बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News-लालू यादव पर भाजपा MLA ललन पासवान ने पटना के निगरानी थाना में दर्ज कराई FIR

सुनिए वो वायरल ऑडियो जिसके आधार पर भाजपा के विधायक ने दर्ज कराई एफआईआर

1,205

पटना Live डेस्क। रांची में चारा घोटाले में सज़ावार होकर कैद लालू यादव के कॉल ने बिहार की सियासत में कोहराम मचा दिया है। यह मामला अब सत्ता और विपक्ष के बीच न केवल विधानसभा में बल्कि कानूनी तौर पर भी टकराव का बड़ा मुद्दा बन गया है। लालू यादव के खिलाफ पटना की निगरानी थाने में बीजेपी के विधायक ललन पासवान की तरफ से लालू यादव के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया गया है। निगरानी थाने में दर्ज कराई गई एफआईआर में भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने, टेलीफोन से मंत्री पद का प्रलोभन देने जैसे गंभीर आरोपों को लगाते हुए मामला दर्ज कराया गया है।

आपको बता दें कि बिहार में विधान सभा स्पीकर के चुनाव से ठीक पहले एक ऑडियो वायरल मामले में केस दर्ज किया गया है। जिसमें दावा किया जा रहा है कि आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव जेल से विधायकों को अपने साथ आने के लिए कह रहे हैं। वायरल ऑडियो सुने

इस ऑडियो में दावा किया जा रहा है कि बीजेपी के पीरपैंती सीट से विधायक ललन पासवान को लालू यादव कॉल कर रहे हैं और स्पीकर के लिए होने वाली वोटिंग से अनुपस्थित होने को कह रहे हैं।

निगरानी थाने में ललन पासवान का आवेदन 

थाना अध्यक्ष,

निगरानी थाना, पटना

मैं ललन कुमार, पिता स्व. शिवनाथ पासवान, निवासी- बारा, थाना- ईषीपुर-बाराहाट, जिला भागलपुर, विधायक,पीरपैंती,विधान सभा क्षेत्र संख्या 154, नवनिर्वाचित सदस्य, बिहार विधान सभा 2020, आज दिनांक – 26.11.2020 को आपको यह लिखित सूचना दे रहा हूँ कि दिनांक – 24.11.2020 को समय 6.19 अप. मेरे मोबाइल संख्या – 9771710340 पर मोबाइल संख्या – 8051216302 से एक टेलीफोन आया। फोन उठाने पर दूसरी तरफ से बताया गया कि मैं लालू प्रसाद यादव बोल रहा हूँ, तब मैंने समझा की शायद चुनाव जीतने के कारण वो मुझे बधाई देने के लिए फोन किये है, इसी लिए मैंने उनको कहा, आपको चरण स्पर्ष। उसके बाद उन्होंने मुझे कहा कि वो मुझे आगे बढ़ाएंगे और मुझे मंत्री पद दिलवाएंगे, इसीलिये दिनांक- 25.11.2020 को बिहार विधान सभा अध्यक्ष की चुनाव में मैं अनुपस्थित होकर अपना वोट नहीं दूँ। उन्होंने यह भी बताया की इस तरह से वो कल NDA की सरकार गिरा देंगें। इसपर मैंने उन्हें कहा कि मैं पार्टी का सदस्य हूँ, ऐसे करना मेरे लिए गलत होगा, उसपर उन्होंने मुझे पुनः प्रलोभन दिया और कहा कि आप सदन से गैरहाजिर हो जाइए और कह दीजिये कि कोरोना हो गया है बाकि हम देख लेंगें।

इस तरह लालू प्रसाद यादव जो कि राष्ट्रीय जनता दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं एवं रांची में चारा घोटाला केस में सजायाफ्ता हैं, उन्होंने जानबूझ कर सोची समझी साजिष के तहत मुझे राजनीति में आगे बढ़ाने एवं मंत्री बनाने का लालच देकर मुझे विधायक जो एक जन सेवक (पब्लिक सर्वेंट) होता है उसका वोट खरीदने एवं राष्ट्रीय जनतांत्रिक पार्टी की सरकार को गिराने के लिए जेल के अंदर से फोन लगाकर मुझसे मोबाइल फोन पर सम्पर्क किया एवं मेरा वोट अपने एवं अपनी पार्टी के महागठबंधन के पक्ष में लेने की कोषिष की एवं मुझसे भ्रष्टा आचरण कराने का प्रयास किया।

अतः श्री लालू प्रसाद यादव के विरुद्ध भारतीय दंड विधान एवं भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की सुसंगत धाराओं के अंतर्गत मुकदमा दर्ज कर कानूनी कार्रवाई की जाय।

भवदीय,

(ललन कुमार)

संलग्न –

1. ऑडियो क्लिप

2. मोबाइल बातचीत का Transcript

Comments are closed.