BiG News – पप्पू यादव ने नही की है सरकारी बंगले में कोई तोड़ फोड़, सीपीडब्ल्यू चीफ इंजीनियर ने बताया असली सच

1307

पटना Live डेस्क। राजधानी पटना में बाढ़ जैसी स्थिति में अपने राहत और बचाव कार्यो से आम आदमी के जेहन में मददगार के तौर पर जगह बना चुके पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव एक बार फिर चर्चा में है। दरअसल, लोकसभा चुनाव में मिली पराजय के बाद पूर्व सांसद को दिल्ली स्थित सरकारी बंगला खाली करना पड़ा। तो उनपर आरोप लगा कि उन्होंने खिड़की-दरवाजे-टाइल्स तक उखाड़ लिए है। लेकिन यह सच नही है।

दरअसल, बिहार के मधेपुरा के पूर्व सांसद पप्पू यादव
ने सरकारी आदेश के बाद पिछले दिनों अपना बंगला खाली किया। लेकिन जब सीपीडब्‍ल्‍यूडी के अधिकारी बंगले का मुआयना करने गए तो उन्हें तबाही जैसा मंजर दिया। खिड़की दरवाजे उखड़े हुए थे,।दीवारों से टाइल्‍स नोंचे गए थे, फर्नीचर बिखरा था, दूसरे शब्‍दों में कहें तो खंडहर जैसा माहौल था। कहा जा रहा था कि पप्‍पू यादव बंगला छोड़ने से पहले सब तहस नहस करके गए हैं।

क्या है सच ?

लेकिन अब इसकी दूसरी तस्‍वीर सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि बंगले के भीतर अवैध कंस्ट्रक्शन किया गया था। उनके ऑफिस में या जो लोग बाहर से आते है उनके ठहरने के लिए एक अवैध निर्माण किया गाय था। इसी निर्माण को तुड़वाया गया है। इस बीच मीडिया में खबर आई थी कि पप्पू यादव ने बंगला खाली करने से पहले तोड़फोड़ की थी। जबकि असल बात यह है कि पप्पू यादव के बंगले में कोई तोड़फोड़ नहीं हुई है, बंगले के अंदर पार्किंग एरिया में अवैध निर्माण किया गया था। वही निर्माण तोड़ा गया है।

सीपीडब्ल्यू चीफ इंजीनियर ने बताया सच

पूर्व सांसद पप्‍पू यादव द्वारा बंगला छोड़ने के बाद सीपीडब्ल्यू के चीफ इंजीनियर उज्ज्वल और अन्‍य ऑफिसर बंगले का जायजा लेने आए। मुआयना करने के बाद चीफ इंजीनियर के मुताबिक कैम्पस में सिर्फ अवैध निर्माण किया गया था उसमे ही तोड़फोड़ की है। अगर पप्पू यादव ये नहीं तोड़ते तो सरकारी आदेश के बाद हम इस अवैध निर्माण को तोड़ते।

चीफ इंजीनियर ने स्पष्ट किया है कि बंगले के भीतर किसी प्रकार की तोड़फोड़ नहीं की गई है। उन्‍होंने कहा कि बंगले के अंदर जो फर्नीचर है वो सरकारी भी है और सांसद का प्राइवेट फर्नीचर है। वो सब जब जमा करेंगे तो उसकी लिस्ट तैयार की जाती है। उसमे कोई गड़बड़ी नहीं हो सकती।

Loading...