यशवंत सिन्हा को लालकृष्ण आडवाणी से मिलाकर बड़ी गलती की..बीजेपी के पूर्व सांसद ने लिखा..पद के लालची हैं सिन्हा..

72

पटना Live डेस्क. पिछले दिनों पीएम नरेंद्र मोदी और देश की अर्थव्यवस्था पर तीखा हमला बोलने वाले पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा पर पार्टी के ही पूर्व सांसद कैलाश सारंग ने जोरदार जुबानी हमला बोला है…यशवंत सिन्हा को पत्र लिखकर सारंग ने उन्हें पद का लालची और प्रधानमंत्री के खिलाफ षडयंत्र करने वाला बताया…एक पत्रिका के मुताबिक  सारंग ने कहा कि उन्होंने यशवंत सिन्हा को लालकृष्ण आडवाणी से मिलवाकर बड़ी गलती की है…सारंग ने कहा कि अगर यशवंत सिन्हा पार्टी के खिलाफ बोलना बंद नहीं करते तो उनके खिलाफ पार्टी को तुरंत कार्रवाई करनी चाहिए… सारंग ने यह भी लिखा है कि यशवंत सिन्हा मोदी सरकार के खिलाफ बयान देकर उन लोगों की मदद कर रहे हैं जो राष्ट्रवाद को कमजोर कर रहे हैं… उन्होंने लिखा है कि पार्टी नेता होने के नाते वो अपनी बात पार्टी फोरम में भी कह सकते थे…अपने डेढ़ पन्ने के पत्र में सारंग ने खुद को कायस्थ महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष को तौर पर एक कायस्थ होने के नाते यशवंत सिन्हा को सलाह दी है कि.. वो अपने बेटे और केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा की भलाई और भविष्य के लिए चुप रहें.. सारंग ने सिन्हा को सलाह दी है कि वो अपने बेटे के रास्ते में रोड़ा न बनें…

सारंग ने लिखा कि अगर प्रधानमंत्री ने उन्हें मिलने का समय नहीं दिया तो.. इससे उद्वेलित होने की जरूरत नहीं है.. क्योंकि पीएम बहुत व्यस्त रहते हैं.. और यह बात आप भी समझते हैं.. उन्होंने लिखा है कि भाजपा की बदौलत ही यशवंत सिन्हा को पद, प्रतिष्ठा और सम्मान मिला.. बावजूद इसके वो हमलावर बने हुए हैं..

बता दें कि पिछले दिनों यशवंत सिन्हा ने इंडियन एक्सप्रेस में एक आलेख लिखकर गिरती अर्थव्यवस्था पर मोदी सरकार की आलोचना की थी… और लिखा था को पहले नोटबंदी फिर जीएसटी लागू कर केंद्र सरकार ने देश के औद्योगिक विकास की राह में बड़ा रोड़ा अटकाया है… उन्होंने कम जीडीपी के लिए मोदी सरकार के आर्थिक सुधारों को जिम्मेदार ठहराया था… इसके अलावा उन्होंने पीएम मोदी के जवाब पर दोबारा हमला बोलते हुए कहा कि वो अर्थव्यवस्था का चीरहरण होने नहीं देंगे….

 

 

 

 

 

Loading...