बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

बिहारी सुप्रभात बने गूगल इंडिया के वाइस प्रेसीडेंट, कई देशों के आया था जॉब ऑफर

21 वर्षीय सुप्रभात वत्स बिहार के दरभंगा जिले के पिंडारुच कब रहने वाले है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से प्रभावित सुप्रभात देश की साइबर सुरक्षा के लिए काम करना चाहते हैं । वे इससे पहले टीसीएस, इंफोसिस, एक्सेंचर, जेपी मोर्गन सहित अन्य कंपनियों में काम कर चुके हैं।

488

पटना Live डेस्क। बिहार की जरखेज माटी के लाल विश्व पटल पर अपने प्रतिभा का लोहा मनवा चुके है। इसी क्रम में एक बार फिर माटी के लाल ने एक बार फिर कमाल किया है। दरभंगा के सुप्रभात गूगल इंडिया के वाइस प्रेसिडेंट बन गए हैं।

                हरियाणा के गुड़गांव स्थित गूगल ऑफिस में 28 अगस्त को इंटरव्यू दिया था। अमेरिका की 3 यूनिवर्सिटी ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी, हावर्ड यूनिवर्सिटी, स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी ने कंप्यूटर साइंस में इंटीग्रेटेड कोर्स विथ पीएचडी कोर्स के लिए छात्रवृत्ति देने की भी घोषणा की है। इस दौरान वेतन भी देने की बात कही है, लेकिन सुप्रभात भारत में ही रह कर काम करना चाहते हैं।

                कंप्यूटर साइंस के 17 विषयों पर गहनता से अध्ययन करने वाले सुप्रभात शानदार प्रतिभा के मालिक हैं, बचपन से ही पढ़ाई में अव्वल रहे हैं। साईबर सेक्रेटरी, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और भावी पीढ़ी के दिमाग को हैक करने का भी नॉलेज सुप्रभात के पास है। पीएम नरेंद्र मोदी से प्रभावित सुप्रभात भारत की साइबर सुरक्षा के लिए काम करने को उत्सुक है, सुप्रभात इससे पहले इंफोसिस, टीसीएस, एक्सचेंजर और जेपी मोर्गन जैसी वर्ल्ड वाइड कंपनियों में काम कर चुके हैं।

दरभंगा से आने वाले सुप्रभात के पिता प्रोफ़ेसर है, सहरसा के राजेंद्र मिश्र कॉलेज में सेवा दे रहे थे, लिहाजा सुप्रभात की प्रारंभिक पढ़ाई सहरसा जिले में ही हुई। साल 2017 में डीपीएस सहरसा से 12वीं की पढ़ाई पूरी करने के बाद सुप्रभात कोलकाता के एडवांस यूनिवर्सिटी से इलेक्ट्रॉनिक ब्रांच में बैचलर ऑफ टेक्नीशियन की डिग्री हासिल की। बीटेक के तीसरे साल में ही अमेरिका के स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से कंप्यूटर साइंस में विशेषता करने वाले सुप्रभात अमेरिका की हार्वर्ड यूनिवर्सिटी और डियोलाइट से भी जुड़ गए।

Comments are closed.