बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

अच्छी खबर -(वीडियो) पूर्वी चंपारण डीएम की पत्नी डॉ रंगोली ने पेश की मानवता की मिसाल,अनजान बेसुध युवती ख़ातिर पहुची सदर अस्पताल

284

पटना Live डेस्क। बिहार के पश्चिम चम्पारण के डीएम  रमण कुमार की पत्नी डॉ रंगोली किसी व्यक्तिगत कार्य ख़ातिर एनएच 28 से गुजर रही थी। इस सफर के दौरान अचानक उनकी नजर सड़क किनारे बेसुध एक युवती पर पड़ी। नज़र पड़ी तो एमबीबीएस की पढ़ाई में लिए गए शपथ और इंसानियत के ज़ज़्बे ने आवाज लगाई और उन्होंने तुरंत अनजान युवती के समुचित इलाज के बाबत प्रयास शुरू करते हुए उन्होंने तुरंत स्थानीय छतौनी थाना और महिला थाना को सूचित किया।चुकी इत्तला डीएम साहब की पत्नी द्वारा दी गई तो पुलिस तुरंत हरकत में आई और चिन्हित उल्लेखित स्थान पर से युवती को एम्बुलेंस पर लादकर सीधे सदर अस्पताल में भर्ती कराया। जहाँ उसका इलाज किया जा रहा है। लेकिन मामला यही खत्म नही हुआ।पति कलक्टर हैं और पत्नी बिना किसी रुतबा रुआब के ठसक के पीड़ितों मजलूमों और जरुरत मंद लोगो की निःस्वार्थभाव से मदद करती है। साथ ही न केवल मदद करती है बल्कि लगातार उनकी स्थिति और इलाज का फॉलोअप भी करती है ताकि उनका समुचित इलाज भी करवाती है।
इसकी बानगी पुनः एक बार दिखी जब पूर्वी चंपारण जिले के जिलाधिकारी की पत्नी डॉ रंगोली ने अचेतावस्था में पड़ी युवती को सदर अस्पताल में पुलिस द्वारा न केवल भर्ती करवाया और उसका इलाज जारी रहे इसकी जानकारी भी लेती रही है। हालांकि युवती को इलाज होने के बावजूद भी वो विगत 30 घंटे बाद भी होश नहीं आई है।चुकी डॉ रंगोली एक प्रशिक्षित डॉक्टर है।।      

इस बात की जानकारी मिलने पर  बेसुध युवती को देखने डॉ रंगोली अपनी नन्ही बिटिया संग सदर अस्पताल पहुंची ताकि अस्पताल में भर्ती युवती का समुचित इलाज हो रही है या नहीं उसे स्वयं देखने पहुंची और चिकित्सकों से बात कर बेहोश पड़ी युवती का इलाज ढंग से करने का आग्रह किया।साथ ही बातौर एक डॉक्टर उन्हें कई सलाह भी दिया। अपने विजिट के दौरान युवती के इलाज के बाबत चिकित्सकों से जानकारी ली और अस्पताल प्रशासन को इस युवती के समुचित इलाज करने का लागतार आग्रह किया।
एक डॉक्टर के तौर डॉ रंगोली का युवती के बाबत चिंतित होने का फलाफ़ल साफ दिखाई दे रहा है और उम्मीद जताई जा रही है कि अनजान युवती जल्द ठीक होकर सड़क पर बेसुध पड़े होने का सच और खुद की पहचान को उजागर करेगी। वही डॉ रंगोली के इस बेहद निःस्वार्थ भाव से किये गए कार्यों के चर्चे जिले में चहु ओर है। वही आम जनता इनके इस स्नेहिल और ममतामयी व्यवहार को लेकर न केवल दुआएं दे रही है बल्कि उनकी मुक्त कंठ से प्रशासन भी कर रही है।

Comments are closed.