Super Exclusive (वीडियो) गांजे के नशे में धुत्त 2 लड़के साथ मे 2 लडकिया,हाथ मे स्टेयरिंग और बेलगाम रफ्तार से दौड़ती कार, कहर तो बरपना ही था, पटना Live की पड़ताल

38

#कार से गांजा बरामद किया गया है।
#कार पिता के नाम पर है जो बेटा चला रहा था।
#कार में 2 लड़के और 2 लड़कियां सवार थी।          #दोनो ही माइनर है, एक नामवर स्कूल के छात्र है।

पटना Live डेस्क। राजधानी पटना में बुधवार की शाम एक काली कार ने कहर बरपा कर दिया। एक शख्स को पहले  धक्का मारा और फिर भागने के क्रम में उक्त घायल व्यक्ति को तकरीबन कई किलोमीटर तक घसीटते रहे। इस खदेड़ा खदेडी और भागमभाग में उक्त शख्स का शव क्षत विक्षत हो गया। इस हृदयविदारक घटना को सैकड़ो आँखों के सामने अंजाम दिया गया। वही कुछ लोगो ने तो कहर बरपा रही काली कार का कई किलोमीटर तक पीछा भी किया। यानी काफी देर तक लोगों की मशक्कत के बाद कार को रोक जा सका तब तक बहुत देर हो चुकी थी। शव टुकड़ो में बट चुका था। इस दरिंदगी को देखकर घटना के बाद से लोगों में कार को तोड़फोड़ कर बुरी तरह से क्षतिग्रस्त कर दिया। वही घटना की जानकारी मिलने पर स्थानीय थाना पुलिस ने मौके पर पहुचकर दोनो लड़को को अपने कब्जे में करते हुए भीड़ से निकालकर थाना पहुचा दिया। वही मृतक के बाबत खबर लिखे जाते वक्त तक कोई जानकारी नही मिल पाई है। पुलिस  जांच में जुटी है। दरअसल, हीट ड्रैग और रन के दौरान उसके शरीर के कपड़े गायब हैं। काेई ऐसी चीज नहीं मिली है जिससे मकतूल की पहचान हो सके। पुलिस का कहना है कि देखने से मजदूर लग रहा है। वह कहां का रहने वाला है, खोजबीन की जा रही है।

इस दर्दनाक और खौफनाक हादसे के बाबत जब पटना Live ने पड़ताल की तो कुछ बेहद चौकाने वाले तथ्यों के बाबत जानकारी मिली है। घटना को अंजाम देने वाला युवक पटना के एक प्रतिष्ठित स्कूल का छात्र है। वही उसके साथ कार में मौजूद दूसरा लड़का भी न केवल उसका सहपाठी बल्कि एक निजी बड़े कोचिंग संस्थान से इंजीनियरिंग एंट्रेस खातिर क्लासेज भी करता है। वही कार गाड़ी चला रहे लड़के के पिता के नाम पर रजिस्टर्ड है। आरटीओ से मिली जानकारी के अनुसार कार आलोक चंद्रा के नाम पर रजिस्टर्ड है। कार को 1 नवम्बर 2018 को खरीदा गया था। यानी कार महज 4 महीने 5 दिन पुरानी है।

वही, घटना के वक्त कार में सवार रहा दूसरा लड़का नार्थ एस के पूरी के रहने वाला है। जिसके पिता सरकारी उपक्रम में सासाराम में इंजीनियर के पद पर तैनात है। घटना की जानकारी मिलने के बाद से दोनों लड़को के घर मे मातमी सन्नाटा पसरा है।

कहाँ, कब और कैसे 

पटना में बुधवार की शाम करीब 6 बजे हुई बेहद वीभत्स हादसे को नाबालिक ड्राइवर ने अंजाम दिया। घटना के वक़्त काले कलर की क्विड कार बड़ी तेजी से सड़क पर दौड़ रही थी। इस कार में कुल 4 लोग सवार थे। कार एक लड़का ड्राइव कर रहा था। जब यह कार रुपसपुर थाना क्षेत्र के चुल्हाईनगर के पास पहुची तो सड़क पर जा रहे एक लगभग 18-19 साल के युवक को जोरदार टक्कर मार दी। टक्कर लगने के बाद जख्मी युवक सड़क पर गिर पड़ा। कुछ देर के लिए कार रुकी भी पर लोगो को अपनी ओर आता देख कार ड्राइव कर रहे युवक ने कार भगा दी जिससे सड़क पर जख्मी पड़ा युवक की बॉडी कार के बम्फर में ही अटक गयी। कार बेतहाशा स्पीड में जा रही थी और बम्फर से फसा युवक सड़क पर घिसटता जा रहा था, सडको के किनारों पर मौजूद सडको लोग इस नज़ारे को देखते हुए चिल्लाने लगे। लेकिन कार रुकने का नाम नही ले रही थी और आरओबी पर चढ़ कर भागने लगी तो पुलिस को सूचना दी गयी। ममाले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने वायरलेसपर मैसेज प्रसारित कर दिया गया। तो विभिन्न थानों की पुलिस कार की घेराबंदी में जुट गयी।

