बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News – 2 माह के दुधमुँहे बच्चे की माँ महिला सिपाही ने गले में फंदा लगा की आत्महत्या

कोरोना से पहले ससुर और 4 दिन बाद मुखिया पति की मौत का सदमा बर्दाश्त न कर सकी महिला सिपाही 2 माह और 3 साल के बेटों को मोह भी उसे खुदकुशी करने से नही रोक पाया।

960

पटना Live डेस्क। कोरोना संक्रमण की रफ्तार भले धीरे धीरे कमजोर पड़ रही रहा है पर इसके कहर का आघात इंसान की ज़िंदगियों पर बेहद गहरा प्रभाव डाल चुका है और डाल रहा है। इसी क्रम में बिहार के समस्तीपुर जिले से एक बेहद मर्माहत करने वाली खबर मिली है। दरअसल पहले ससुर एवं फिर चार दिन बाद ही पति की मौत का सदमा महिला सिपाही बर्दाश्त नहीं कर सकी। उसने बुधवार को गले में फंदा लगा आत्महत्या कर ली। उसकी पहचान रीता देवी के रूप में की गयी है। वह सहरसा में बीएमपी में सिपाही थी। फिलहाल वह मातृत्व अवकाश पर थी। उसके पति मंजीत कुमार नगरगामा पंचायत के मुखिया थे। उनकी हाल ही में कोरोना से मौत हुई है। पति की मौत के पूर्व उसके ससुर की भी कोरोना से मौत हो गयी थी। तब से मक़तूल बेहद गुमसुम और उदास थी। साथ ही बीतते वक्त के साथ डिप्रेशन का शिकार हो गई।

उल्लेखनीय है कि नगरगामा पंचायत के युवा व  चर्चित मुखिया मंजीत कुमार की मौत 11 मई को कोरोना से हो गई थी। वह 5 मई को एंटीजन जांच में कोरोना संक्रमित होने के बाद होम क्वारेंटाइन थे। उनकी स्थिति खराब होने के बाद परिजन इलाज के लिए बेगूसराय ले जा रहे थे कि रास्ते ही उनकी मौत हो गई। कुछ दिन पूर्व ही उनके पिता सुरेंद्र महतो का निधन भी कोरोना से हो गया था।

2 माह पहले ही दिया था दूसरे बेटे को जन्म

मृतका ने 2 महिने पहले अपने दूसरे बेटे को जन्म दिया था। मृतका अपने पीछे दो बेटों को छोड़ गई है। बड़ा बेटा प्रियांश जहाँ 3 साल का है वही छोटा बेटा महज 2 महिने का है। घटना की जानकारी मिलते ही पंचायत के सोयरा स्थित रीता के आवास पर ग्रामीणों की भीड़ उमड़ पड़ी। सभी बेहद मर्माहत थे। सूचना मिलने पर थाने से पुलिस के साथ ही रीता के मायके से भी रिश्तेदार पहुचे। मृतक मुखिया के बड़े भाई संजीव कुमार ने बताया कि रीता डिप्रेशन की शिकार हो गई थी।

बुधवार दोपहर बाद भीतर से बंद दरवाजा जब आवाज के बाद भी नहीं खोला गया तब दरवाजा तोड़ने पर पाया कि उसने फंदा लगाकर जान दे दी है। रीता की मां दयावती ने भी बताया कि पति की असमय मौत से उनकी बेटी बेहद उदास रहने लगी थी। हमेशा गुमसुम रहा करती थी। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए समस्तीपुर भेज दिया है।प्रभारी मुखिया शुभेंदु कुमार चौधरी समेत अन्य ग्रामीणों ने घटना पर शोक संवेदना जतायी है।

Comments are closed.