बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

खुलासा –लीजिये अब बिहार के फ़र्ज़ी इंटर के बाद फ़र्ज़ी यूपीएससी 773वां रैंक होल्डर भी मिला

276

# लगातार दूसरी बार खुद को बताया यूपीएससी में चयनित

पटना Live डेस्क। अति उत्साहित मीडिया को फिर एक बार एक युवक ने बेहद शातिराना ढंग से न केवल मूर्ख बनाया है बल्कि मीडिया के विभिन्न माध्यम पर अपना चेहरा खूब चमकाया है। न केवल एक बार फिर मीडिया को मूर्ख बनाया बल्कि अपने घर और गांव समेत पूरे बिहार को चकमा देने में लगभग कामयाब रहा है। 4 दिन पहले देश के प्रतिष्ठित यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा का रिजल्ट जारी हुआ और फिर क्या था। मीडिय के सभी माध्यमो में बिना कुछ जांच हुआ हुआ करना शुरू किया और बिहारी टैलेंट और गुदड़ी के लाल ने जाने क्या क्या खबर कुछ यूं बनी शेखपुरा के बरबीघा निवासी अभिषेक को ने इस परीक्षा में 773वां रैंक हासिल किया है। कसीदे खूब पढे गए पर हकीकत खुली तो फिर एक फर्जीवाडा निकला और अब फ़र्ज़ी टॉपर के बाद फ़र्ज़ी आईएएस रैंक होल्डर भी बिहार का ही निकला।

बकौल बिहार की मीडिया के 773वां रैंक पाने वाला अभिषेक कुमार बरबीघा के खोजा गाछी का रहने वाला है। इसका फरेब और मां बाप समेत परिजनों को धोखा देने का सिलसिला पिछले चार सालों से जारी था। यह लड़का दिल्ली में रहकर आईएएस की तैयारी कर रहा था। मां बाप भी उसकी तैयारी से प्रसन्न थे। वो अपने बेटे को और आगे देखना चाहते थे, इसलिए वे उसकी हर मांग को भी कर्ज़ और यहाँ वहां से उधार लेकर पूरा करते रहे। पिछले साल भी शातिर अभिषेक ने  2015 में आए यूपीएससी के रिजल्ट में भी अभिषेक ने अपने को सफल बताया।यूपीएससी में उसने अपने घर वालों को 1028 रैंक बताया था। इस सूचना पर अभिषेक के घर में जश्न मानने लगा इसको लेकर पूरे गांव के लोगों ने जश्न मनाया। लेकिन विगत साल अभिषेक ने और अच्छा रैंक लाने के लिए फिर से परीक्षा देने के लिए अपने मां बाप को तैयार कर लिया। फिर वो एक साल तक दिल्ली में रहकर अपनी तैयारी करता रहा।
इस बार भी अभिषेक ने 2016 की परीक्षा में भी अपने को सफल बताया। इस परीक्षा में उसने अपना 773 रैंक बताया। इसको लेकर फिर उसके घर में जश्न मानने लगा। अभिषेक ने अपनी इस सफलता को अपने साथियों के व्हाटसअप ग्रुप पर भी शेयर किया। लेकिन कहते है न झूठ के पाव नही होते और फरेबी का फरेब छुप नही पाता। उस ग्रुप में वो लड़का भी था जो वास्तविकता में 773 रैंक हासिल कर यूपीएससी में सफल हुआ है। और आखिर झूठ अभिषेक सही में सिलेक्टेड गिरिडीह निवासी अभिषेक कुमार के सामने कब तक टिकता है। फिर  शातिर अभिषेक ने अपनी पोल खुलता देखकर गिरिडीह के अभिषेक से माफी मांगी और फरार हो गया।

Comments are closed.