बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News-Munger Durga Visarjan Case – मगध कमीश्नर ने जांच रिपोर्ट सौंपी, SP लिपि सिंह और DM को लेकर बड़ा खुलासा

Justice for Anurag Poddar मुंगेर काण्ड पर मगध कमिश्नर ने सौपी जांच रिपोर्ट, कई खुलासे

2,245

पटना Live डेस्क। बिहार में 26 अक्टूबर 2020 की दरमियानी रात मुंगेर शहर में दुर्गा प्रतिमा के विसर्जन जुलूस के दौरान पुलिस की दरिंदगी और हैवानियत का नंगा नाच पूरी दुनिया ने न केवल देखा है पढ़ा भी। साथ ही मुंगेर पुलिस ने अपना जुर्म छुपाने को लेकर जो तमाम फर्जी दावे भी किये कि उपद्रव कर रहे लोगों ने फायरिंग की थी और उपद्रवियों की गोली से एक की मौत हुई थी का हश्र और खुलासा भी देखा,कैसे उनके झूठ का एक अन्य सरकारी इदारे की इंटरनल रिपोर्ट ने पर्दाफाश कर दिया था। हालांकि, पटना Live को मिली CISF की इंटरनल रिपोर्ट के मुताबिक, फायरिंग की शुरुआत मुंगेर पुलिस ने की थी।

वही, मुंगेर ( Munger Violence ) में दुर्गा प्रतिमा विसर्जन को लेकर हुए बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा था। तब निर्वाचन आयोग भी हरकत में आया और बड़ी कार्यवाही करते हुए मुंगेर के डीएम और एसपी को तुरंत हटाने के निर्देश दे डाले। यही नहीं मगध प्रमंडल के कमिश्‍नर को मामले की जांच सौंपी।

 

मगध के डिविजनल कमिश्नर असंगबा चुबा को सौंपी और 7 दिनों के अंदर रिपोर्ट देने की मियाद तय कर दी। जांच के दायरे में इन बिंदुओं को शामिल किया गया। विवाद किस वजह से हुआ?.घायलों और जान गंवाने वाले लोगों को किसकी गोली लगी और घटना के लिए जिम्मेदार कौन है?इसकी जांच चुनाव आयोग को सुपर्द करने का जिम्मा दिया गया। मिली जिम्मेदारी के तहत आईएएस असंगबा चुबा ने तमाम अन्य जिम्मेदारियों के तहत भी चुनाव आयोग को अपनी विस्तृत रिपोर्ट अब जाकर सम्मिट कर दी है।

मगध कमिश्नर के द्वारा चुनाव आयोग को दी गई जांच रिपोर्ट में मिली जानकारी के अनुसार Munger Durga Visarjan Case के बाबत विस्तार से जांच की बाते लिखी गई है।साथ ही इस जांच रिपोर्ट में घटना के बाद वारदात स्थल (Place of Occurrence) पर पहुचने को लेकर तात्कालिक मुंगेर DM राजेश मीणा और SP लिपि सिंह के बाबत बाद खुलासा किया है। बकौल विश्वस्त सूत्रों के दोनों अधिकारी घटना स्थल पर बहुत समय बाद पहुचे थे।

वही, इस खुलासे के बाद एक बार फिर यह साबित होता प्रतीत होता है कि मुंगेर मूर्ति विसर्जन काण्ड के दौरान तात्कालिक डीएम और एसपी की घोर लापरवाही ने मुंगेर की छाती पर बेगुनाह दुर्गा भक्तों पर न केवल फायरिंग की गई बल्कि बाकायदा बिना किसी उकसावे और फायरिंग के कानूनी नियमचार व फायरिंग ख़ातिर पुलिस मैन्युअल को पालन किये  बगैर घोर लापरवाही बरती गई। दोनों सक्षम अधिकारी घटना स्थल पर नही थे।

देखना है कि चुनाव आयोग मगध कमिश्नर के रिपोर्ट पर क्या एक्शन लेता है। वही, बिहार सरकार अपने मासूम भाई अनुराग पोद्दार ख़ातिर न्याय की जंग लड़ रही बहनो को इंसाफ़ दे पायेगी या महज खानापूर्ति और कागजी कार्रवाई में समय की धूल में अनुराग को न्याय की उम्मीदें खो जाएगी? 

Comments are closed.