बिहार बोर्ड का बड़ा फैसला, फ़र्ज़ी सर्टिफिकेट वालों की छीन ली जायेगी नौकरी

323

पटना Live डेस्क। बिहार बोर्ड ने एक बड़ा कदम उठाते हुए ये फैसला लिया है कि यदि किसी बिहार का कोई भी स्टूडेंट दोबारा मैट्रिक का एग्जाम देते हुए पकड़ा गया तो उस पर सख़्त कार्रवाई की जायेगी। अगर आप सोच रहें हैं कि जिस जिस ने भी पहले दो बार परीक्षा दिया है वे बच गए है तो बता दें कि ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। जिसने भी दो बार परीक्षा दे कर बोर्ड से चालाकी की है, वे जब भी पकडे गए तो उनकी नौकरी भी खतरे में पड़ सकती है। उनके सारे सर्टिफिकेट्स की मान्यता रद्द कर दी जायेगी।

 

बिहार बोर्ड 1983 से 2004 तक के सभी मार्कशीटों को आॅनलाइन करने जा रही है और इसकी जिम्मेदारी चयनित एजेंसी को सौंपा जा चुका है। सूत्रों के अनुसार इन वर्षो में तक़रीबन 1.22 करोड़ परीक्षार्थियां ने मैट्रिक परीक्षा दिया है, इन सभी छात्रों सबके अंक पत्र ऑनलाइन आ जाएंगे। मार्कशीट के अलावा सर्टिफिकेट के भी अलग पेज बनाने का फरमान जारी किया गया है। पेज पर ऑनलाइन रिजल्ट और सारे डाक्यूमेंट्स आ जाने के बाद जाहिर सी बात है कि फर्जीवाड़े को पकड़ना आसान हो जायेगा। जिन लोगों ने भी मैट्रिक या इंटरमीडिएट की परीक्षा गलत तरीके से पास किया है, उन सारे छात्र- छात्राओं पर कड़ी करवाई होगी, साथ ही उनकी नौकरी भी छीन ल जाएगी । इस साल के मैट्रिक रिजल्ट के घोषित होते ही एजेंसी काम में जुट जाएगी। सरकार के इस फैसले से शिक्षा विभाग और फर्जीवाड़ों में मानो हड़कंप मच गया है।

Loading...