बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

Super Exclusive-बिहार ग्रामीण विकास विभाग के नाम पर 5252 पदों Vacancy का फर्जी विज्ञापन व वेबसाइट बनाकर ठगे लाखो

साइबर अपराधियों ने बिहार सरकार के नाम पर नौकरी के लिए पंजाब में रजिस्टर्ड वेबसाइट ने निकाल दिया फर्जी विज्ञापन

1,031

पटना Live डेस्क।बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के दौरान सूबे में बेरोजगार को रोजगार के शोर और पक्ष विपक्ष के लाखो लाख सरकारी नौकरी देने के वायदो के बीच साइबर(Cyber) अपराधियों ने बड़ा खेल खेल दिया है। शातिरों ने बड़े शातिराना ढंग से न केवल खेल किया बल्कि जब तक बेरोजगारों को हक़ीक़त समझ मे आती लाखो लाख रुपये उगाही करने में सफल हो गए।

दरअसल, बिहार सरकार के ग्रामीण विकास विभाग के तहत बिहार ग्रामीण विकास प्राधिकरण में5252 पदों पर नियुक्ति के लिए फर्जी विज्ञापन निकाल कर लाखों की ठगी की जा रही है सहायक अधिकारी के 177, लेखपाल के 350, अभिलेख लिपिक के 1767 पंचायत सचिव के1258 और मल्टीटास्किंग स्टाफ के 1700 पदों के लिए ऑनलाइन आवेदन लिये जा रहे हैं।

इन सभी पदों के लिए 5200 से 20,200 वेतनमान और 2800 से 1800 के ग्रेडपे की जानकारी विज्ञापन में दी गयी है। इन पदों पर 21 नवंबर से 19 दिसंबर तक आवेदन मांगे गये गये हैं।

 

शातिरो ने बाकयदा सरकारी नीतियों के तहत  सामान्य वर्ग के आवेदकों से 450 रुपये यूपीआइ या क्यूआर कोड के जरिये लिये जा रहे हैं।जानकारी के अनुसार अब तक हजारों लोग इस धोखाधड़ी के शिकार होकर लाखों रुपये गंवा चुके हैं।

 

क्यूआर कोड या यूपीआइ से शुल्क का भुगतान

बड़ी बात है कि साइबर अपराधियों ने आवेदन शुल्क भुगतान के लिए खास तरीका अपनाया है. आम सरकारी आवेदनों की तरह चालान, डीडी जमा करने के बजाय इसमें सीधे क्यूआर कोड या यूपीआइ से आवेदन शुल्क का भुगतान किया जा सकता है.450 रुपये आवेदन शुल्क रखा गया है. अपराधियों ने लोगों को धोखा देने के लिए चार पन्नों का आवेदन निकाला है। इसमें पदनाम, आदि के अलावा शैक्षणिक योग्यता, चयन प्रक्रिया, महत्वपूर्ण निर्देश आदि की बकायदा जानकारी दी गयी है, जो वास्तविक आवेदनों से मिलते-जुलते हैं।नियुक्ति का फर्जी विज्ञापन वाली वेबसाइट पंजाब में है रजिस्टर्डबिहार ग्रामीण विकास प्राधिकरण में नियुक्ति का फर्जी विज्ञापन वाली इस वेबसाइट www.brdbihar.org.in के बारे में इंटरनेट पर जानकारी जुटायी गयी, तो पता चला कि यह वेबसाइट इसी साल नौ सितंबर को बनायी गयी है व पंजाब में रजिस्टर्ड है।

हद तो ये की साइबर अपराधियों ने प्राधिकरण के नाम पर www.brdbihar.org.in से एक फर्जी वेबसाइट भी बनायी है। इस पर सरकारी विभागों की वेबसाइट तक तरह सारे आवश्यक लिंक भी दिये गये हैं।

मगर, केवल ऑनलाइन आवेदन करने वाले लिंक को छोड़ कर अन्य किसी भी लिंक पर कोई जानकारी नहीं है।इस वेबसाइट से जुड़े अन्य पेज भी नहीं खुल रहे हैं।

फागू चौहान को बना दिया बिहार के सीएम

ध्यान से देखने पर वेबसाइट में सर्कुलर की जगह सर्कुलेशन जैसी कई गलतियां हैं। वेबसाइट में राज्यपाल फागू चौहान को मुख्यमंत्री बताया गया है।इसके अलावा भी कई खामियां हैं।

Comments are closed.