बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

Fact Finding-अजब पुलिस की गजब कहानी-एक शख्स 10 साल तक पुलिस महकमे से तनख्वाह लेता रहा और विभाग सोता रहा?

10 साल तक वो फर्जी नाम से वो करता रहा नौकरी, एक शख्स पूरे सिस्टम को नचाता रहा और सैलरी लेता रहा

549

पटना Live डेस्क। बिहार पुलिस के तमाम दावें व व्यवस्थाएं क्या भगवान भरोसे है? यह हम नही कह रहे है बल्कि हालात और महकमें से जुड़े होनेवाले खुलासे इस बात की तस्दीक करते है। दरअसल, एक शख्स ने उस महकमे को 10 साल तक नचाने/ बरगलाने/ धोखाधड़ करने में सफल रहा जिसके कंधों पर बिहार के हर आमो खास से लेकर आम आदमी की सुरक्षा और कानून का राज स्थापित करने की जिम्मेदारी है।

बिहार पुलिस मुख्यालय

ख़ैर, बात अब उस शख़्स की जिसे पटना पुलिस ने रविवार को सारण जिले के दिघवारा के उसके पैतृक गांव आमी से गिरफ्तार किया है। दावा है गिरफ़्तार का नाम शिवशंकर सिंह है। यानी उसका असली नाम शिवशंकर सिंह है, पर वह 10 साल से बतौर शशिशंकर सिंह के नाम से नाैकरी रहा था।

सिपाही शशिशंकर,निकला शिवशंकर सिंह

बिहार पुलिस में आरक्षी शशिशंकर की जन्मतिथि 1974 अंकित है। बिहार पुलिस की नाैकरी पाने के लिए उसके दाे बार मैट्रिक पास करने की भी बात सामने आई है। यानी 12 साल उम्र कम करके वह 10 साल से सिपाही पद पर बहाल हाेकर नाैकरी कर रहा था।पहली पाेस्टिंग पटना पुलिस लाइन में हुई थी। बर्खास्त हाेने से पहले वह सीअाईडी में सिपाही था। शशिशंकर के नाम पर वह नाैकरी कर रहा था। एक अनुमान के अनुसार, इस 10 साल में उसने 40-50 लाख रुपए वेतन उठाया हाेगा।

चाचा ने खोला राज़ जाँच के बाद बर्खास्त

दरअसल, शिवशंकर सिंह के शशिशंकर बनकर बिहार पुलिस का सिपाही बनने के फर्जीवाड़े का खुलासा तब हुआ जब उसके चाचा और गाँव वाले उसकी दबंगई और दादागिरी से आज़िज़ आ गए। सिपाही बनने के बाद गिरफ्तार शिवशंकर ने अपने चाचा और गाँव वालों पर जमकर तसद्दुत करने लगा। इसको लेकर सिपाही का चाचा व ग्रामीणाें से विवाद लगातार बढ़ने लगा। गांव के लाेगाें ने ही इसके खिलाफ पुलिस मुख्यालय में लिखित शिकायत की थी। साथ ही इस तथ्य को भी उजागर किया कि दरअसल बिहार पुलिस का जवान शशिशंकर सिंह असल मे शिवशंकर सिंह है जिसने अपनी 1962 की अपनी जन्मतिथि को छुपाकर गलत विवरण और फर्जीवाड़ा कर नौकरी पाई है। इस जानकारी के बाद पुलिस मुख्यालय ने जांच के बाद उसे वर्ष 2019 के जुलाई महिने में सेवा से बर्खास्त कर दिया गया।

साथ ही,उसपर पुलिस लाइन के डीएसपी आशीष सिंह ने 17 जुलाई 2020 काे बुद्धा काॅलाेनी थाना में शिवशंकर सिंह के खिलाफ धोखाधडी समेत अन्य धाराओं में मामला दर्ज कराया था। उक्त मामले के अवलोक में पटना पुलिस ने बर्खास्त आरक्षी शिवशंकर सिंह को उसके गाँव आमी से गिरफ्तार कर लिया।

Comments are closed.