BiG News – (वीडियो) मासूम के सामने “माँ” से “सुशासन” के दारोगा की गुंडई हुई वायरल,जड़ा थप्पड़ दिया धक्का

406

#दारोगा ने पार की सारी हदें,महिला को जड़ा थप्पड़ और दिया धक्का
#मासूम बच्ची के सामने उसकी माँ के साथ कि शारीरिक हिंसा
#धक्का देने से महिला गोद मे रहे बच्चे को भी लगी चोट,पब्लिक इकट्ठा होने पर दंपति को खदेड़ा

पटना Live डेस्क। बिहार पुलिस के डीजीपी समेत तमाम वरीय पुलिस अधिकारियों के बारम्बार आग्रह और कडक आदेश के बावजूद सूबे में पुलिसकर्मियों का आम आदमी से दुर्व्यवहार, बदसलूकी और अपशब्दों की बौछार भरा व्यवहार रुकने का नाम नही ले रहा। हद तो ये की सूबे के सुदूर जिलों की बात क्याकि जाए जब राजधानी पटना में एक दरोगा ने न केवल एक दंपती से बेहद आपत्तिजनक दुर्व्यवहार करते हुए वर्दी के रुआब में महिला को तमाचा जड़ दिया। फिर महिला के शरीर पर गलत जगह हाथ लगा कर ज़ोर से धक्का दे दिया। इस घटना का सबसे शर्मनाक पहलु ये रहा कि इस पूरी वारदात का गवाह एक बच्ची है जिसकी माँ के साथ ख़ाकीवाले ने गुंडई की सीमाए लांघ दी।

मासूम के सामने “माँ” से दारोगा की गुंडई

वायरल वीडियो पुलिसिया गुण्डई की शिकार दंपति की पहचान मृणाल और उनकी पत्नी स्वाति के रूप में हुई है। शारीरिक हिंसा का शिकार हुई स्वाति का आरोप है वो अपने पति और दो नन्हे बच्चों के साथ अपने निजी वाहन से मुजफ़्फ़रपुर जा रहे थे। जब उनका वाहन गांधी सेतु से गुजर रहा था तो उन्होंने देखा कि पुल पर सीट बेल्ट के नाम पर सिपाही अवैध वसूली करने मशगूल थे।उनके पति मृणाल ने सीट बेल्ट लगा रखा था। बावजूद इसके जबरिया मृणाल को जुर्माना देने को कहा जा रहा था। इसी की शिकायत करने वो पुल पर स्थित अस्थाई दफ्तर में दरोगा के पास गई थीं। लेकिन ड्यूटी पर मौजूद दारोगा उल्टा उनसे ही उलझ गया।

जड़ा थप्पड़, की शारीरिक हिंसा दिया धक्का

जहां दरोगा ने अनाप शनाप कहते हुए स्वाति को तमाचा जड़ दिया और गलत जगह हाथ लगा कर धक्का दे दिया। धक्का देने से बच्चे को भी चोट लग गई, जो उनके गोद में था। जब लगा कि उसकी गुण्डई की पोल खुल रही है और लोगो भीड़ आक्रोशित हो रही, ओहिर एक बार दारोगा ने वर्दीवाले गुंडे की शक्ल अख़्तियार करते हुए दंपति को वहां से जबरिया खदेड़ दिया गया। लेकिन कहते है न वो तीसरी आँख सबकुछ देखती है। दरोगा की गुण्डई की तमाम करतूत को घटना के दौरान दंपति के साथ रहे कर्मचारी ने मोबाइल से रिकॉर्ड कर लिया।

क्या पीड़िता को मिलेगा इंसाफ ?

चूंकि उन्हें किसी जरूरी कार्य से मुज़फ़्फ़रपुर जाना पड़ा, इसलिए दंपति वरीय अधिकारियों से शिकायत नहीं कर पाए। क्या आरोपित दारोगा की पहचान हुई? साक्ष्य के आलोक में किसी तरह की कार्रवाई की गई? ये वो तमाम सवाल है जो जवाब की तलाश में है।

Loading...