बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News (Exclusive) हाथ मे सोने और डायमंड की ब्रेसलेट,महंगी एसयूवी का काफिला,फर्राटेदार अंग्रेजी बोलने वाली सुनहरे बालोवाली गर्लफ्रैंड और आँखों पर चश्मा – मिलिए ड्रग लार्ड ऑफ बिहार मानू से

63

पटना Live डेस्क। राजधानी की सड़कों पर दनदनाती एक चमचमाती ऑफ व्हाइट सिल्वर मित्सुबिशी पजेरो जिसके ड्राइविंग व्हील को कण्ट्रोल करता एक 30-35 साल का युवक जिसकी आंखों पर होता है डार्क कलर का एवियेटर और साथ मे बैठी एक सुनहरे बालो वाली सुंदरी। ये दुनिया के सबसे खूंखार माने जाने वाले मैक्सिकन ड्रग लार्ड बेस्ड फिल्मी कहानी के पात्र का नही बल्कि बिहार समेत पड़ोसी राज्य नेपाल और बांग्लादेश ड्रग्स सप्लाई नेटवर्क के ड्रग कार्टेल सिंडीकेट के महज कुछ सालों में सबसे ताकतवर माफिया बॉस बनकर उभरे अभिमन्यू सिंह उर्फ मानू का परिचय है। इस नशे के सौदागर ने महज 3 सालों के अंदर राजधानी पटना समेत सूबे के मुजफ़्फ़रपुर,गया, छपरा, भागलपुर,मोतिहारी और बेतिया समेत कई जिलों नीले धुएं के एक ऐसे सुव्यवस्थित नेटवर्क को खड़ा कर दिया है जो ड्रग्स सप्लाई के सबसे बड़े सप्लाई नेटवर्क में शुमार किया जाने लगा है। मानू का पूरा ग्रुप चेन सिस्टम माध्यम से काम करता है।

इस धंधे की बदौलत मानू ने महज कुछ सालों में ही अकूत दौलत कमा ली है। बकौल जानकारों के मानू के पास इस वक्त 6 लग्जरी एसयूवी गाड़ियों, राजधानी में ही 5 जगह करोड़ो मूल्य की ज़मीन, शहर के पॉश इलाको में 2 बीएचके और 3 बीएचके 5 फ्लैट्स के अलावे भी नेपाल की राजधनी में भी काठमाण्डू में एक फ्लैट होने की बात कही जाती है। इन संपत्तियों के अलावे भी नशे के इस सौदागर के कई हाइड आउट बताए जाते हैं।

 

सूरा, सुंदरी और सफेद कुर्ता

नीले धुएं के कारोबार से हुआ अकूत कमाई ने कभी पटना के सडको पर बाइक से चलने वाले इस युवक ने करोड़ों की संपत्ति तो खड़ी कर ही ली है। पैसों की रेलमपेल हुई तो जमकर एय्याशी भी करने लगा। इसके तकरीबन आधा दर्जन लड़कियों से बेहद करीबी रिश्ते रहे है। जिनको ये देश मे ही नही बल्कि विदेश भी लेकर जबतब निकल जाता रहा है। वर्त्तमान में मानू की पटना के बोरिंग रोड के एक हॉस्टल में रहकर पढ़ने वाली लड़की से जमकर आशनाई जारी है। त्योहारों के बीच उक्त लड़की के साथ ये थाईलैंड की सैर करने गया था।
इस शातिर ने विभिन्न हॉस्टलों में रहकर पढ़ाई करने वाली तकरीबन एक दर्जन लड़कियों को अपने सप्लाई चेन में जोड़ रखा है। दरअसल धंधे में शामिल लड़कियों के बाबत भी जानकारी मिली है कि वो भी नशे की आदी है। जिसका फायदा उठाते हुए उनको अपनी ढाल बनाकर उनसे कुरियर का काम करवाता है।

नशे के इस शातिर सौदागर में पैसों की बदौलत अपनी छवि को बेहतर करने ख़ातिर राजधानी के विभिन्न सफेद कुर्ता पहनने वालो से नजदीकी भी कायम कर रखी ताकि बुरे वक्त में उनका साथ मिल सके। बताया जाता है कि इसी साल पटना से मुजफ़्फ़रपुर के बीच कही पर ये बडी खेप के संग नार्कोटिक्स विभाग के कारिंदों द्वारा डिटेन किया गया था। तब इसने काफी हाथ पांव मारे और अपने खादी वाले सम्पर्को को फोन घुनाया पर किसी ने खुलकर मदद की। लेकिन शातिर ने मुहँ मांगी नोटो की बरसात कर अपनी आज़ादी सुनिश्चित कर ली।

लेकिन इस शातिर ने मिले झटके सबक लेते हुए अब खुद के दागदार दामन को सफेदपोश बनाने की ठानी। पैसे को जबरदस्त आवाजाही के बल पर इसने सत्ता की गलियारों में सियासी कनेक्शन फिट करने के अभियान का श्रीगणेश कर दिया। चाहत पैसे के बल पर सत्ताधारी दल या विपक्ष में एक पद पाने की कोशिश शुरू कर दी और रंगीन कमिज़ो से सफेद कुर्ते पहनने लगा।

राजधानी में नशे का कारोबार बढ़ता ही जा रहा है। सूबे में शराबबंदी के बाद नशे के कारोबारियों ने अब ब्राउन शुगर जिसे शार्ट में बीएस(BS) नाम दिया गया है को राजधानी की चौक चौराहों सडको और गलियों में पहुंचाना शुरू कर दिया है। बुधवार को बीएन कॉलेज मोड़ के पास एक लग्जरी गाड़ी से पांच करोड़ का ब्राउन शुगर पुलिस जब्त किया।बुधवार को मादक पदार्थों की तस्करी का एक बड़े रैकेट का भंडाफोड़ करते हुए पांच करोड़ रुपये का ब्राउन शूगर जब्त किया। इस मामले में पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने तीनों तस्करों को दबोचा तब ये पजेरो पर सवार थे और 9 किलो 800 ग्राम की बडी खेप को 26 बड़े पैकेटो में 13 हजार पुड़िया में बांध कर ब्रीफकेस में भर कर सप्लाइ के लिए पटना सिटी जा रहे थे। तभी रास्ते में पुलिस के हत्थे चढ़ गये। लेकिन गिरोह के सरगना अभिमन्यु सिंह उर्फ मानू और एक और सप्लायर परसा निवासी सुदामा राम फरार होने में कामयाब रहे। सूरज गर्दनीबाग में दर्ज एनडीपीएस एक्ट का फरारी आरोपित भी है।तस्करों ने पुलिस के सामने सनसनीखेज खुलासा करते हुए बताया कि ब्राउन शूगर की सबसे अधिक खपत युवा वर्ग विशेष कर स्कूल और कॉलेज के छात्रों के बीच है। वही इसके सबसे बड़े खरीदार हैं।

सफ़ेद कुर्ता पहनने की कोशिश में सरगना कामयाब ही होने वाला था कि इसके पाप का घड़ा फुट गया और अब यह शातिर नशे का सौदागर पटना पुलिस का वांटेड बन गया है।इसकी गिरफ्तारी ख़ातिर एक विशेष टीम का गठन किया गया है। गिरोह के सरगना व अन्य को पकड़ने के लिए छापेमारी की जा रही है।

Comments are closed.