बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

CCTv फुटेज-कुख्यात बूटन चौधरी के भतीजे को सड़क पर खदेड़ खदेड़ कर मारी गई गोलिया मौत,दोस्त जख्मी

आरा में एक दुःसाहसिक वारदात में 2 अपराधियों ने सरेआम दिनदहाड़े सड़क पर दौड़ा दौड़ा कर 2 युवको को गोली मार दी, युवको की पहचान दीपू चौधरी और उसके दोस्त अजय के तौर पर हुई

642

पटना Live डेस्क। बिहार में बेलगाम अपराधियों का तांडव रुकने का नाम नही ले रहा है। इसी क्रम आरा शहर के पॉश इलाके के पकड़ी चौक पर दिनदहाड़े कुख्यात बुटन चौधरी के भतीजे दीपू चौधरी को सड़क पर सैकड़ो लोगो के सामने खदेड़ खदेड़ कर गोलियां मारी गई। वहीं गोलीबारी में उसका एक दोस्त जख्मी हो गया। जिसका इलाज आरा के सदर अस्पताल में चल रहा है। इस वारदात में ज़ख्मी बूटन चौधरी के भतीजे दीपू चौधरी की पटना में मौत हो गई। उसे पांच गोलियां मारी गई थीं। वहीं उसके दोस्त अजय चौधरी के हाथ में एक गोली लगी है।

इधर, दिनदहाड़े ताबड़तोड़ फायरिंग और दो युवकों को गोली मारे जाने की घटना से शहर में सनसनी मच गई। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और तफ्तीश में जुट गई। जांच में जुटी पुलिस को घटनास्थल से दो गोली और चार खोखे भी मिले हैं। घटना का कारण दो गुटों की पुरानी अदावत बताई जा रही है।

कई जानकारों ने बताया जा रहा है कि बुधवार को बूटन चौधरी की हत्या के एक मामले में कोर्ट में पेशी थी। दीपू चौधरी उनसे मिलने कोर्ट गया था। दोपहर में वह दोस्त अजय के साथ बाइक से गाँव लौट रहा था। गांव लौटने के दौरान बाइक सवार दीपू चौधरी और अजय चौधरी रमना-रोड में पकड़ी चौक के पास फल खरीद रहे थे। तभी दोनों पर हमला कर दिया गया। इस दौरान दोनों पर फायरिंग की जाने लगी।

गोली चलते ही दोनों युवक अपनी जान बचाकर सर्किट हाउस की ओर भागे। इसी बीच अपराधियों ने घेरकर दोनों को गोली मार दी। दीपू चौधरी को दो गोलियां, एक सिर में और एक गर्दन में जा लगी, जिसके बाद अपराधियों ने उसे नाले में फेंक दिया। अजय चौधरी को बाएं हाथ में गोली लगी।

हरिकीर्तन खातिर फल खरीदने गए थे

वही,गोलीबारी में जख्मी अजय चौधरी ने बताया कि गांव में गुरुवार को हरिकीर्तन का आयोजन किया गया था। उसे लेकर बुधवार को अपने दोस्त दीपू चौधरी के साथ बाइक से फल खरीदने आरा आया था। इसी बीच जब वह सर्किट हाउस के समीप फल की दुकान पर फल खरीद रहा था।तभी दो हथियारबंद अपराधी वहां आ धमके और ताबड़तोड़ गोली चलाने लगे। इसमें अजय के हाथ में गोली लग गई। तब उसने भाग कर किसी तरह जान बचाई। वही,फायरिंग होते ही दीपू सर्किट हाउस की तरफ भागने लगा।

सड़क पर खदेड़ खदेड़ कर मारी गई गोलिया

उदवंतनगर थाना क्षेत्र के बेलाउर गांव निवासी उपेंद्र चौधरी के पुत्र दीपू चौधरी हाल ही में जमानत पर जेल से बाहर निकला था। वर्ष 2019 में 20 सितंबर को दीपू को उस वक्त तत्कालीन एसपी सुशील कुमार की टीम ने वाहन चेकिंग के दौरान गिरफ्तार किया था जब वो स्कोर्पियो पर हथियार लेकर जा रहा था।वहीं फायरिंग होते ही दीपू चौधरी भी अपनी बाइक छोड़ भागने लगा। भागता देख दुःसाहसी दोनो अपराधी भी सड़क पर सरेआम असलहा लहरतें उसे खदेड़े लगे।

सीसीटीवी फुटेज मिली

सरेआम अंजाम खूंरेजी की इस वारदात का सीसीटीवी फुटेज सामने आया है। जिसमें ये साफ तौर पर दिख रहा है दीपू चौधरी आगे आगे भाग रहा है और 2 लोग हथियार लहराते उसे खदेड़ रहे है। खूंरेजी की यह वारदात सैकड़ो लोगो की नज़रों के सामने अंजाम दिया गया। हथियार लहराते हुए अपराधी उसको खदेड़ते हुए गोली मार देते हैं। वारदात के बाद आराम से हथियार लहराते हुए लौटते और फिर बाइक पर सवार होकर फरार हो जाते हैं।

 

Comments are closed.