बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

Super Exclusive(वीडियो)पटना का सरकारी स्कूल जहा प्रिंसिपल की मौजूदगी उनके गुर्गे करते है छात्रों की “झाड़ू” से निर्मम पिटाई, वीडियो हुआ वायरल

124

बृजभूषण कुमार, ब्यूरो प्रमुख, पटना सिटी

पटना Live डेस्क। बिहार के सरकारी स्कूलों की हालत का सच हरि कथा हरि कथा अनंता वाली है।हालात ऐसे है कि कब किस तरह की घटना को अंजाम दे दिया जाय इसकी कल्पना करना मुश्किल है।सरकारी दावों के उलट सरकारी स्कूलों के हालात दिन ब दिन बद से बदतर होते जा रहे है।वही राजधानी पटना में बिल्कुल सरकार के नाक के नीचे दीदारगंज थाना क्षेत्र का फतेहपुर हाईस्कूल प्रिंसिपल की निजी जागीर में तब्दील हो चुका है।हालात ऐसे है बन गए है कि स्कूल के प्रिंसिपल साहब और उनके गुर्गो की गुंडागर्दी से छात्र छात्रों समेत स्कूल का सरकारी अमला भी दहशत में है। कहने को तो ये सरकारी स्कूल है। लेकिन न कोई यहा न कोई सरकारी फरमान न कोई नियम कानून है, बस प्रिंसिपल साहब जो चाहते है वही नियम है वही कानून  है। लेकिन, लगातार बिलावजह और सच बोलने ख़ातिर बार बार की बाहरी लोगों के द्वारा लाठी, डंडे जूते और झाड़ू या जो हाथ लग जाये उससे होने वाली मारकुटाई और स्कूल प्रिंसिपल की दबंगई का कच्चा चिट्ठा खोलने की हिम्मत कुछ छात्रों ने दिखाई और फिर छुपकर डरते हुए मोबाइल से प्रिंसिपल की मौजूदगी में झाड़ू से एक छात्र की पिटाइ का विडियो बनाया और पटना Live के संवाददाता बृजभूषण कुमार से संपर्क कर उनसे मदद की गुहार लगाई।
साथ ही छात्रों ने बताया कि कुछ दिन पहले स्कूल के प्रिंसिपल ने अपने गुर्गो को बुलाकर छात्रो को झाडू,जूतों और डंडे से पहले भी पीटवाया है। जब तब मामूली बातों पर भी प्रिंसिपल झाड़ू, जूते और डंडे से छात्रों को पीटने लगते है। इसी लिए हमने वीडियो बनाया है ताकि सच सामने आ सकें। वीडियो को देखकर और मामले की गंभीरता को देखते हुए जब इस बाबत फतेहपुर हाइस्कूल के प्रिंसिपल से पटना Live संवाददाता ने सवाल किया तो उन्होंने कहा कि ये सारी बात निराधार है। संवाददाता जब यह कहा कि आपकी मौजूदगी में छात्र को झाड़ू से पीटते हुए विडियो सामने आया है,तबभी प्रिंसिपल एक ही राग अलापते रहे कि सारी बाते गलत है। फिर कहा कि बाहर का वीडियो है और फिर जिसकी उम्मीद की जा रही थी वही हुआ बोले कि स्कूल के कुछ शिक्षक मेरे खिलाफ साजिश कर रहे हैं छात्रों को मिसगाइड कर रहे है। मैं पता कर रहा हूँ कौन टीचर है।

