बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BPSC Paper Leak| 21 दिनों से जेल में बंद DySp रंजीत कुमार रजक सस्पेंड,गृह विभाग ने जारी किया आदेश

13 जुलाई को गिरफ़्तार डीएसपी रंजीत रंजीत को बिहार सरकार गृह विभाग द्वारा तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। मंगलवार को गृह विभाग के द्वारा बेउर जेल में बंद आरोपी डीएसपी के निलंबन जारी कर दी अधिसूचना, बीपीएससी पेपर लीक कांड की जांच कर रही आर्थिक अपराध इकाई को डीएसपी रंजीत रजक के खिलाफ कई अहम सबूत मिले थे, 3 बार पूछताछ के बाद बीते 13 जुलाई को किया गया गिरफ्तार

327

पटना Live डेस्क। बिहार पुलिस की आर्थिक अपराध इकाई ने बिहार लोकसेवा आयोग (बीपीएससी) की 67वीं संयुक्त प्रारंभिक परीक्षा के कथित पेपर लीक मामले की जांच के सिलसिले में 13 जुलाई को बिहार पुलिस के एक उपाधीक्षक (डीएसपी) रंजीत कुमार रजक को गिरफ्तार किया  था। तब से पटना के बेउर जेल  में बंद बिहार पुलिस के DSP रंजीत कुमार रजक को सस्पेंड कर दिया गया है। इस कार्रवाई के बारे में मंगलवार को राज्य के गृह विभाग की तरफ से एक आदेश जारी कर दिया गया है। पिछले 21 दिनों से रंजीत कुमार रजक पटना के बेउर जेल में बंद हैं।

                        डीएसपी का नाम 9 मई को हुए बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) के 67वें एग्जाम के पेपर लीक कांड में सामने आया था। आर्थिक अपराध इकाई (EOU) की टीम ने इन्हें दो बार की पूछताछ के बाद तीसरी बार में पटना से ही गिरफ्तार किया था।

बिहार स्पेशल आर्म्ड पुलिस,पटना में थी तैनाती 

उस वक्त DSP रंजीत कुमार रजक की पोस्टिंग पटना में ही बिहार स्पेशल आर्म्ड पुलिस के 14वीं बटालियन में थी। दरअसल, इस केस की जांच करते हुए EOU की टीम ने जब गया के डेल्हा स्थित राम शरण सिंह इविनिंग कॉलेज प्रिंसिपल शक्ति कुमार को गिरफ्तार किया था। फिर इससे हुई पूछताछ और इसके मोबाइल को खंगालने के बाद DSP रंजीत कुमार रजक का नाम सामने आया था। कथित मुख्य आरोपी शक्ति कुमार ने अपने मोबाइल से DySp को एग्जाम के दिन ही क्वेश्चन पेपर का फोटो खिंच कर भेजा था।

रडार पर कई अन्य अधिकारी भी

EOU के DIG की तरफ से इस मामले में एक रिपोर्ट गृह विभाग और पुलिस मुख्यालय को भेजी गई थी। इसके बाद ही आज गृह विभाग की तरफ से DSP के सस्पेंशन की कार्रवाई की गई। इस मामले में रंजीत कुमार रजक से कनेक्शन के एक दर्जन से भी अधिक अधिकारी जो अलग-अलग विभागों में पोस्टेड हैं, EOU के रडार पर हैं। इनमें से कई से पूछताछ भी हो गई है। सरकारी नौकरी के लिए हुई इनके बहाली की प्रक्रिया संदेह के घेरे में है।

सोशल मीडिया पर BPSC-PT परीक्षा का प्रश्न पत्र

उल्लेखनीय है BPSC के इतिहास में पहली बार आठ मई, 2022 को 67वीं बीपीएससी की पीटी परीक्षा का प्रश्न पत्र सोशल मीडिया पर न केवल लीक हो गया था बल्कि वायरल हो गया था। प्रश्न पत्र लीक होने के बाद सकते कि हालात से दो चार बिहार लोक सेवा आयोग ने बिहार पुलिस से जांच का आग्रह किया तदुपरांत  जांच टीम की रिपोर्ट के आधार पर इस परीक्षा को रद्द घोषित कर दिया था।

Comments are closed.