BIG News – सुशासन में पत्रकारो की जान पर आफत, फिर एक बार पटना में पत्रकार को सरेआम रौद डाला गया, गंभीर हालत में इलाजरत

9

पटना Live डेस्क। नीतीश कुमार दावा करते है कि बिहार में सुशासन है यानी कानून का राज़ है। लेकिन इस सुशासन में लोकतंत्र के चौथे खम्भे पर लगातार हमले है। सिवान में पत्रकार की निर्मम हत्या से शुरू हुआ अपराधियों का मीडिया कर्मियों पर हमले का सिलसिला लगातार जारी है। हाल में ही भाजपा नेत्री के पति के हॉस्पिटल में हुए पत्रकारों पर जानलेवा हमले में नीतीश सरकार की शर्मनाक चुप्पी ने अपराधियों का मनोबल इस कदर बढ़ा दिया है कि शनिवार की शाम अपराधियों ने राजधानी पटना के पत्रकार को हत्या की नीयत से रौद डाला।जख्मी पत्रकार की स्थिति चिंता जनक है और अस्पताल में जीवन और मौत के बीच जूझ रहें हैं। वहीं अपराधी घटना को अंजाम देने के बाद फरार हो गया हैं ।

                     नौबतपुर के दैनिक समाचार -पत्र के पत्रकार संतोष कुमार ,हर दिन की भांति समाचार संकलन कर बिटहा-नौबतपुर, नयका रोड मार्ग से शनिवार को अपने एक साथी के साथ मोटरसाइकिल से लौट रहें थे।  दोनो जैसे ही नौबतपुर थाना क्षेत्र के तिलकपुरा गांव के समीप पहुचे एक स्विफ्ट डिजायर कार ने जान मारने की नीयत से सामने से जोरदार टक्कर मारा। मोटरसाइकिल सहित पत्रकार संतोष कुमार और साथी फेंका गये। टक्कर से संतोष कुमार बुरी तरह जख्मी हुये हैं। ग्रामीणों के सहयोग से जख्मी पत्रकार को नौबतपुर अस्पताल लाया गया ,जहां से डाक्टरों ने रेफर कर दिया।

                     पत्रकार के परिजनों और साथियों का कहना हैं की जख्मी पत्रकार संतोष कुमार ,बुरी तरह जख्मी हैं।शरीर में कई जगहों पर चोट लगी है और कई जगह घाव हो गया हैं। गंभीरावस्था में संतोष कुमार को पटना स्थित एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया हैं। जहां स्थिति चिंताजनक बताई जा रही हैं।

                         पत्रकार संतोष कुमार पर जानलेवा हमला ,यह कोई पहली घटना नहीं हैं।पूर्व में भी राशन कालाबाजारी के खिलाफ खबर छापा था तो चाकू -तलवार से जानलेवा हमला हुआ था और उस समय भी बाल-बाल बचे थे। उक्त घटना में वीरपुर गांव निवासी अभय सिंह और मुन्ना सिंह का नाम उस समय सामने आया था।

Loading...