BiG News – लखीसराय में हुई लंगरपुर के शिवम की नृशंस हत्या का सच आया सामने, परिजनों ने बताया 9 लाख रुपया खातिर 5 लोगो ने साज़िश रच कराई हत्या

45

पटना Live डेस्क। सूबे के लखीसराय जिला अंतर्गत शुक्रवार को दानापुर रेल मंडल अन्तर्गत मोकामा किउल रेलखंड पर अवस्थित डुमरी हॉल्ट के समीप अप लाईन रेलवे ट्रैक से एक 22 वर्षीय युवक का शव बरामद किया गया। मृतक के सीने पर गोली लगने के निशान थे तथा उसका मृत शरीर दो हिस्सों में बंटा हुआ पाया गया। बाद में उक्त युवक की शिनाख्त पटना जिले के बाढ़ थाना के लंगरपुर गांव के रामबली सिंह के पुत्र शिवम कुमार के रूप में हुई। हॉल्ट पर शव मिलने की सूचना पाकर मृतक के परिजन घटनास्थल पर पहुंच गये तथा शव की शिनाख्त की। तदुपरान्त रेल पुलिस ने शव को कब्जे में कर पंचनामा कर उसे पोस्टमार्टम खातिर रवाना कर दिया।

9 लाख खातिर 5 लोगो ने रची साजिश-परिजन 

पटरी पर दो हिस्सों मिले शव की पहचान लंगरपुर निवासी शिवम कुमार के तौर पर की गई थी। उक्त हत्याकाण्ड मृतक के भाई शुभम कुमार ने शुक्रवार को रेल पुलिस के समक्ष दिए अपने फर्द बयान में बाढ़ थानाक्षेत्र के अपने गांव लंगरपुर के निवासी बिंदेश्वरी सिंह के पुत्र दिवाकर सिंह,श्रीकांत सिंह , बृजनंदन सिंह के पुत्र सोहन सिंह,स्वर्गीय मोहन सिंह के पुत्र मनीष सिंह एवं राजकुमार सिंह के पुत्र अभिषेक कुमार उर्फ दोलन पर भाई की हत्या कर देने का आरोप लगाया था।शुभम कुमार के फर्द बयान को रेल पुलिस बड़हिया ने शनिवार को स्थानीय बड़हिया थाना को सौंंपा दिया है।

                         बड़हिया थानाध्यक्ष डीके पाांडेय ने बताया कि थाना कांड संख्यांं 59/19 के तहत पांच लोंगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। प्राथमिकी के लिए दिए बयान में मृतक के भाई शुभम कुमार ने कहा है कि मेरे परिजन द्वारा बाढ़ मेंं एक जमीन 49 लाख में बेचा गया था। जिसमे आरोपी पांचो ने जमीन बिक्री के दौरान दलाली का काम किया था। 40 लाख तो मिल गए थे, मगर शेष 09 लाख रुपया नही मिले थे। बाकी बचे रुपये खातिर मारा गया शिवम लगातार तगादा करता रहता था। 9 लाख रुपये को पचा जाने के नीयत से पांचो लोगों ने मेरे भाई की हत्या करवा दिया है। यानी अब यह स्पष्ट है कि जमीन बिक्री के बकाये 09 लाख रुपये का तगादा करना ही शिवम कुमार के लिए महंगा पड़ गया और जमीन खरीदने वाले लोगों ने उसकी गोली मारकर न केवल हत्या कर दी और बल्कि शव को पटरी पर रख दिया था ताकि मामला ट्रेन हादसे का लगे।

प्रताप गिरोह से जुड़ा था मारा गया शिवम 

शिवम की गोली लगी मिली क्षत विक्षत लाश और उसके भाई शुभम के फर्द बयान पर लंगरपुर गाँव के 5 लोगों को नामजद अभियुक्त बनाते हुए पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस हत्या के कारणों का पता लगाने में जुट गयी है। लेकिन इसी बीच मकतूल के बाबत जानकारी मिली है कि शिवम भी अपराधी छवि का व्यक्ति था। उसपर पटना जिले के बाढ़ थाना एवं मोकामा थाना में आधा दर्जन से अधिक मामले लंबित है। मृतक शिवम को बाढ़ के प्रताप सिंह गिरोह का शूटर बताया जाता है। कुछ दिनों पूर्व ही वह जेल से ज़मानत पर छूटकर बाहर आया था। शुरुआती दौर में शिवम की हत्या गैंगवार का नतीजा होने की आशंका जताई जा  रही थी। लेकिन परिजनों के बयान के बाद मामला कुछ और ही निकला है।

                               वही, पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार शिवम के खिलाफ बाढ़ थाने में थाना कांड संख्या 225/17, 231/17, 345/17, 191/18, 18/19 तथा मोकामा थाना में 27/17 के तहत आर्म्स एक्ट, 307, 506, 504, 379, 355, 414, 120 बी सहित विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज है।

उल्लेखनीय है कि जमानत पर जेल से बाहर निकलने के बाद से शिवम इन दिनों मुंगेर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने की तैयारी में जुटे बिहार सरकार के मंत्री ललन सिंह उर्फ राजीव रंजन सिंह के प्रचार -प्रसार में जुटा था। लेकिन शुक्रवार को ही पंडारक निवासी कुख्यात  भोला सिंह के गोली लगने की सूचना पर पुलिस छानबीन में जुटी ही थीं की किऊल रेलवे स्टेशन के डूमरी रेलवे लाइन पर शिवम की लाश मिली तो पुलिस के मुंगेर के महाभारत में गैंगवार धधकने की आशंका से हाथ पांव फूल गए। लेकिन जांच ज्यो ज्यो गए बढ़ी शिवम की हत्या ज़मीन बिक्री से जुड़ गया और परिजनों ने 5 लोगो को नामज़द कर दिया।

Loading...