वायरलेस पर प्रसारित होने के बाद उक्त काले रंग की कार को आशियाना नगर मोड़ के पास पुलिस जीप ने कार को देखा तो पीछा किया तो कार रामनगरी होते हुए राजीवनगर होते हुए इंद्रपुरी रोड नंबर पांच में पहुंच गयी। चालक इस दौर बेतहाशा रफ्तार से भगा रहा था। तभी एक सड़क पर स्पीड ब्रेकर से कार जोर से टकराई तो कार में फसी बॉडी सड़क पर गिर पड़ी। लेकिन यह पूरी बॉडी नही थी।आगे आगे फूल स्पीड में भागती कार और पीछे पुलिस जीप और सड़क पर क्षत विक्षत शव पब्लिक ने गबबड़ का अंदाज़ा लगाया और कार का पीछा शुरू कर दिया।

इस हीट, ड्रैग एन्ड रन मामले की वजह से सड़क पर अजीबो गरीब नज़र दिखाई दे रहा था।  बेतहाशा रफ्तार से दौड़ती कार के पीछे बाइको सवार लोग चिल्लाते लोग उनके पीछे पुलिस जो इस नज़ारे को देखता ठक मार कर खड़ा हो जाता। इंद्रपुरी से निकल भागने के बाद तकरीबन डेढ़ किलोमीटर दूर पाटलिपुत्रा में लोटस अपार्टमेंट के पास कार को लोगो ने घेर लिया। कार को क्षति ग्रस्त कर दोनो लड़को की धुनाई करने लगें। इसी बीच कार में मौजूद रही 2 लडकिया बचते बचाते भीड़ से निकलकर एक अपार्टमेंट में चली गई। तबतक पीछे से पहुंची पुलिस ने दोनों को भीड़ के चंगुल से मशक्क़त के बाद बचाया और पाटलिपुत्रा थाने में लेजा कर सुरक्षित बैठा दिया।

गोला रोड से लौट रहे थे, तभी

बीतें कई दशकों के राजधानी पटना के इतिहास में अबतक के सबसे वीभत्सतम हादसे को अंजाम देने वाले लड़के का नाम अनिकेत चंद्रा है जो दुर्घटना के वक्त कार ड्राइव कर रहा था। वही उसके साथ कार में मौजूद रहे लड़के का नाम  इंशात सिन्हा है। दोनों पाटलिपुत्रा के एक प्रतिष्ठित स्कूल में 11वीं के छात्र हैं। अनिकेत जहा गोसाई टोला के मंगलदीप अपार्टमेंट का रहने वाला है। वही ईशांत नार्थ एसके पूरी में रहता है। हादसे के वक्त कार में दो लड़कियां भी मौजूद थी। जिनके बाबत बताया जा रहा है इनकी गर्लफ्रेंड भी थी, लेकिन पाटलिपुत्रा में दोनों कार से उतर कर निकल भागी।

गांजे के नशे में धुत्त, गाडी से मिला गांजा और गो गो

वही, जब पुलिस ने कार की तलाशी ली तो कार से कई तरह के डॉक्युमेंट्स तो मिले ही साथ ही सिगरेट का पैकेट, एक पैकेट गांजा जो आधा भरा हुआ था, साथ ही गांजे को भर कर पीने वाला सिगरेट जैसे आकार का गो गो और अन्य कई सामना बरामद किया गया। शुरुआती पूछताछ में लड़कों ने बताया कि वो गांजे का सेवन करते है। साथ ही उनका कहना रहा कि वो सभी लोग गोला रोड से लौट रहे थे तभी यह हादसा हो गया। दरसअल, गोला रोड जाकर सभी ने गांजा पिया था और नशे में तफरी कर रहे थे और वक्त का पता नही चला और जब लड़कियों ने कहा कि जल्दी घर लौटना है तो लौटने के क्रम में ये हादसा ही गया। वही पुलिस गिरफ्त में आये दोनों छात्रों को नाबालिग बताया जा रहा है।

डेड बॉडी के उड़े चिथड़े

हादसे का शिकार हुए अनजान युवक केकार में फंसने और तकरीबन 15 किलोमीटर तक घसीटे जाने के कारण डेड बॉडी चिथड़े चिथड़े उड़ गये हैं। शरीर का कई हिस्से सडको पर बिखर गये। वही इंद्रपुुरी में आधी बॉडी प्राप्त हुई है, आधा चेहरा बिल्कुल गायब था। वही जब लोटस अपार्टमेंट के पास से पुलिस कार को लेकर थाने जा रही थी। इस दौरान लोगों ने हल्दीराम के पास हंगामा किया। कार को सड़क पर पलट दिया, कार को क्षतिग्रस्त कर दिया। इधर, मौके पर मौजूद पुलिस, डीएसपी ला एंड आर्डर राकेश कुमार सिंह, सिटी एसपी पीके दास ने आक्रोशित लोगों को शांत किया और माहौल को शान्त कर परिचालन सुचारू करवाया।

Loading...