बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

मनी लांड्रिंग मामले में ED की कार्रवाई, रेलवे इंजीनियर के पास मिली करोड़ों की संपत्ति

290

पटना Live डेस्क। ईडी ने जमालपुर में पदस्थापित रेलवे के सीनियर सेक्शन इंजीनियर चंद्रेश्वर प्रसाद यादव की करीब साढ़े तीन करोड़ रुपये की चल-अचल संपत्ति जब्त कर ली है। यह संपत्ति चंद्रेश्वर प्रसाद, उनकी पत्नी उर्मिला देवी, पुत्र भारत भूषण व शशिभूषण के नाम पर खरीदी गई थी। चंद्रेश्वर प्रसाद ने पत्नी के नाम गर्दनीबाग पटना में मकान, महनार, दलसिंहसराय और हाजीपुर में जमीन के प्लाट भी खरीद थे।
ED ने 3 करोड़ 44 लाख 19 हजार 298 रुपए 11 पैसे की चल-अचल संपत्ति को जब्त किया है। इनके पास से 1।19 करोड़ से अधिक की 5 कीमती प्रॉपर्टी मिली है। 7 म्युचुअल फंड में 35।85 लाख से अधिक का इन्वेस्टमेंट मिला है। 4 इंश्योरेंस में करीब 8 लाख रुपए इन्वेस्ट किए गए हैं। 1।64 करोड़ रुपए के 29 फिक्स्ड डिपॉजिट का भी पता चला है। चन्देश्वर, उनकी पत्नी उर्मिला देवी व परिवार के अन्य सदस्यों के नाम से कई बैंक अकाउंट हैं। हर अकाउंट को खंगालने पर कुल 17।25 लाख रुपए मिले।
जानकारी के मुताबिक, चंद्रेश्वर यादव ईस्टर्न रेलवे जमालपुर में सीनियर सेक्शन इंजीनियर के पद पर कार्यरत थे। जब उनके खिलाफ रेलवे का स्क्रैप बेचने को लेकर सीबीआई और ईडी ने मामला दर्ज किया था। उनके साथ मेसर्स महारानी स्टील के प्रमुख देवेश कुमार का भी नाम सामने आया था। जिसके बाद दोनों के खिलाफ केस दर्ज हुआ और जांच आगे बढ़ी। बताया जा रहा कि सीबीआई ने फरवरी 2018 में इस संबंध में केस दर्ज किया था। वहीं ईडी की टीम ने फरवरी 2020 में ये मामला दर्ज किया था। दोनों ही एजेंसियां लगातार जांच में जुटी हुई थीं। इसी बीच मंगलवार को प्रवर्तन निदेशालय की टीम ने पटना में रेलवे के तत्कालीन सेक्शन इंजीनियर चंद्रेश्वर यादव के घर छापेमारी की और करीब साढ़े तीन करोड़ की संपत्ति जब्त की।

Comments are closed.