बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG Breaking- सेंट्रल रेंज IG समीक्षा खातिर पहुचे कदमकुआं थाना, 1200 मामले मिले लंबित,7 दारोगाओ रोका वेतन

कदमकुआं थाने के रिव्यू में उजागर हुई घोर अव्यवस्था, अन्य जिलों में ट्रासफर हुए दारोगों ने नही दिया केस का चार्ज, 31 दिसम्बर को रिटायर्ड दारोगा की पेंशन भी रुकी

1,069

पटना Live डेस्क।सूबे में अपराध के बढ़ते ग्राफ को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की समीक्षा बैठक के बाद पटना पुलिस एक्शन में नजर आ रही है। पटना में अपराधियों के सामने कराहती पुलिस को दुरुस्त करने के लिए सेंट्रल रेंज के आईजी संजय सिंह ने कमान संभाल ली है।इसी क्रम में आईजी सेंट्रल रेंज स्वयं थानों में पहुचकर घंटों बैठक कर केस रिव्यू कर रहे है।इसी क्रम में आईजी संजय सिंह विगत दिनों शास्त्रीनगर थाने पहुंचे और घंटों बैठक कर केस रिव्यू किया था। वहीं, मुस्तैदी के साथ कार्य न करने वाले पांच पुलिस कर्मियों के वेतन रोकने के आदेश भी आईजी ने दिए।

कदमकुआं थाना पहुचे आईजी 

                          इसी क्रम को आगे बढ़ाते हुए मंगलवार को आईजी संजय सिंह कदमकुआं थाने का निरीक्षण करने पहुचे और थाने में पेंडिंग तमाम मुकदमो का रिव्यू किया।आईजी ने कदमकुआं थाने में घंटों बैठकर तमाम मामलों का रिव्यू किया। इस दौरान कदमकुआं थाने के रिव्यू में घोर अव्यवस्था उजागर हुई। थाने से अन्य जिलों में ट्रासफर हुए दारोगों ने अभी तक केस का चार्ज नही दिया है। आईजी उक्त सभी दारोगों का वेतन रोकने का निर्देश दिया है। साथ ही 31 दिसम्बर को रिटायर्ड एक पुलिस पदाधिकारी का पेंशन रोकने का भी निर्देश दिया है। साथ ही।मामलों के रिव्यू के दौरान एक एक आईओ के जिम्मे सौ सौ केस की जांच होने की जानकारी मिलने पर उन्होंने एसएसपी पटना को कदमकुआं थाने को 3 अतिरिक्त पदाधिकारी भेजने का निर्देश जारी किया है।

लगभग 1200 से ज्यादा लंबित है मामले

रिव्यू के दौरान थाना में 1200 से ज्यादा मामलों के लंबित होने की जानकारी मिली है।वही रेंज आईजी ने अन्य आईओ के तमाम केसों का न केवल रिव्यू किया बल्कि बाकायदा मामलों के जल्द निष्पादन खातिर जरूरी दिशा निर्देश भी दिए। इस दौरान डीएसपी सुरेश प्रसाद मौजूद रहे। वहीं, मुस्तैदी के साथ कार्य न करने वाले थाने में पदास्थापित 2-3 पुलिस अधिकारियों को भी मामलों का जल्द से जल्द निष्पादन का निर्देश दिया गया है।

साथ ही आईजी ने लंबित मामलों को निष्पादित करने खातिर टाइम फ्रेम भी तय कर दिया है। अगर नियत समय मे लक्ष्य पूरा नही हुआ तो थानेदार से लेकर डीएसपी पर कार्रवाई होगी। वही, ट्रासफर हुए दरोगा जल्द से जल्द आकर मामले का चार्ज नही सौपेंगे तो उनपर भी विभागीय कार्रवाई होगी।

Comments are closed.