Fact Finding – क्या पटना में सच में गैंगरेप हुआ है? या फिर मामला कुछ और है? हालात और सुबूत कुछ और ही इशारा कर रहे है..

2062
  1. पीड़िता के बयान और हालात नही कर रहे एक दूसरे को परिभाषित
  2. पूर्व में अपने फादर पर अपनी माँ के साथ मिल कर लगाया था 376 का आरोप
  3. SDM पिता जेल गए और हाइकोर्ट से बेल पर रिहा हुए और फिर मुकदमा …
  4. दोनो यानी पीड़िता और आरोपी के कॉल रिकॉर्ड्स और मैसेज खोंल देंगे सही सच
  5. OYO होटल बुकिंग सॉफ्टवेयर खोलेंगा तमाम हकीकत 

पटना Live डेस्क। राजधानी पटना में एक छात्रा से गैंग रेप और अंतरंग क्षणों के वीडियो बनाकर कर वायरल करने की धमकी व ब्लैकमेल करने को लेकर जोरदार हंगामा बरपा हुआ है। दिन भर तमाम छात्रसंगठन और विभिन्न कॉलोजें की छात्राएं शहर की विभिन्न सडको पर उतरकर जोरदार विरोध प्रदर्शन भी किया। वही, कारगिल चौराहे पर पुसू के नवनिर्वाचित अध्यक्ष मनीष कुमार के नेतृत्व में सैकड़ो छात्रों ने जमकर विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के दौरान पुलिस और छात्रों में भी टकराव के बाद पुलिस ने अध्यक्ष समेत कई छात्रों को हिरासत में भी लिया। गैंगरेप की खबर से पूरी राजधानी सन्न है और गुस्से में है। पीड़िता के इंसाफ और आरोपियों को कानूनी सज़ा देने को लेकर सभी एक मत है। पटना पुलिस भी घटना के बाद से ताबड़तोड धरपकड़ अभियान चला रही है। जिसका असर भी दिखाई दिया 2 आरोपियो विपुल और मनीष ने सरेंडर कर दिया है।

दरअसल, सूबे में जघन्यमत अपराधों के बढ़ते के आंकड़े
से पहले से ही बैक फुट पर खड़ी पुलिस ने पीड़िता की शिकायत के बाद पहले तो पटना स्थित महिला थाने में काण्ड संख्या -147/19 के तौर पर दर्ज किया गया। इसमें -IPC की धाराओ 376 (D) 420 /324 के तहत कार्रवाई ख़ातिर अग्रसर करते हुए अनुसंधान की जिम्मेदारी कुमारी अंचला के सुपुर्द कर दी गई। मामले की गम्भीरता को देखते आईओ ने सर्वप्रथम पटना के व्यवहार न्यायालय में ज्यूडिशियल मैजिस्ट्रेट माधवी सिंह के समक्ष बिना देरी के पीड़िता का 164 के बयान दर्ज करवाया। तदुपरान्त मेडिकल जांच की प्रक्रिया अपनाई गई।

पीड़िता ने लगाए कई सनसनीखेज आरोप

पीड़िता ने जेएम माधवी सिंह के समक्ष दिए 164 के बयान में आरोप लगाया है कि मैं बीएन कॉलेज में जहाँ पढ़ती हूँ वहाँ तकरीबन 1 बजकर 15 मिनट पर विपुल कुमार नामक लड़का आया और बोला कि मेरे साथ चलो नही तो तुम्हारा वीडियो वायरल कर देंगे। इससे पहले भी विपुल कुमार द्वारा मेरे रेप का विडियो बनाया गया था और धमकी दिया गया था की किसी को बताई तो विडियो वायरल कर दूंगा।

