बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News – जदयू विधायक वीणा भारती के बेटे की संदिग्ध हालात मे मौत से मचा कोहराम

सुपौल के त्रिवेणीगंज से विधायक वीणा भारती के बेटे बंटी कुमार की हुई मौत

797

पटना Live डेस्क। बिहार के सुपौल के त्रिवेणीगंज से जदयू विधायक वीणा भारती के बेटे की संदिग्ध हालात में मौत हो गई है। MLA वीणा भारती के बेटे बंटी कुमार की संदिग्ध अवस्था में शनिवार को मौत हो गई। मृतक बंटी के दोस्तों ने बताया कि वे लोग यहां अपनी कार की सर्विसिंग कराने आए थे। उसी दौरान बंटी की तबीयत बिगड़ी और सदर अस्पताल ले जाने के क्रम में उसने दम तोड़ दिया।घटना के बाद वीणा भारती के घर में कोहराम मच गया। किसी को यकीन नहीं हो रहा है कि ऐसा कैसे हुआ।

मिली जानकारी के अनुसार सुपौल के त्रिवेणीगंज से जदयू विधायक वीणा भारती के बेटे की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई है। भारती के 30 वर्षीय बेटे बंटी कुमार फोर व्हीलर ठीक कराने पूर्णिया गए थे।जहां गाड़ी में बैठे-बैठे ही अचेत हो गया।साथियों ने तत्काल सदर अस्पताल में भर्ती कराया लेकिन डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।जदयू MLA  को भी इसकी सूचना दी गई। घटना के बाद वीणा भारती के घर में कोहराम मच गया है।

मिली जानकारी के अनुसार बंटी की गाड़ी की सर्विसिंग के लिए 10 दिन पहले ही दिया गया था। शनिवार को वे लोग मरंगा थाना क्षेत्र के महिंद्रा शोरूम में गाड़ी लेने के लिए आये थे। मृतक के साथ उसका भांजा शंभू पासवान भी था। बंटी ने गाड़ी लेने के दौरान चलाकर चेकिंग भी किया। उसके बाद अपने भांजे को बिलिंग के लिए भेज खुद गाड़ी में एसी चलाकर बैठ गया। बिलिंग कराने में करीब घंटा भर का वक़्त लग गया। इसके बाद भांजा जब वापस आया तो उसने बंटी को गाड़ी में ही बेहोशी की हालत में देखा। चेहरे पर पानी मारने के बाद भी वह नहीं उठा तो चिल्लाने लगा। उसके बाद शोरूम के कर्मी आये और सबसे सहयोग से उसे पूर्णिया सदर अस्पताल लाया गया जहां डॉक्टर द्वारा मृत घोषित कर दिया। डॉक्टरों ने उसकी मौत की वजह हार्ट अटैक बताई है। फिलहाल सदर अस्पताल में सगे-संबंधियों और विधायक के शुभचिंतकों का तांता लगा हुआ है। शव के पोस्टमार्टम की कार्रवाई की जा रही है।

तीन भाई-बहनों में सबसे बड़ा था बंटी

बंटी अपने तीन भाई-बहनों में सबसे बड़ा था। उसके पिता विश्व मोहन भारती का निधन काफी पहले हो चुका है। मां वीणा भारती त्रिवेणीगंज सीट से लगातार दूसरी बार चुनाव जीती हैं। अनुसूचित जाति के लिए सुरक्षित इस सीट पर बीते चार बार से जदयू का ही कब्ज़ा रहा है। हालिया संपन्न हुए बिहार विधानसभा चुनाव में उन्होंने राजद उम्मीदवार संतोष कुमार को 303 मतों से हराया है।

 

 

Comments are closed.