बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

नकली माल पकड़कर भी अभियुक्तों को थाने से क्यों छोड़़ दिया भागलपुर पुलिस ने?

319

पटना Live डेस्क। बिहार के भागलपुर शहर के गुप्ता ट्रेडर्स नामक प्रतिष्ठान से निहाल बिस्कुट निर्माण सेंटर ब्राण्ड के बेहद चर्चित स्पेशल नमकीन प्रोडक्ट निहाल नमकीन “पकौड़ी” का हजारो रुपए का नकली माल बरामद किया गया है।उक्त प्रतिष्ठान गुप्ता ट्रेडर्स जिनके मालिक मंटु गुप्ता पिता स्वर्गीय नरेश गुप्ता निवासी मोजाहिदपुर पर निहाल बिस्कुट निर्माण सेंटर के नकली खाद्यपदार्थ बेचने की शिकायत पर करीब महिने भर से नजर रख रही थी।

हालांकि कोतवाली थाने की पुलिस ने इस मामले में बड़ी लापरवाही बरती है। कोतलवाली थाने की पुलिस ने गुप्ता ट्रेडर्स के मालिक मंटू गुप्ता पर कार्रवाई की बजाय उसे थाने से महज एक सफेद कागज पर चंद शब्द उकेरने के बाद रिहा कर दिया।

                  दरअसल,निहाल नमकीन पकौड़ी के मालिक मोहम्मद निहाल के द्वारा गुप्ता ट्रेडर्स के गोरखधंधे के बाबत स्थानिए थाना में लिखित तहरीर देते हुए जानकारी दी गई थी कि उनके ब्रांड के नाम पर धड़ल्ले से नकली माल बेचा जा रहा है।उक्त तहरीर को आधार बनाते हुए कोतवाली थाना पुलिस के साथ निहाल नमकीन के मालिक समेत उनके सहयोगियों ने गुप्ता ट्रेडर्स में रेड किया और भारी मात्रा में हजारो हजार रुपए मूल्य का नकली माल बरामद किया। हालांकि उक्त प्रतिष्ठान गुप्ता ट्रेडर्स के मालिक मंटु गुप्ता ने नकली माल बेचने के आरोपों को खारिज किया है। उनका कहना है कि बिल उनके पास हैं।

नकल में अक्ल नहीं लगाई

                  वही,नकली माल की पहचान के बाबत पुलिसकर्मियों व  कंपनी  स्टाफ बताया कि नकली माल की पहचान कंपनी के चर्चित प्रोडक्ट निहाल नमकीन “पकौड़ी” का लिखने का तरीका अलग है। फॉन्ट अलग इस्तेमाल किया गया है। इसके अलावा भी एक-दो अन्य बड़े अंतर के साथ ही नकली प्रोडक्ट पर कंपनी का बैच नम्बर और फ़ोन नंबर जैसी प्रिंटिंग गायब थी। इस तरह से मामला पकड़ में आया।

 निहाल ब्राण्ड का नकली नमकीन पकौड़ी

बड़ी मात्रा में गुप्ता ट्रेडर्स से निहाल ब्राण्ड जिसका मोहम्मद निहाल के नाम पर निहाल नमकीन पकौड़ी का ट्रेडमार्क रजिस्टर्ड है साथ प्रोडक्ट पर अंकित तमाम तथ्यों का कॉपी राइट भी निबंधित है। रेड के दौरान बरामद नकली माल के बाबत गुप्ता ट्रेडर्स के मालिक का कहना रहा कि उन्होंने बरामद माल जीएसटी बिल पर खरीदा है। हालांकि जीएसटी बिल देखने से ही साफ हो जाता है कि गुप्ता ट्रेडर्स का मालिक मंटू गुप्ता सबकुछ जानते हुए भी अनजान बनने की कोशिश कर रहा है। दरअसल, उनके द्वारा पुलिस को दिखाया गए बिल पर सीधे पकौड़ी लिखा गया है, जबकि उसके यहां से निहाल नमकीन के नाम पर बेचा जा रहा नकली माल बरामद किया गया था।

             निहाल ब्राण्ड की नमकीन पकौड़ी ट्रेडमार्क रजिस्टर्ड है और यह कॉपी राइट का खुल्लमखुल्ला उल्लंघन है। जो कानूनन अपराध है परंतु इसके बावजूद पुलिस ने उसे थाने से महज एक सादे कागज पर इतना ही लिखवाया गया है कि मैं गुप्ता ट्रेडर्स का मालिक मंटू गुप्ता इस प्रोडक्ट को जीसएटी बिल पर पटना के कदमकुआं के मेहता फ़ूड प्रोडक्ट से खरीदा है।

भागलपुर पुलिस की घातक लापरवाही

भागलपुर के कोतवाली थाना पुलिस द्वारा नकली सामना बेचकर आम नागरिकों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करने वाले गुप्ता ट्रेडर्स के मालिक मंटु गुप्ता के खिलाफ FIR दर्ज न करना अपने आप मे बेहद बड़ी लापरवाही तो है ही साथ ही साथ कॉपीराइट के उल्लंघन के क़ानूनी पहलुओं की घोर अनदेखी है। वही राज्य और देश को होने वाले राजस्व की क्षति को भी नज़रअन्दाज किया है। इन तमाम विकल्पों और कानूनी धाराओं का उल्लंघन कर उक्त दुकान मालिक को बिना किसी कानून प्रक्रिया अपनाए थाने से छोड़ देना कोतवाली थाना पुलिस को कटघरे में खड़ा करता है।

इस बाबत निहाल बिस्कुट निर्माण सेंटर के मालिक और कंपनी से जुड़े लोगों का स्पष्ट कहना है कि जब पुलिस के सामने नकली माल जब्त हुआ तो पुलिस कार्रवाई के बजाय अभियुक्त को बचाने का प्रयास क्यों करती रही?आखिर पुलिस ने इस मामले में एफआइआर दर्ज करना भी मुनासिब क्यो नही समझा? ये तमाम कवायद न करना भागलपुर पुलिस की कार्यशैली पर भी सवालिया निशान उठा रहा है।भागलपुर के कोतवाली थाना पुलिस की यह कार्रवाई संदेह के घेरे में है।

                   अतः निहाल कंपनी के ऑनर और कंपनी स्टाफ ने तय किया है कि रजिस्टर्ड ट्रेडमार्क का उल्लंघन व कॉपी राइट एक्ट के तहत कार्रवाई न करने की इस घटना के बाबत वो भागलपुर के डीआईजीएसएसपी व अन्य उच्च अधिकारियों से मिलकर कोतवाली थाना पुलिस की इस घोर लापरवाही और गौर जिम्मेदाराना हरकत से न केवल अवगत कराएंगे बल्कि उचित कानून सम्मत कार्रवाई की मांग करेंगे। अब देखना है कि वरीय अधिकारी पुलिस की घोर लापरवाही भरी इस हरकत पर क्या एक्शन लेते हैं?

Comments are closed.