आज (घटना वाले दिन 9 दिसम्बर) विपुल डरा धमका कर बाइक पर बिठाकर नेहरू नगर,पटना के एक अपार्टमेंट के (हरिशंकर निवास, मकान नंबर -73) ग्राउंड फ्लोर के कमरे में हमे ले गया। आगे पीड़ित छात्रा ने बयान दिया हैं की मुझे जैसे ही अंदेशा हुआ की मेरे साथ कुछ गलत होने वाला हैं। मैने अपने केयर टेकर निशु दीदी उर्फ अनुराधा दी को करीब 1.24 मिनट पर फोन कर बताई की कुछ लोग गलत नियत से हमको कमरे में बंद करके रखें हुए है। अपने बयान में पीड़िता ने अपनी केयर टेकर के मोबाइल नम्बर के भी उल्लेख किया है।

आगे, वो बताती है कि इतने में वे लोग मेरा मोबाइल छीनकर स्विच ऑफ कर दिया। फिर चाकू और वीडियो की धमकी देकर चारों ने (विपुल कुमार,अमन भूमि,अश्विनी सिंह राजपूत व मनीष सिंह)मिलकर बारी-बारी से बलात्कार किया। मैं चारो को अच्छी तरह से पहचानती हूँ।

उन लोगो ने चाकू दिखाकर चारो ने धमकी दिया कि किसी को बताओगी तो तुम्हारे साथ तुम्हारे भाई को भी जान से मार देंगे। मैं काफी डर गई थी। वो लोग लगभग शाम 4 बजे मेरे हल्ला करने पर छोड़ कर भाग गए। घर मे डर और शर्म से घटना की जानकारी पापा को नही दिए थे।

आगे, पीड़िता का बयान है की केयर टेकर दी ने सारी बात पापा को बता दी। पापा ने पाटलिपुत्र और सिटी एसपी को फोन किया कि मेरे साथ कुछ लोग जोर जबरदस्ती कर रहे थे। फिर मामला दर्ज हुआ और पुलिस दबीश के कारण मुख्य आरोपी मनीष कुमार व विपुल कुमार ने शुक्रवार को कोर्ट में सरेंडर बोल दिया। इधर, केस की अनुसंधानकर्ता कुमारी अंचला ने दर्ज कांड संख्या 147/19 ,धारा -376 (डी) 420 /324 में फरार चल रहे अमन भूमि व अश्विनी सिंह राजपूत के खिलाफ वारंट जारी करने का अनुरोध कोर्ट से किया था। प्रथम श्रेणी, न्यायिक दंडाधिकारी माधवी सिंह ने अमन भूमि व अश्विनी सिंह राजपूत के खिलाफ एनबीडब्लू जारी कर दिया हैं। दोनो की गिरफ्तारी ख़ातिर पुलिस के प्रयास जारी है।

इस बेहद शर्मनाक घटना की चहु ओर न केवल निंदा हो रही है बल्कि लोगो का गुस्सा उफान पर है। पटना Live भी इस आरोप की जमकर मज़म्मत करता है। लेकिन सच जानने की प्रक्रिया में कुछ तथ्य ऐसे मिले है जो न्याय की प्रक्रिया के उस कथन “सौ गुनहगार भले छूट जाए पर एक निर्दोष को सज़ा नही होनी चाहिए” के तहत सच अपने पाठकों तक पहुचाने की प्रेरणा देते है। तो आइए इस आरोपित शर्मनाक घटना के तथ्यों से आपको अवगत कराते है।

घटना की जानकारी पापा को नही दिए- पीड़िता

पीड़िता ने अपने 164 के बयान दर्ज कराने के दौरान “घटना की जानकारी पापा को नही दिए थे।” की बात कही है। चुकी पापा की बात है तो उनके बाबत भी एक बेहद चौकाने वाली जानकारी मिली है मय सुबूत … कई अन्य सुबूत भी है जो पूरे घटनाक्रम को पुनः परिभाषित कर सकते है। जरूरत है सही अनुसंधान और सच को जानने की ….. क्रमशः 

पढ़े …

Fact Finding-2 (वीडियो) क्या पटना में सच में गैंगरेप हुआ है? या फिर मामला कुछ और है? हालात और सुबूत कुछ और ही इशारा कर रहे है..

Loading...