बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BREAKING (exclusive) SP(E) के नेतृत्व में पुलिस को मिली बड़ी सफलता कुख्यात रजत 2 साथियों संग गिरफ्तार, 2 पिस्टल और 18 गोलियों बरामद

251
  • हरबे हथियार के साथ बाइक पर सवार होकर जा रहे थे तीनो युवक
  • गिरफ्तार रजत पिछले साल सैदपुर हॉस्टल के छात्र गौतम हत्याकांड में है नामज़द
  • वर्त्तमान में बेल पर है, कोचिंग संस्थाओं में एडमिशन दिलाने का करता है काम

पटना Live डेस्क। राजधानी में वाहन चेकिंग के दौरान बहादुर थाना पुलिस को उस वक्त बड़ी कामयाबी हाथ लगी जब एक बाइक पर सवार होकर 3 युवको को जांच ख़ातिर रोका गया। पुलिस ने जब उनकी तलाशी ली तो उनके पास से पुलिस को 2 पिस्टल और 18 गोलिया मिली। तीनो को गिरफ्तार कर थाने लाया गया। गिरफ्तार युवकों की पहचान रजत कुमार, आशीष किशोर और रुदल कुमार तौर पर हुई है।

मिली जानकारी के अनुसार बहादुर थाना की क्वीक मोबाइल यूनिट रूटीन गश्त पर थी जब अचानक एक बाइक पर सवार होकर जाते 3 युवको पर नज़र पड़ी। एक बाइक पर तीन लड़को को देखकर जब क्वीक मोबाइल यूनिट ने इनको रोका तो ये हड़बड़ा गए। फिर क्या था पुलिस वालों ने जब इनकी तलाशी ली तो इनके पास से 2 पिस्टल और 18 गोलियां बरामद की गई।

वही गिरफ्तार रजत कुमार मूल रूप से औरंगाबाद का रहने वाला है। वर्त्तमान में अपने परिजनों के साथ विगत कई सालों से संदलपुर में रह रहा है। रजत का आपराधिक इतिहास रहा है। वही रजत कोचिंग एडमिशन कराने वाले कथित मामा गैंग का सक्रिय सदस्य है। इस मामा गैंग का नाम पहली बार तब सामने आया था जब गिरफ्तार रजत कुमार पिछले साल 30 जून 2019 की रात सैदपुर हॉस्टल में रह रहे गौतम हत्याकाण्ड में नामज़द हुआ था। तब प्राथमिकी दर्ज कराने वाले मार डाले गए गौतम के दोस्त रोहित ने मामा गैंग का नाम लिया था। जो वर्त्तमान में नाम बदल कर उत्तर भारतीय छात्र संगठन के तौर पर जाना जाता है।

दरअसल, पिछले वर्ष 30 जुलाई की शाम औरंगाबाद जिले के गौतम कुमार जो बीएन कॉलेज में पार्ट वन का छात्र था और सैदपुर हॉस्टल में रहता था कि गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।वही,गौतम के साथ रहे निशांत को भी गोली मार जख्मी कर दिया गया था।दरअसल कोचिंग में नामांकन कराने को लेकर बीते 21 मई 2019 को दो गुटों में झड़प व विवाद हुआ था। इसमें गौतम को अगवा भी किया गया था। हालांकि, तब पुलिस की तत्परता से उसे सुरक्षित बचा लिया गया था। गौतम हत्याकांड बहादुर थाना में काण्ड संख्या 189/19 के तौर पर दर्ज है। दर्ज मुकदमें कुल 10 युवको को नामज़द किया गया था। उसमें से एक नामज़द अभियुक्त पिस्टल के साथ गिरफ्तार ये संदलपुर निवासी रजत कुमार भी है। लेकिन वर्त्तमान गौतम हत्याकांड रजत बेल पर है।

वही, रजत के साथ गिरफ्तार आशीष किशोर पीएमसीएच क्वार्टर का रहने वाला बताया जा रहा है। वही तीसरा युवक रुदल कुमार बताया जा रहा है। पुलिस गिरफ्तार तीनो से पूछताछ में जुटी है आखिर पिस्टल और ढेर सारी गोलिया लेकर ये कहा और क्यो जा रहे थे।वही, कयास लगाए जा रहे है कि गिरफ्तार रजत अपने साथियों आशीष और रुदल के साथ हरबे हथियार के साथ किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने जा रहा था। लेकिन सिटी एसपी (ईस्ट) जिंतेंद्र कुमार की सख्त हिदायत की वजह से बहादुर थाना पुलिस की थाना क्षेत्र में वाहन चेकिंग और लगातार पेट्रोलिंग की वजह ये तीनो पुलिस के हत्थे चढ़ गये।

पुलिस लगातार गिरफ्तार युवको से पुछताछ कर रही है ताकि उनकी मंशा जान सके। वही गिरफ्तार दोनो युवको के आपराधिक इतिहास के बाबत जानकारी इकट्ठा करने का प्रयास भी किया जा रहा है।

Comments are closed.