बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News – DG होमगार्ड व फायर सर्विसेज राकेश कुमार मिश्रा की सराहनीय पहल जवानों की समस्याओं के शीघ्र निदान का दिया आश्वासन

20

- Advertisement -

पटना Live डेस्क। बिहार कैडर के भारतीय पुलिस सेवा के 1986 बैच के अधिकारी राकेश कुमार मिश्रा वर्त्तमान में डीजी होमगार्ड व फायर सर्विसेज का पदभार संभाल रहे है। लंबे समय तक केन्द्रीय प्रतिनियुक्ति पर ITBP में तैनात रहे और बीते साल 2019 के अगस्त महीने अपने मूल कैडर में लौटे आईपीएस मिश्रा को बिहार सरकार ने डीजी होमगार्डस के तौर पर तैनात किया।
बतौर डीजी कमान संभालते ही आईपीएस मिश्रा ने सूबे के होमगार्ड के जवानों की समस्याओं के सामाधान के लिए प्रयास शुरू कर दिए।होमगार्ड्स के जवानों की समस्याओं तथा उनके निदान की प्रक्रिया के तहत सीधा संवाद को उन्होंने अपनी योजना में शामिल किया। इसके लिए उन्होंने सूबे के तमाम होमगार्डस के प्रशिक्षण केंद्रों और जिलों का दौरा करने की पहल की। अपने पूर्वनिर्धारित कार्यक्रमों के बाबत जानकारी साझा कर समस्याओं के शीघ्र सामाधान करने की प्रक्रिया के तहत जवानों से तय स्थान सीधा संवाद करने का सरहानीय कदम उठाया।

                     इसी क्रम में डीजी मिश्रा नवादा पहुचे और जवानों से बातचीत कर उनकी समस्याओं के बाबत जानकारी लेते हुए कहा होमगार्ड के जवानों की हर समस्याओं का निदान होगा। दरअसल, अपने तय कार्यक्रम के तहत नवादा पुरानी जेल स्थित फायर विभाग कार्यालय में होमगार्ड डीजी राकेश कुमार मिश्र ने होमगार्ड जवानों के साथ बैठक की। इस दौरान वे गृहरक्षकों की समस्याओं से भी अवगत हुए। समस्यायों और खामियों की जानकारियों मिलने के बाद यह ऐलान किया कि मैं आप सभी को आश्वासन देता हूँ कि इन समस्याओं के त्वरित निदान की प्रक्रिया जल्द शुरू की जाएगी। डीजी राकेश कुमार मिश्रा ने नवादा में होमगार्ड जवानों के साथ हुई बैठक के दौरान किया।

दरअसल,अपने तय कार्यक्रम के तहत नवादा पुरानी जेल स्थित फायर विभाग कार्यालय में होमगार्ड डीजी राकेश कुमार मिश्र ने होमगार्ड जवानों के साथ बैठक की। इस दौरान वे गृहरक्षकों की समस्याओं से भी अवगत हुए।

- Advertisement -

जवानों की समस्याओं से अवगत होने के बाद डीजी ने कहा कि होमगार्ड जवानों की समस्या के निष्पादन के लिए प्रखंड स्तर पर संगठन को पुनर्गठित किया गया है। प्रखंड स्तर पर कंपनी का गठन किया जा रहा है प्लाटून कमांडर समस्यों की जानकारी सेक्शन कमांडर से करेंगे। सेक्शन कमांडर इसकी जानकारी कंपनी कमांडर को देंगे।

उन्होंने कहा कि पहले का बकाया राशि जल्द ही हर होमगार्ड का सुनिश्चित हो जाएगा। सरकार का नियम है कि किसी होमगार्ड का छुट्टी के दौरान निधन होता है तो उनके परिवार को दो हजार रुपये आजीवन पारिवारिक पेंशन भी मिलेगा। चार लाख का अनुदान सरकार देगी। उन्होंने बताया कि मृतक होमगार्ड का पुत्र जो इंटर पास हो उसको अनुकंपा के आधार पर होमगार्ड में नौकरी मिलेगी।

सरकार के इस आदेश को हम लोग 15 दिनों के अंदर पूरा कर लेंगे। मिश्र ने कहा कि हमने ठाना है कि 15 दिनों के अंदर यह तीनों काम हो जाएगा। पहले इस तरह के कई मामले लंबित थे, जिसे अब सरल बनाते हुए निष्पादन का अधिकतम समय 15 दिन का रखा गया है।

डीजी ने कहा कि फरवरी से गृहरक्षा वाहिनी के जवानों को भी अत्याधुनिक हथियारों एसएलआर की ट्रेनिंग दी जाएगी। प्रदेश में करीब एक हजार होमगार्ड जवान बैंकों में करेंसी चेस्ट की ड्यूटी में कार्यरत है। ऐसे जवानों को स्पेशल बटालियन बनाकर प्रशिक्षण दिया जाएगा। इस मौके पर एसपी हरिप्रसाथ एस, सदर डीएसपी विजय कुमार झा, नगर थाना अध्यक्ष आदि कई पुलिस पदाधिकारी मौजूद थे।

- Advertisement -

Comments are closed.