वही दहशतज़दा स्कूल के छात्र छात्राओ ने प्रिंसिपल के सामने ही हिम्मत दिखाते हुए मीडिया की मौजूदगी की वजह से उनकी बातो का विरोध करते हुए कहा कि बाहरी व्यक्ति को बुलाकर हम सब छात्र छात्रो को पीटवाया जाता है। जब कोई छात्र या छात्रा स्कूल के प्रिंसिपल से अपनी सही मांग मांगने जाते है तो स्कूल के प्राचार्य के द्वारा छात्र छात्राओ को झाडू और लात-घुसे,जूतो से बुरी तरह पीटा जाता है। इस बात को लेकर स्कूल के बच्चो मे काफी आक्रोश है।
पटना जिले के फतेहपुर हाईस्कूल के बाबत जो जानकारी मिली है। वह बेहद सनसनीखेज कही जा सकती है। वही,गांव के ही एक व्यक्ति ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि यह स्कूल प्रिंसिपल साहब की निजी जागीर बन चुका है। प्रिंसिपल को जो मन मे आये वही करते है। न खाता न बही प्रिंसिपल साहेब जो कहे करे वही सही वाले हालात बन चुके है। यह कोई पहला वाकया नही जब छात्रों को इस तरह से पीटा गया हो। पूर्व में भी ऐसे कई वाकये हो चुके है।
हद तो ये की न केवल स्कूल के छात्र छात्राओं बल्कि प्रिंसिपल के दबंगई और गुंडागर्दी के शिकार होने वालों में स्कूल के क्लर्क विशाल कुमार भी हैं। प्रिंसिपल के गुर्गो द्वारा विशाल की भी पूर्व में जबरदस्त पीटाई की गई और जान से मारने की धमकी दी गई। इस लकी शिकायत पीड़ित क्लर्क द्वारा अपने महकमे के उच्च अधिकारियों से की है। वही उन्होंने बताया कि इतना फ्रस्टेट हो चुके है कि अब दवाई खाकर स्कूल आते है। पर अब तक कोई कार्रवाई नही होने से क्लर्क समेत स्कूल मे बच्चे अभी भी प्रिंसिपल की दबंगई से दहशत के माहौल मे है।
हद तो ये की प्रिंसिपल छात्रों को भी पूरी निर्दयता से पीटते है।बक़ौल एक छात्र के कुछ दिन पहले ही प्रिंसिपल ने उनको नाराज होकर डंडा लेकर स्कूल गेट के बाहर तक खदेड़ दिया गया क्योकि उन्होंने स्कूल की कुव्यवथा को ठीक करने की बात कही थी। विगत दिनों भी प्रिंसिपल के द्वारा छात्रों को बुरी तरह झाडू और डंडे से पीटा गया।पिटाइ के दौरान एक छात्र को सर मे जबरदस्त चोट आई फिरभी प्रिंसिपल उसको  तब तक पीटते रहे जब तक वह ज़मीन पर मूर्छित होकर गिर नही पड़ा। पीटने के बाद प्रिंसिपल धमकाते भी है कि अपनी जुबान बंद रखना वरना  इससे भी बुरा हाल कर दूंगा।
हिम्मत दिखाते हुए कुछ छात्रो ने छुपकर प्रिंसिपल की मौजूदगी में उनके गुर्गे द्वारा झाड़ू से पिटाई फिर लप्पड़ थप्पड़ करने का विडियो बनाया जिसमे साफ दिखता है कि छात्र जब पिटाई से बचने ख़ातिर क्लास की ओर बढ़ता है तो वो उसे धक्का देते है। वही झाड़ू से पिटाई हो रहे छात्र को बैठाइए इसको ज़मीन का फरमान देते है और मीडिया तक पहुंचाने का काम किया है। लेकिन,अब भी छात्रो को डर है कि अगर इस बारे मे प्रिंसिपल को जानकारी मिली तो उनके साथ कुछ भी करवा सकते हैं। छात्रो का ये भी कहना है कि स्टूडेंट तो पिटाते ही रहते है, स्कूल मे अन्य टीचर और क्लर्क को भी प्रिंसिपल साहब जबतब अभद्र भाषा मे हड़काते और प्रताड़ित किया करते है। स्कूल में न तो बैठने की व्यवस्था है ना ही पढ़ाई सुचारू से होती है। वही, प्रिंसिपल अक्सर स्कूल से गायब रहते है। सप्ताह में एक या दो बार ही आते है। लेकिन उनका अटेंडेंस पूरा बनता है। मनमर्जी के मालिक है जब मन हुआ डाये है और आते है तो कोहराम मचा देते है।खौफ इतना है कि कोई कुछ नही बोलता है।
ये हालात है सुशासन सरकार के बिल्कुल नाक के नीचे जहा से पूरे सूबे शिक्षा मे अमूल चुक सुधार करने की बातें की जाती है। उसे लागू करने के फरमान जारी होते है। लेकिन, सवाल उठता है सुधार होगा कैसे जब स्कूल ही प्रिंसिपल की करतूतों से खौफज़दा होकर सिसकियां ले रहा हो और जिला शिक्षा महकमे के अधिकारी सब कुछ जानते बुझते हुए भी अनजान हो।

Comments are closed.