बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News – IG सेंट्रल रेंज की SIT ने महज 24 घंटे में किया “चिरैयाटांड़” लूट व हत्या कांड का उद्भेदन मय हथियार मुख्य।अभियुक्त समेत 2 गिरफ्तार

सिटी एसपी विनय के नेतृत्व में बनी SIT ने "चिरैयाटांड़" हत्याकांड का किया पर्दाफाश, CCTv और ऑटो चालक ने खोले राज़

206

पटना Live डेस्क। पटना में शनिवार व रविवार की दरमियानी अपराधियों ने दुःसाहस का परिचय देते हुए राजधानी के व्यस्तम सड़क में शुमार चिरैयाटांड़ पुल लूटपाट के दौरान अपराधियों ने एक महिला शायिका परवीन की गोली मारकर हत्या कर दी थी। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस महानिरीक्षक केंद्रीय क्षेत्र ने न केवल वारदात की जानकारी हासिल की बल्कि घटना की जांच के लिए सेंट्रल रेंज के आईजी संजय सिंह ने सिटी एसपी पूर्वी के नेतृत्व में एसआईटी गठित कन कमामले का जल्द से जल्द पर्दाफाश करने का निर्देश जारी किया।

शुरुआती तफ़्तीश के दौरान एसपी सिटी सेंट्रल और पूर्वी एसपी ने वारदात स्थल की बारीकी जांच की और घटना क्रम के बाबत मकतूल शायिका के पति इमरान आलम ने बताया कि वह अपनी पत्नी के साथ सीवान से पैतृक घर डेहरी ऑन सोन जा रहे थे। होटल नहीं मिलने के कारण उन्होंने ऑटो पकड़ा। इसके बाद दोनों स्टेशन की ओर निकले।इसी बीच चिरैयाटांड़ पुल पर कुछ युवकों ने एकाएक ऑटो को रोक दिया। उसमें पहले से दो और यात्री सवार थे। अपराधी सभी यात्रियों को लूटने लगे।

इमरान के मुताबिक उनसे भी लुटेरों ने पैसे की मांग की। सीवान स्थित एक निजी बैंक में काम करने वाले इमरान ने सारे रुपए अपराधियों को दे दिए। इसी बीच लूट का विरोध करने पर अपराधियों ने उनकी पत्नी की आंख में गोली मार दी। मौके पर ही महिला की मौत हो गई। इस घटना की खबर मिलते ही सबसे पहले जक्कनपुर थाने की पुलिस मौका ए वारदात पर पहुंची। आनन-फानन में घायल महिला को पीएमसीएच ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

साथ ही यही भी जानकारी मिली कि घटना को अंजाम देने के बाद ऑटो चालक और दोनों अपराधी चिरैयांटाड़ पुल होते हुए करबिगहिया की तरफ ही भाग गए।जब्त ऑटो का नंबर BR01PJ – 9605 है। यह ऑटो अमन राज के नाम से रजिस्टर्ड है। 28 मार्च, 2019 को खरीदी गई है। शुरुआत में ही SIT को कई सवालों के जवाब मिल गये।

वही, एसआईटी की टीम को कांड में शामिल अपराधियों की टोह में कुछ ऑटाे चालकाें से पूछताछ शुरू की तो आखिरकार एसआईटी की टीम को इस दुःसाहसिक वारदात को अंजाम को अंजाम देने वाले लड़के के बाबत जनकरिया मिल गई। पूर्व में भी शहर के कई लूट व आपराधिक काण्डो में शामिल रहा है। दोनों युवक नशे के आदि है।

यह जानकारी बेहद अहम थी। इधर, अगमकुआं आरओबी से ऑटो में बैठे दम्पति और ऑटो जब स्टेशन की ओर चला तो रास्ते मे लगे पटना पुलिस के कैमरों में भी उनकी ऑटो में मौजूदगी और ऑटो का नम्बर दोनो दिखाई दिए। यानी अब अपराधी चिन्हित हो चुके थे। गिरफ्तारी बाक़ी थी।

दोनो चिन्हित अपराधी के बाबत यह भी स्पष्ट हुआ कि करबिगहिया स्टेशन के आसपास नशे की पूर्ति करते है। पुलिस कर्मियो ने उस इलाके में फील्डिंग सेट कर दी और नतीजा यह निकला कि दोनो को पुलिस ने सोमवार को 11 बजे के आसपास गिरफ्तार भी कर लिया। गिरफ्तार अपराधी में एक कि पहचान पटना बाइपास के रहने वाले जीशु उर्फ अवधेश कुमार के तौर योय हुई वही दूसरा चांदमारी रोड का रहने वाला गौरव कुमार सिंह है। गौरव ने ही महिला को गोली मारी थी। बरामद किया गया पिस्टल इसी के पास था। जिस ऑटो में यह घटना हुई वह पटना सिटी के कचौरी गली के अमन राज का है। उसने ऑटो को चलाने के लिए जिशु उर्फ अवधेश कुमार को दिया था।

कैसे हुई थी घटना

पुलिस के अनुसार ये लोग रात में यात्री की तलाश में पटना जंक्शन से अगमकुआं गए थे। वहां पति-पत्नी को अकेला देख लूट की योजना बन गई। चिरैयाटांड़ पुल आने के बाद इन्होंने शाइना परवीन से पर्स व चेन छीनने की कोशिश की, जिसमें कामयाब नहीं हो सके। शाइना को विरोध करता देख गौरव ने गोली चला दी। कुल दो गोलियां चली। बाद में भागते-भागते भी इन्होने शाइना के पति इमरान आलम का पर्स, एटीएम और डेबिट कार्ड लूट लिया था।

दो की तलाश जारी

पुलिस इस मामले में दो और लोगों की तलाश कर रही है। ये सभी ऑटो ड्राइवर ही हैं। गिरफ्तार हुए दोनों हत्यारों ने पुलिस को बताया है कि इनकी कमाई में कमी हो रही थी, इसलिए लूटपाट पर उतर आये। पुलिस फिलहाल सभी के क्रिमिनल हिस्ट्री को छान रही है।

 

Comments are closed.