BiG News-5 घंटे बाद दुनिया की सबसे लंबी मानव श्रृंखला,जल-जीवन-हरियाली व नशा मुक्ति के समर्थन में एकजुट होगा बिहार

334
  • पटना में सुबह 9:30 से 1:00 बजे तक नहीं चलेंगे वाहन, तैनात रहेगी मेडिकल टीम
  • रविवार को भी सभी सरकारी दफ्तर खोले गये हैं।
  • सभी सरकारी स्कूल भी खोलो गए है ताकि बच्चे भी  मानव श्रृंखला में उपस्थित रहे

पटना Live डेस्क। महज 5 घण्टे बाद बिहार में विश्व की अब तक की सबसे लंबी मानव श्रृंखला बनाई जाएगी। दिन के साढ़े 11 बजे से आधे घंटे तक पूरे राज्य में सवा चार करोड़ से अधिक लोग ह्यूमेन चेन बनायेंगे। जल-जीवन-हरियाली व नशा मुक्ति के समर्थन में तथा बाल विवाह व दहेज प्रथा मिटाने के लिए पूरा बिहार एकजुट होगा।

सूबे में कुल 16443 किलोमीटर लंबी  मानव श्रृंखला का मुख्य आयोजन पटना के गांधी मैदान में किया जा रहा है। यहां  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी और  विधानसभा के अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी हिस्सा लेंगे। इनके अलावा सरकार के आला अधिकारियों का दल भी एक दूसरे के हाथ जोड़ पंक्तिबद्ध होंगे।

फाइल pic
मानव शृंखला की हेलीकाॅप्टर से फोटोग्राफी करायी जायेगी और इसे गिनिज विश्व रिकार्ड को भेजा जायेगा। इसके आयोजन को लेकर शनिवार को राज्य प्रशासन की ओर से सभी जिलों की तैयारियों का जायजा लिया गया। पुलिस मुख्यालय ने भी सभी जिलों में पुलिस को बनने से समाप्त होने तक की सुरक्षा के लिए मुस्तैद रहने को कहा है।मानव शृंखला में भाजपा व लोजपा भी शामिल होगी। जिलों में बनने वाली मानव श्रृंखला में प्रभारी मंत्री भी शामिल होंगे। वहीं, मुख्य सचिव ने सभी जिलों के प्रभारी सचिवों को अपने प्रभार वाले जिलों में मानव श्रृंखला में मुस्तैद रहने को कहा है।
मानव श्रृंखला के सफल आयोजन के लिए नोडल शिक्षा विभाग ने सभी विभागों को इसमें शामिल होने का निर्देश दिया है। इसके चलते रविवार को सभी सरकारी दफ्तर खोले गये हैं।
11.30 से 12 बजे के बीच बनेगी मानव श्रृंखला
शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव आरके महाजन ने कहा कि रविवार को सुबह 11.30 से 12 बजे के बीच पूरे बिहार में 16 हजार किमी से अधिक लंबाई की मानव शृंखला बनेगी। इसमें बच्चे, शिक्षक, महिलाएं सहित हर तबके के लोग शामिल होंगे। इस संबंध में हमारी सभी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं।
आज के दौर में पर्यावरण एक गंभीर मुद्दा है। इस मानव श्रृंखला से दुनिया भर में यह संदेश जायेगा कि पर्यावरण संरक्षण के लिए हम सबको मिलकर काम करना चाहिए।
Loading...