ब्रेकिंग Exclusive (ऑडियो) पटना पुलिस के डीएसपी का गालीगलौज भरा ऑडियो वायरल, कुख्यात की माँ बहन और परिजनों के संग दुर्व्यवहार धमकी और अभद्र व्यवहार, मानव अधिकार आयोग से गुहार फिर दर्ज कराया FIR

90

पटना Live डेस्क। जब बाड़ ही खेत खाने लगे तो उस समाज का भगवान भी भला नही कर सकता है।दरअसल वर्त्तमान दौर में राजधानी में अपरधियों का तांडव अपने चरम पर है। पुलिस महज दावों और FIR दर्ज करने में मशगूल है।क्रिमिनल्स को पकड़ पाने में नाकाम पटना पुलिस अब बिल्कुल गुंडई पर उतर आई है। एक ओर तो पटना पुलिस थाने पर FIR लिखने में आनाकानी कर रही है। तो दूसरी तरफ अपरधियों को न पकड़ पाने की अपनी खीज़ पटना पुलिस कुख्यात की माँ बहन को घर पर चढ़कर न केवल धमकाते है बल्कि उनको गंदी गंदी गालिया देकर जेल भेजने की साज़िश रचते गुंडों जैसी हरकत करती है। अगर खाकी वाले ही गुंडगर्दी करेंगे तो फिर क्या अंतर रह जायेगा -गुंडों में और पुलिस वालों में ….??

शत्रुघ्न कुमार उर्फ जटा

दरअसल, पटना जिला के नौबतपुर थाने के शेखपुरा स्थित पुनपुन नदी में करोड़ों की लागत से ब्रीज निर्माण कार्य चल रहा हैं। उक्त निर्माण कार्य करने का टेंडर उत्तरी बिहार के ठेकेदार को मिला हैं। स्थानीय ठेकेदार , पेटी कॉंट्रेक्ट पर काम चाहते थे।जब बात नहीं बनी नैबतपुर के शेखपुरा गांव के ही निवासी कुख्यात अपराधी शत्रुघ्न कुमार उर्फ जटा सिंह को चढ़ाबढ़ा  कर दहशत फैलाने और रंगदारी की मांग को लेकर गोलीबारी करा दिया। जटा सिंह ने उक्त ठेकेदार से 5 लाख रूपये की रंगदारी की मांग किया हैं। गोलीबारी के दहशत में मजदूर हैं और ब्रीज का निर्माण कार्य बंद हो गया हैं।                            घटना की सूचना पाकर डीएसपी रामाकांत प्रसाद ने जटा सिंह के कई ठिकाने पर छापेमारी किया हैं। जटा सिंह से जुड़े लोग भी पुलिस के निशाने पर हैं।किसी भी समय पुलिस ऐसे लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर सकती हैं। इंकाउंटर में मुचकूंद के मारे जाने के बाद कुख्यात जटा सिंह नौबतपुर में वर्चस्व जमाना चाहता है। इसी क्रम में हाल ही में जटा ने एक कारोबारी से वाट्सअप कॉल कर रंगदारी की मांग किया हैं। इसके बाद सुरक्षा के मद्देनजर उक्त कारोबारी को सरकारी गार्ड दिया गया हैं।

DySP ने कुख्यात के मॉ बहन को दी गालिया

वही, घटना के नौबतपुत थाना मामला दर्ज़ हो गया है। वही जटा की गिरफ्तारी ख़ातिर डीएसपी रामाकांत प्रसाद ने जटा सिंह के शेखपुरा स्थित घर समेत कई ठिकाने पर छापेमारी किया हैं। जटा सिंह से जुड़े लोग भी पुलिस के निशाने पर हैं।लेकिन इसी बीच एक ऑडियो बहुत तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमे दावा किया जा रहा है कि नैबतपुर SHO और SDPO रमाकान्त प्रसाद कुख्यात के घर पर पहुचकर कर उसके परिजनों को न केवल धमकाते है बल्कि बेहद आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग करते हुए साजिशन उसके परिजनों ,बहनों, माँ और ब्याहता बहन को भी बर्बाद कर देने और जेल भेजने की धमकी देते है।वायरल ऑडियो की सत्यता की पटना Live पुष्टि नही करता है। लेकिन इस वायरल ऑडियो को लेकर कई तरह के सवाल उठ रहे है।

क्या ये उचित है ?  क्या किसी की माँ बहन को गालीगलौज देना एक पुलिस वालों को शोभा देता है। क्या फुलवारी SDPO रमाकांत प्रसाद का महिला के साथ गन्दी गाली, अभद्र ब्यवहार और धक्कामुक्की करते हुए उसकी ब्याहता बेटी के बबात गंदे शब्दो का इस्तेमाल करना? सभी को जेल भेजने का इसे सुअवसर बताना शोभा देता है? खैर सुनिए वो वायरल ऑडियो ..

वही, पुलिस की गुंडई से आज़िज़ आकर परिजनों ने मानवाधिकार आयोग में FIR दर्ज करा दिया है। लेकिन 7 दिन बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की गई है।  FIR की कॉपी भी देख लीजिए ..                      

Loading...