BiG News – लालू परिवार को लगा जोरदार झटका, गिफ्ट में मिले पटना के 3 बेशकीमती भूखंडो को जब्त करने का जारी हुआ आदेश

22

पटना Live डेस्क। आरजेडी चीफ लालू प्रसाद यादव चारा घोटाले में सज़ावार होकर अपनी सज़ा भुगतने के दौरान बीमार होकर इन दिनों रांची के राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस में इलाज करा रहे है। वही दूसरी तरफ परिवार की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही। आयकर विभाग ने आज पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी और उनकी बेटी हेमा यादव की पटना में तीन संपत्तियों को जब्त करने का आदेश जारी किया। इनमें फुलवारीशरीफ के सगुना इलाके में ढाई डिसमिल का एक प्लॉट और फुलवारीशरीफ के ही धनौत में पौने आठ डिसमिल के दो प्लॉट शामिल हैं। इन संपत्तियों को आयकर विभाग द्वारा जल्द ही अपने कब्जे में लेने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी।

उल्लेखनीय है कि जब्ती के आदेश वाले तीनों प्लॉट राबड़ी देवी और हेमा यादव को गिफ्ट में मिले थे। दअरसल, उक्त तीनो बेशकीमती भूखंड लालू यादव के गृह जिले गोपालगंज के रहने वाले और लालू परिवार के गोशाला की देख रेख करने वाले ललन चौधरी और हृदयानन्द चौधरी द्वारा उपहार स्वरूप वर्ष 2014 में दिए गए थे।
विदित हो कि इन तीनो भूखंडों के बबात आयकर विभाग ने राबड़ी देवी और हेमा यादव सेपूछताछ की थी। लेकिन दोनो ने उपहार स्वरूप मिले बेशकीमती ज़मीन के बाबत संतोषनजक जवाब नही दिया था।

कौन है ललन और हृदयानंद चौधरी

राबड़ी देवी और हेमा यादव को 3 बेशकीमती भूखंड उपहार में देने वाले ललन चौधरी और हृदयानंद चौधरी मूल रूप से गोपालगंज के रहने वाले है। जो लालू यादव की दानापुर स्थित गोशाला की देखभाल किया करते थे।
वर्त्तमान में हृदयानन्द चौधरी रेलवे में फोर्थ ग्रेड के  कर्मचारी हैं। जो राजेंद्र नगर टर्मिनल पर तैनात है। जबकि ललन चौधरी विधानसभा में नौकरी कर रहे हैं।इस पूरे प्रकरण में जो सबसे आश्चर्यजनक बात है कि पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी और उनकी बेटी हेमा यादव को राजधानी में 3 बेशक़ीमती भूखंड उपहार में देने वाले दोनो ही फोर्थ ग्रेड के कर्मचारी है जो सपरिवार पटना में किराए के मकान में रहते है।

Loading...