बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News (वीडियो) CM नीतीश कुमार के गृह जिले में सरकारी डॉक्टर की दिनदहाड़े हत्या,शूटर्स ने मारी 6 गोलियां

47

पटना Live डेस्क। बिहार में अपराधियों के तांड़व रुकने का नाम नही ले रहा है। पुलिस के तमाम दावों के उलट सूबे में बेलगाम अपराधियों ने हत्या और लूट  की वारदातों की झड़ी लगा रखी। इसी क्रम गुरुवार को CM नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा (Nalanda) में जहां अपराधियों ने सरेआम दिनदहाड़े एक डॉक्टर (Dotor) की गोली मारकर हत्या (Murder) कर दी जब वे अपने घर से बाइक पर सवार होकर अस्पताल जाने के लिए निकले थे। घटना जिले के रहुई थाना क्षेत्र की है जहां बाइक सवार अपराधियों द्वारा दिनदहाड़े बीच सड़क पर इस घटना को अंजाम दिया गया।

ड्यूटी के लिए जा रहे थे डॉक्टर

घटना के बारे में बताया जाता है कि हरनौत के गोनावां अतिरिक्त पीएचसी में पदस्थापित डॉ प्रियरंजन प्रियदर्शी को उस समय गोली मारकर हत्या कर दी गई जब वो ड्यूटी के बाइक पर सवार होकर अस्पताल जा रहे थे। बताया जाता है कि चिकित्सक डॉ प्रिय रंजन कुमार प्रियदर्शी हरनौत प्रखण्ड के अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र गोनावा में पदस्थापित हैं। जबकि डेपुटेशन पर वो गोकुलपुर मठ स्थित पीएचसी कार्यरत थे।

पूर्व विधायक के रिश्तेदार थे डॉक्टर

खुरेजी की उस वारदात के बाबत मिली जानकारी के अनुसार डाक्टर गुरुवार की सुबह घर से बाइक पर सवार होकर अस्पताल जाने के लिए निकले थे, इसी दौरान पूर्व से घात लगाए बदमाशों ने रहुई थाना इलाके के निजाय मोड़ के समीप अपराधियों ने उन्हें घेर लिया। इसके पहले कि डॉ. प्रियरंजन कुछ समझ पाते उनके सीने में ताबड़तोड़ 6 गोली मार दी। गोली लगने से डॉ. प्रियरंजन की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। घटना के बाद पहुची पुलिस ने उनका शव रहुई थाना ले गई। तदुपरांत, पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया।

मक़तूल चिकित्सक मूलतः नूरसराय प्रखंड के नेसरा गांव के बाशिंदे थे। उनकी मूल पदस्थापना हरनौत के गोनावां एपीएचसी में थी। डॉ प्रियदर्शी पूर्व विधायक जदयू नेता ई. सुनील के भगीन दामाद थे।

जांच में जुटी पुलिस

इस घटना के बाद चिकित्सकों में आक्रोश देखा जा रहा है। साथी की मौत से नाराज चिकित्सक सुरक्षा की मांग कर रहे हैं। नालंदा में दिनदहाड़े हुई हत्या की खबर से पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया और स्थानीय पुलिसकर्मी सहित जिले SP नीलेश कुमार पहुचे और पुलिस मामले की जांच जुट गई है।

Comments are closed.