बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News – भागलपुर में पुलिस हिरासत में पिटाई से सिंचाई विभाग कर्मी की मौत पर बवाल, थानेदार सस्पेंड

थानाध्यक्ष बरारी प्रमोद साह को निलंबित, उनके विरुद्ध विभागीय कार्रवाई का भी दिया गया आदेश

252

पटना Live डेस्क।भागलपुर से बड़ी खबर सामने आई है।भागलपुर में संजय यादव नामक एक सिंचाई विभाग के कर्मी की पुलिस के हिरासत में पिटाई के वजह से मौत हो गई है।इस घटना के बाद इलाके में लोगों के बीच जबरदस्त आक्रोश व्याप्त है। घटना के संबंध में बताया जाता है कि भागलपुर के बरारी थाना की पुलिस ने मायागंज इलाके से मारपीट की घटना को लेकर सिंचाई विभाग के कर्मी संजय यादव को गिरफ्तार कर थाना ले गई थी। इसके बाद थाना में संजय यादव के साथ मारपीट की गई। जानकारी के मुताबिक थाना में ही संजय यादव की मौत हो गई।घटना मंगलवार की बताई जा रही है।

भागलपुर में होली के दिन मारपीट की घटना में गिरफ्तार बांका में सिंचाई विभाग के कर्मी की पुलिस हिरासत में पिटाई से मौत पर बवाल मचा हुआ है। घटना से गुस्साए ग्रामीणों ने रात से ही थाने का घेराव कर पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। घटना से इलाके में जहां तनाव का माहौल है।

लोगों के आक्रोश के बाद पुलिस थाना से फरार

मक़तूल संजय कुमार यादव बांका में लघु सिंचाई विभाग के कार्यालय में क्लर्क के रूप में कार्यरत थे। घटना को लेकर पुलिस ने किसी भी तरह की मारपीट से इनकार करते हुए दावा किया कि बीमारी की वजह से संजय की मौत हुई है। वहीं मृत कर्मचारी के परिवार के सदस्यों ने आरोप लगाया कि यह हिरासत में हत्या का मामला था और इस घटना में शामिल अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

गले में गमछा बांध कर घसीट
मृत संजय यादव की बेटी मोनिका भारती ने मंगलवार को पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि अपने दोस्तों के साथ होली खेलकर पिता घर लौटे ही थे कि एसएचओ बरारी पुलिस स्टेशन प्रमोद शाह के नेतृत्व में पुलिस के लगभग 25 लोग जिसमें वर्दीधारी और सिविल ड्रेस दोनों शामिल थे रात के करीब 9 बजे जबरन उसके घर में प्रवेश किया और पिता के गले में रखे तौलिया की मदद से घसीटते हुए ले गए। उसके बाद वे वापस नहीं लौटे। कहा कि-उनके कुछ रिश्तेदारों ने उन्हें सोमवार की रात को हवालात के भीतर देखा और दावा किया कि वे देर रात तक थाने में ही थे, लेकिन पुलिस अधिकारी उनसे बात करने या यादव को रिहा करने के लिए तैयार नहीं थे। इसके बाद रात करीब 11.30 बजे जब परिजन थाने गए, तो पुलिस ने उन्हें सूचना दी कि हवालात में यादव की मौत हो गई है। पुलिस की बात पर विश्वास करने से इनकार करते हुए परिजनों ने दावा किया कि उसकी मौत हिरासत में पुलिस की पिटाई से हुई है।

परिजनों ने थाने के बाहर धरना दिया, जबकि उनके सहयोगियों ने मायागंज अस्पताल के सामने विरोध प्रदर्शन किया, जहां उनके शव को शव परीक्षण के लिए रखा गया था। भागलपुर एसएसपी निताशा गुड़िया ने कथित हिरासत में मौत के बाद घटनास्थल का दौरा कर मौत की न्यायिक जांच के आदेश दिए। घटनास्थल पर सीसीटीवी फुटेज की जांच की गई वहीं मेडिकल बोर्ड की टीम ने पोस्टमार्टम के दौरान वीडियो ग्राफी भी करवाई गई। एसएसपी ने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार है।

इस घटना के बाद स्थानीय लोगों ने थाना पहुंचकर जमकर बवाल काटा।घटना की सूचना मिलने के बाद भागलपुर के एसएसपी भी थाना पहुंचे। थाना पहुंचकर एसएसपी ने उग्र लोगों को समझाया।उग्र लोगों के द्वारा थाने का घेराव कर पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की जा रही थी।घटना के बाद पूरे इलाके में पुलिस को लेकर आक्रोश का माहौल व्याप्त है।घटनास्थल के आसपास के इलाकों में किसी अनहोनी को लेकर भारी पैमाने पर पुलिस बल को तैनात किया गया है।

Comments are closed.