बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

Super Exclusive(वीडियो)सीएम हॉउस में तैनात ASI की दरिंदगी और गुंडई के आगे सिसकता एक परिवार,कहाँ है सुशासन? 

कुल्हाड़ी से महिला के सिर पर किया वार, बेटे का तोड़ा हाथ फिर भी स्थानिए पुलिस का उदासीन व्यवहार, ASI और उसका बेटा इसे बता रहे है टेलर दिखाएंगे पूरी फिल्म जल्द

873

पटना Live डेस्क। बिहार में सुशासन है। यानी कानून का राज है। यह दावा करते नही अघाते है सूबे के 37वें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार।लेकिन ज़मीनी हक़ीक़त क्या है इससे हरआमो खास न केवल वाकिफ़ बल्कि कभी न कभी भुक्तभोगी रहा है। हालात का तफसरा करे तो हालात समरथ को न दोष गोसाई जैसे बन चुके है। इसी क्रम में नये साल की खुशी के बीच कथित तौर पर CM हाउस में तैनात एक एएसआई की दरिंदगी ने एक परिवार को न केवल अस्पताल पहुचा दिया है बल्कि बाकायदा खौफ़ ऐसा की जो अस्पताल में ईलाजरत माँ और भाई समेत खुद को बचाने की गुहार लगाते एक युवक थाने के चक्कर काट रहा है। तमाम सेवापानी और मनुहार के बाद किसी तरह मामला दर्ज हो गया है पर पुलिस कार्रवाई की बात कहकर टाल रही है। इसी बीच ASI और उसका बेटा लगातार पीड़ित परिवार को जला कर मार डालने का खुल्ला ऐलान करते छुट्टा घूम रहे है।

दरअसल, इस दरिंदगी के पीछे का सच जान कर आप सन्न रह जाएंगे। राजधानी पटना में मुख्यमंत्री आवास की सुरक्षा में तैनात एक ASI देवेंद्र नारायण सिंह मूल रूप से मधुबनी जिले अन्दह गांव पंडौल थाना क्षेत्र के मूल निवासी है। इन पर दरिंदगी और दबंगई का आरोप लगाने वाले कोई गैर नही बल्कि इनके स्वर्गीय सगे भाई हरि नारायण सिंह की पत्नी और बेटे है। जो रिश्ते में इनकी भाभी और भतीजे है। दोनों परिवारों के बीच घर को लेकर काफी लंबे समय से विवाद जारी है। लेकिन नए साल दूसरे दिन यानी 2 जनवरी को दोनों परिवार भीड़ गए फिर क्या हुआ सुनिए पीड़ितों की जुबानी

मामला दर्ज पर अबतक नही हुई गिरफ्तारी 

वही,पीड़ित पक्ष पर प्राणघातक हमला करने से बुरी तरह जख्मी होकर अस्पताल में इलाजरत सीतादेवी ने स्थानिए थाने में लिखित आवेदन देकर एएसआई देवेंद्र नारायण सिंह उनके बेटे विनीत और दामाद सोनू को नामजद करते हए मामला दर्ज कराया है।काफी हुल हिज्जत के बाद किसी तरफ थाने में 2 जनवरी को दर्ज करा दिया है।

लेकिन मामला दर्ज होने के बावजूद स्थानिए थाना की भूमिका संदिग्ध बनी हुई है।अबतक इस मामले में कोई गिरफ्तारी नही हुई है। वही नामजद अभियुक्त देवेंद्र सिंह व अन्य सभी आरोपी गाँव मे ही न केवल मौजूद है बल्कि बाकायदा पीड़ित परिवार को अंजाम भुगतने की धमकी दे रहे है।

वही, मामला दर्ज होने के बावजूद दोनों पिता पुत्र की गिरफ्तारी नही होने से पीड़ित परिवार जहाँ भयाक्रांत है। वही अपने को रसूखदार और CM हॉउस में तैनाती की धौस दिखाने वाले देवेंद्र की गिरफ्तरी में पुलिस की सुस्ती या फिर लापरवाही की वजह से ग्रमीणों के बीच ऊपर से दवाब की चर्चा जोरों पर है। इधर,पीड़ित परिवार ख़ौफ़ज़दा होकर न्याय की गुहार कर रहा है।

Comments are closed.