बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

Bihar News – वरिष्ठ पत्रकार व बाबा नागार्जुन के बेटे सुकांत नागार्जुन का निधन

बाबा नागार्जुन के पुत्र और बिहार के जाने माने पत्रकार सुकान्त नागार्जुन का 70 वर्ष की आयु में निधन हो गया। पटना के राजीव नगर स्थित अपने आवास में उन्होंने शुक्रवार दोपहर अंतिम सांस ली।,कैंसर और कोरोना को हरा चुके थे सुकान्त नागार्जुन,कोरोना से ठीक होने के बाद कम होने लगा था ऑक्सीजन लेवल

323

पटना Live डेस्क। कोरोना के कहर के बीच बिहार के जाने माने पत्रकार सुकान्त नागार्जुन अब हमारे बीच नहीं रहे। पटना के राजीव नगर इलाके में रह रहे सुकांत ने दोपहर 2 बजे अंतिम सांस ली। वह देश के कई राज्यों के अखबार में काम कर चुके थे। पटना से निकलने वाले एक दैनिक बतौर ब्यूरो चीफ भी काम कर चुके थे।

कैंसर और कोरोना को मात दे चुके थे सुकान्त

दिवंगत सुकान्त नागार्जुन दो साल पहले उन्होंने कैंसर को हरा दिया था। कैंसर से पीड़ित सुकान्त नागार्जुन का ऑपरेशन किया गया था इसके बाद उन्होंने अपने दृढ़ इच्छाशक्ति के साथ कैंसर को मात दी थी। सुकांत कुछ दिन पहले ही कोरोना संक्रमित भी हो गए थे। लेकिन उन्होंने जिस तरह कैंसर को पटखनी दी थी उसी तरह कोरोना वायरस को भी अपनी दृढ़ इच्छाशक्ति और सकारात्मक सोच की वजह से मात दी थी।

घर में रहकर ही सुकांत नागार्जुन ने कोरोना वायरस को हरा दिया था। संक्रमण के करीब 15 दिन बाद जब टेस्ट कराया तो उनकी रिपोर्ट कोरोना नेगेटिव आई थी। लेकिन कोरोना नेगेटिव होने के दो-तीन दिन बाद से ही उनका ऑक्सिजन लेवल घटने लगा था। शुक्रवार को सुकान्त का ऑक्सीजन लेवल 90 से नीचे आ गया था। इसकी वजह से उन्हें अस्पताल ले जाने की तैयारी की जा रही थी। लेकिन अस्पताल ले जाने से पहले ही वे सभी को छोड़कर चले गए।

सपत्नी पटना में रहते थे सुकान्त नागार्जुन

बताया गया कि दिवंगत सुकान्त नागार्जुन के दो बेटे हैं जिनमें से एक दिल्ली में तो दूसरा बेंगलुरु में रहता है।  जब सुकान्त नागार्जुन कोरोना पॉजिटिव हुए थे तब उनके दोनों लड़के उनकी सेवा के लिए पटना में मौजूद थे। उन्होंने बताया कि कोरोना नेगेटिव होने के बाद उनके दोनों लड़के वापस लौट गए थे और सुकान्त अपनी पत्नी के साथ पटना में रह रहे थे।

Comments are closed.