट से उनके बेटे अब्दुल्ला आजम बेहट से शिवपाल सिंह यादव जसवंतनगर तो वही पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी और राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के दामाद राहुल यादव बुलंदशहर के सिकंदराबाद से समेत कुल 159 के लिए प्रत्याशियों के नाम शामिल हैं।

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव और राबड़ी देवी (Rabri Devi) ने अपनी 9 संतानों में से दो की शादी यूपी के राजनीतिक घरानों में की है। सबसे छोटी बेटी राजलक्ष्मी (Rajlakshmi Yadav) की शादी लालू ने मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) से पोते तेज प्रताप सिंह से की है।वहीं राजलक्ष्मी की बड़ी बहन रागिनी यादव (Ragini Yadav) वर्ष 2012 में राहुल यादव से हुआ था। राहुल के पिता जितेंद्र यादव उप्र में एमएलसी हैं। पिता-पुत्र दोनों का यह कार्यक्षेत्र रहा है। सिकंदराबाद सीट बुलंदशहर जिले में है। यह गौतम बुद्ध नगर संसदीय क्षेत्र में आती है। यहां से राहुल सपा और रालोद के संयुक्त प्रत्याशी हैं।

2017 में मिली थी हार

राहुल यादव साल 2017 में हुए यूपी इलेक्शन में चुनाव लड़ चुके हैं। लालू खुद अपने दामाद के प्रचार के लिए यूपी आए थे लेकिन राहुल जीत नहीं पाए थे। वर्त्तमान में सिकंदराबाद सीट पर भाजपा का कब्जा है। पिछली बार और इस बार के सियासी माहौल में काफी अंतर है। पिछली बार पश्चिमी यूपी में सांप्रदायिक ध्रुवीकरण का असर था। इस बार किसानों का मुद्दा भारी है। बेरोजगारी, महंगाई जैसे मुद्दे भाजपा को परेशान कर रहे हैं। इसलिए सपा-रालोद के संयुक्त प्रत्याशी राहुल के जीत की संभावना बताई जा रही है। उनकी पकड़ युवाओं पर भी है। राहुल यादव को सपा का टिकट मिलने से यूपी में सपा के साथ ही बिहार में राजद में भी खुशी की लहर है।

ऑफिस ऑफ तेजस्वी यादव ने ट्वीट किया-उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में @samajwadiparty की ओर से 64, सिकंदराबाद विधानसभा की जनता की सेवा का सुअवसर माँग रहे हैं प्रबल युवा दावेदार श्री @Rahulyadav2014 जी! क्षेत्र की जनता से अपील है कि राहुल जी को जिताएं और प्रदेश में समग्र विकास को समर्पित @yadavakhilesh सरकार बनाए!

उल्लेखनीय है कि राजद लगातार सोशल मीडिया के जरिये यूपी चुनाव में सक्रिय है। रोज ही भाजपा और योगी सरकार की नीतियों पर हमले किए जा रहे हैं। यूपी चुनाव में सीधे भागीदारी राजद की नहीं है। राजद ने यूपी में सपा को बिना शर्त समर्थन दिया है और बाहर रहते हुए सपा के पक्ष में माहौल बनाने में सक्रिय है।

राहुल यादव ने स्विट्जरलैंड से होटल एंड रेस्टोरेंट मैनेजमेंट का कोर्स किया है। वो गाजियाबाद के मुरादनगर में बिजनेस चलाते हैं, जिसमें लालू की बेटी रागिनी भी मदद करती हैं।

बारहवीं पास रागिनी यादव अपने पति और सास-ससुर के साथ गाजियाबाद में ही रहती हैं। गाजियाबाद के राजनगर में उनका 1.5 करोड़ का बंगला है। पिछली बार वर्ष 2017 में चुनाव आयोग को दिये हलफनामे में राहुल यादव ने बताया था कि उनके पास करीब 25 करोड़ की चल और अचल संपत्ति है। साथ ही रागिनी यादव के पति राहुल यादव ने ये भी बताया था कि वह बिजनेस के अलावा किसानी पर भी डिपेंड करते हैं। उनके करोड़ों रुपए के यूपी में खेत हैं।

Comments are closed.