बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News -पटना एसएसपी मानवजीत सिंह की मुश्किलें बढ़ी, दिल्ली में IPC की इन धाराओं में FIR दर्ज

एसएसपी मानवजीत सिंह अपने विवादित बयान के चलते एक ओर जहाँ भाजपा के निशाने पर है तो वही दूसरी तरफ अब कानूनी मुश्किलों में घिर गए हैं। एसएसपी पर दिल्ली के हौज खास में लिखित शिकायत दर्ज कराई गई है।

566

पटना Live डेस्क। राजधानी पटना के वर्त्तमान एसएसपी मानवजीत सिंह ढिल्लो द्वारा विगत 14 जुलाई को फुलवारीशरीफ टेरर मॉड्यूल के खुलासे के तहत प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान गिरफ्तार तीन लोगों के काम के तरीके को डिस्क्राइब करते हुए कहा गया कि ये लोग ठीक वैसे ही अपने सदस्यों को ट्रेनिंग देते हैं जैसे आरएसएस देती है। आरएसएस से पीएफआई की तुलना करने के बाद से एक ओर जहाँ विवाद बढ़ गया और बीजेपी भड़क गई। उन्होंने बिहार के मुख्मयंत्री नीतीश कुमार से एसएसपी को मानवजीत सिंह ढिल्लों तुरंत बर्खास्त करने की मांग की साथ ही, एसएसपी से सामूहिक रूप से माफी मांगने को भी कहा। मामला बढ़ा तो एडीजी मुख्यालय ने एसएसपी को ‘कारण बताओ नोटिस’ जारी किया है। तो वही अब पटना एसएसपी मानवजीत सिंह ढिल्लों कानूनी मुश्किलों में फंसते जा रहे हैं। दरअसल, पटना SSP मानवजीत सिंह ढिल्लो के खिलाफ लिखित शिकायत दर्ज कराई गई है।

दिल्ली निवासी अश्विनी गुप्ता ने अपने लिखित शिकायत में हौज खास थाने में भारतीय दंड विधान संहिता के तहत FIR दर्ज कराया है। उनपर U/S 153A 153B 295A 499 और 500 की धाराओं में शिकायत दर्ज की गई है। वही, दूसरी तरफ अपने बयान को लेकर बढ़ते विवाद पर पटना के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मानवजीत सिंह ढिल्लों इस मामले में सफाई दी। उनका कहना है कि आरोपियों से पूछताछ के दौरान उन्होंने जो कहा वहीं मैने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा। उन्होंने ये भी कहा कि उनके बयान की ‘चुनिदा व्याख्या’ की गई। जिसके कारण ये विवाद खड़ा हुआ है।

मानवजीत सिंह ढिल्लों ने दी सफाई

मानवजीत सिंह ढिल्लों ने कहा कि ‘मुझसे पत्रकारों ने पीएफआई के तौर-तरीकों के बारे में पूछा, जिसके एक नेटवर्क का हमने बुधवार को भंड़ाफोड़ किया था। इसका जवाब देते हुए हमने वही कहा जो पूछताछ के दौरान आरोपियों ने कहा था। जब आरोपियों से उनके काम करने के तरीके के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि जैसे अन्य संगठन अपने लोगों को शारीरिक रूप से स्वस्थ बनाए रखने के नाम पर प्रशिक्षण देते हैं, वे भी ऐसा ही करते हैं।’

मैनें कभी नहीं की तुलना

इस दौरान उन्होंने जोर देकर कहा कि उन्होंने कभी भी ‘एक संगठन की दूसरे के साथ तुलना नहीं की।’ उन्होंने सफाई देते हुए कहा कि विवाद उनके बयान की ‘चयनात्मक व्याख्या’ के काऱण खड़ा हुआ है। उन्होंने यह भी कहा कि ‘हम किसी भी विवाद से विचलित हुए बिना जांच पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं।’

Comments are closed.