बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

Bihar Election 2020- प्रथम चरण-28 अक्टूबर को मतदाता करेंगे 8 मंत्रियों समेत 71 सीटों का फैसला, RJD की साख दांव पर

71 विधानसभा सीटों पर महज कुछ घंटों में होगा जदयू भाजपा के 8 मंत्रियों और राजद के सबसे ज्यादा 25 विधायकों के भाग्य का होगा फैसला

458

पटना Live डेस्क।बिहार विधानसभा चुनाव खातिर जारी सियासी घमासान के पहले चरण के लिए चुनाव प्रचार का शोर 5 बजे थम गया। उल्लेखनीय है कि सूबे में तीन चरण में चुनाव संपन्न होने हैं। पहले चरण की वोटिंग 28 अक्टूबर को होनी है।पहले चरण में 16 जिलों की 71 सीटों के लिए 28 अक्टूबर को मतदान होना है। पहले चरण में सबसे ज्यादा सीटें आरजेडी के पास हैं। इस चरण की 13 सीटें आरक्षित हैं और नीतीश सरकार के 8 मंत्रियों की किस्मत का फैसला यहीं से होना है।

बिहार चुनाव: पहले चरण की 71 सीटों

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के पहले चरण की 16 जिलों की 71 सीटों पर कल यानी 28 अक्टूबर को वोट डाले जाएंगे। पहले चरण में सबसे ज्यादा सीटें आरजेडी के पास हैं। इस चरण की 13 सीटें आरक्षित हैं और नीतीश सरकार के 8 मंत्रियों की किस्मत का फैसला यहीं से होना है।

RJD की है प्रथम चरण में सबसे ज्यादा सीटें

नीतीश के 8 मंत्रियों की किस्मत का फैसला इसी चरण में होना है। प्रथम चरण के लिए कल यानी 28 अक्टूबर को वोट डाले जाएंगे।पहले चरण में आरजेडी की साख दांव पर लगी है। पहले चरण 71 सीटों में से 25 पर आरजेडी का कब्जा है जबकि 21 सीटें जेडीयू के पास हैं। बीजेपी को यहां 14 सीटें मिली थीं और कांग्रेस ने 8 सीटों पर जीत दर्ज की थी। इसके अलावा जीतनराम मांझी की हिंदुस्तान आवाम मोर्चा को एक, सीपीआई को एक और एक सीट पर निर्दलीय को जीत मिली थी।एलजेपी को एक भी सीट नहीं मिली थी।

पहले चरण में 16 जिलों की विधानसभा सीटों पर वोट 28 नवंबर को वोटिंग होगी. इनमें भागलपुर, बांका, मुंगेर, लखीसराय, शेखपुरा, पटना, भोजपुर, बक्सर, सासाराम, कैमूर, अरवल, जहानाबाद, औरंगाबाद, गया, नवादा और जमुई जिले की विधानसभा सीटें हैं।

राजद के दुर्ग होगा दाव पर

पहले चरण के जिन 16 जिलों की 71 विधानसभा सीटों पर 28 अक्टूबर को वोटिंग होनी है। यह आरजेडी का मजबूत दुर्ग माना जाता है। यहाँ सबसे ज्यादा 25 विधायक राजद के है। 2015 के चुनाव में लालू प्रसाद यादव और नीतीश कुमार ने मिलकर एनडीए का सफाया कर दिया था।

वर्त्तमान में NDA का पलड़ा भारी

इस बार समीकरण बदल गए है। नीतीश कुमार महागठबंधन का साथ छोड़कर एनडीए की अगुवाई कर रहे हैं।इस आधार पर देखें तो पहले चरण की आधी सीटों पर जेडीयू-बीजेपी -हम का कब्जा है। इन तीनों दलों के पास 36 सीटें हैं जबकि कांग्रेस और आरजेडी का 33 सीटों पर कब्जा है।पहले चरण में तेजस्वी यादव के सामने अपनी सीटों को बचाए रखने की बड़ी चुनौती होगी।

नीतीश के 8 मंत्रियों की साख दांव पर

पहले चरण में नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले एनडीए सरकार के 7 मंत्रियों की किस्मत का फैसला होना है। इनमें चार जेडीयू कोटे से मंत्री हैं तो तीन बीजेपी कोटे के मंत्री हैं।जेडीयू कोटे से मंत्रियों में जमालपुर से जीते शैलेश कुमार, घोसी से जीते कृष्णनंदन वर्मा, राजपुर से जीते संतोष कुमार निराला और दिनारा से जीते जय कुमार सिंह शामिल हैं। वहीं, बीजेपी कोटे वाले मंत्रियों में बांका से राम नारायण मंडल, चैनपुर से बृज किशोर बिन्द।और गया से जीते प्रेम कुमार शामिल हैं।बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी इसके अलावा कांग्रेस विधायक दल के नेता सदानंद सिंह की चुनाव सीट कहलगांव में भी पहले चरण में ही चुनाव होने हैं।

पहले चरण की विधानसभा सीटें है …

जिनमें कहलगांव, सुल्तानगंज, अमरपुर, धोरैया (एससी), बांका, कटोरिया (एसटी), बेलहर, तारापुर, मुंगेर, जमालपुर, सूर्यगढ़, लखीसराय, शेखपुरा, बारबीघा, मोकामा, बाढ़, मसौढ़ी (एससी), पालीगंज, बिक्रम, संदेश, बराहरा, आरा, अगियांव (एससी), तरारी, जगदीशपुर, शाहपुर, ब्रह्मपुर, बक्सर, दुमरांव, रायपुर (एससी), मोहनिया (एससी), भाबुआ, चैनपुर, चेनारी (एससी), सासाराम, करगहर, दिनारा, नोखा, देहरी, कराकट, अरवल, कुर्था, जेहानाबाद, घोसी, मखदूमपुर (एससी), गोह, ओबरा, नबी नगर, कुटुम्बा (एससी), औरंगाबाद, रफीगंज, गुरुआ, शेरघाटी, इमामगंज, (एससी), बाराचट्टी (एससी), बोध गया (एससी), गया टाउन, टीकरी, बेलागंज, अतरी, वजीरगंज, राजौली (एससी), हिसुआ, नवादा, गोबिंदपुर, वरसालीगंज, सिकंदरा (एससी), जमुई, झाझा, चकाई सीटें शामिल हैं।

Comments are closed.