बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

बिग ब्रेकिंग – मधेपुरा,सहरसा,सुपौल समेत सीमांचल के सभी जिलों में इंटरनेट सेवा बंद,नहर में मिले सैकड़ों मवेशियों के शव,हुआ बवाल इलाका पुलिस छावनी में तब्दील, एसपी डीएम कर रहे है कैम्प

282

पटना Live डेस्क। बिहार के मधेपुरा जिले में नहर में मिले सैकड़ो मवेशियों के शव मिलने के बाद मचे बवाल और आक्रोशित ग्रमीणों द्वारा एसडीएम की सरकारी को क्षतिग्रस्त कर नहर में धकेल देने और जमकर हुए प्रदर्शन और बवाल के बाद एहतियातन बिहार सरकार के निर्देश पर सीमांचल के पूर्णिया,किशनगंज,कटिहार, अररिया, सुपौल,मधेपुरा में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है। वही इलाके को पुलिस छावनी में तब्दील करते हुए भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। साथ ही मधेपुरा डीएम मोहम्मद सोहैल और एसपी विकास कुमार घटनास्थल पर कैप कर रहे है।

                              उल्लेखनीय है कि मधेपुरा जिले के सिंगियान और तिनकोनमा होकर गुजरने वाली जेबीसी नहर के पानी के साथ हरिपुर कला साइफन में सोमवार की सुबह से हीं नहर में मवेशियों का क्षत- विक्षत शरीर बहते हुए पानी में देखा गया।स्थानीय लोगों ने जब छानबीन करना शुरू किया तो देखा कि नहर के पानी में एक दो करके मवेशियों का शव तैरते हुए जा रहे हैं। इसकी जानकारी लोगों ने स्थानीय प्रशासन को दिया। सूचना मिलने पर स्थानीय प्रशासन और जिले से एसडीएम संजय कुमार निराला, एएसपी राजेश कुमार, सदर थानाध्यक्ष मनीष कुमार सहित दर्जनों पुलिस बल व कमांडो दस्ता पहुंचे।


इस घटना को लेकर आसपास के ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त है। घटना के बाबत आक्रोशित लोगों का कहना था कि जब तक डीएम नहीं आऐंगे तब तक एक मवेशी का शव पानी से निकालने नहीं देंगे।हालांकि शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए प्रशासन मुस्तैद हैं। स्थानीय जन -प्रतिनिधि के द्वारा मवेशियों का शव निकालने के लिए जेसीबी मंगाया गया था। लेकिन लोगों के आक्रोश को देख जेसीबी वापस भेजना पड़ा। इधर बीतते वक़्त के साथ धीरे धीरे साइफन के पास कटे हुए मवेशियों का शव जमा होने लगे। इधर इलाके में आग की तरह यह ख़बर फैलने लगी और देखते ही देखते नहर पर हजारों लोगों का भीड़ जमा होने लगी। पल पल लोगो का आक्रोश बढ़ने लगा।
इधर नहर में पानी के बहाव के साथ लगातार मवेशियों के शव सायफन के पास पहुच रहे थे। इधर प्रशासन द्वारा बिना जांच पड़ताल किये ही पानी से मवेशियों के शव को निकलवा कर मिट्टी में दफनाने की बात कही गई।इसको लेकर मौजूद लोग आक्रोशित हो गए और अपने गुस्सा को काबू नहीं कर पाए और फिर उग्र भीड़ का तांडव शुरू हो गया। उग्र भीड़ ने एसडीओ के सरकारी वाहन को पहले तो तोड़फोड़ दिया और फिर मौजूद सरकारी दस्ते और पुलिस को खदेड़ दिया। फिर भी लोगो का गुस्सा शांत नही हुआ और एसडीएम की गाड़ी को क्षतिग्रस्त कर नहर में धकेल दिया।

इधर लगातार बढ़ते बवाल और बिगड़ती स्थित की जानकारी मिलते ही बड़ी संख्या में पुलिस बल के साथ
मौके पर डीएम मो सोहैल और एसपी विकास कुमार पहुंच गए हैं। साथ ही अन्य जिलों से भी पुलिस बल समेत आस पास के थानों की पुलिस भी काफी संख्या में पहुंची है। इलाके में तनाव के बीच अभी स्थिति नियंत्रण में है। बवाल और न फैले एहतियात इंटरनेट सेवा ठप्पा कर दी गई है। वही जेसीबी मशीने बुला ली गई है और मवेशियों के शव नहर से निकालने की कोशिश शुरू कर दी गई है।

Comments are closed.