बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

Fact Finding (वीडियो) पटना पुलिस की मेहरबानी 50 घंटे भी जेल में नही रहा STF द्वारा गिरफ़्तार 50 हजार का ईनामी

जेल में भी हुआ खेल,निकलना था 10 बजे निकल गया 9 बजे और बाहर लगी एक कार बैठकर निकल गया, पुलिस के आलाधिकारी पहुचे 10 बजे,घर वाले के भी नही है सम्पर्क में

939

पटना Live डेस्क। राज्य में अपराधियों का कहर लगातार जारी है। बुधवार को एक तरफ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पटना में लॉ एंड ऑर्डर पर बैठक कर रहे थे और दूसरी तरफ अपराधियों ने दरभंगा में 10 करोड़ की लूट को अंजाम देकर कोहराम मचा दिया। वही, बिहार में बुधवार को जब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रदेश में कानून व्यवस्था और अपराध नियंत्रण पर पुलिस अधिकारियों के साथ उच्चस्तरीय बैठक में सवाल किया था कि हिस्ट्रीशीटर को जमानत कैसे और क्यों मिल जा रही हैं? जब मुख्यमंत्री मीटिंग में यह बात कह रहे थे, उसी दौरान पटना में एक कुख्यात अपराधी रवि गोप को कोर्ट से जमानत मिल गई और उसके बारे में कहा जा रहा है कि वह अब देश छोड़कर नेपाल फरार हो चुका है। रवि गोप को बहुत मुश्किल से उसकी शादी के मंडप में एसटीएफ ने पकड़ा था।

पुलिस के चंगुल से छूटकर फरार न

6 दिसंबर को 50 हजार के इनामी बदमाश रवि गोप को एसटीएफ ने बहुत मशक्कत के बाद गिरफ्तार किया था। वह बहुत ही आसानी से चार दिन के अंदर जमानत पर कोर्ट से रिहा भी हो गया और देश से चला भी गया। ऐसे में बिहार में अपराध नियंत्रण को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की बैठक और कोशिशों पर सवाल उठ रहे हैं। सूचना के मुताबिक, पटना पुलिस समय पर रवि गोप के खिलाफ अपना पक्ष नहीं रख पाई जिसको आधार बनाकर कोर्ट ने उसे जमानत पर रिहा कर दिया। जेल से निकलते ही रवि गोप पुलिस के चंगुल से छूटकर फरार हो गया है।

50 हजार का ईनामी 50 घंटे भी नही रहा कैद

दरअसल,पटना पुलिस की मेहरबानी से बकौल एक कुख्यात अपराधी जिसपर 50 हजार का ईनामी  50 घण्टे भी जेल में नही रह है और बेल लेकर फरार हो गया है। है न कमाल की बात ? पहले जानिए कैसे हुुुई थी गिरफ्तारी और तब गिरफ्तार रवि की बहन ने तब STF पर गंभीर आरोप भी लगाते हुए कहा था कि …

पटना से 70 किलो मीटर दूर गिरफ्तार

दरअसल, पटना के टॉप टेन अपराधियों में शुमार दीघा थाना क्षेत्र के रामजीचक निवासी रवि गोप ट्रिपल मर्डर केस समेत अन्य मामलों में वांछित रहा है। इसकी गिरफ्तारी पर पुलिस ने 50 हजार का ईनाम घोषित किया था। कुख्यात रवि पूरी तैयारी के साथ अपनी प्रेमिका से शादी करने पहुंचा था। दोनों पक्ष के लोग जश्न में डूबे थे। इधर, पुलिस भी मौका देख सीधे आरोपित को घेरने में जुटी थी।पुलिस के आने की भनक लगते ही दूल्हा बना आरोपित शेरवानी आदि ऊपरी कमरे में फेंक कर गंजी-जांघिया में भागने की कोशिश की लेकिन पुलिस ने समय उसे रहते दबोच लिया था।

कौन है रवि गोप

दीघा थाना क्षेत्र के रामजी चक निवासी रवि कुमार उर्फ रवि यादव उर्फ रवि गोप पर दानापुर थाना के नासरीगंज में तीन लोगों की हत्या का मामला दर्ज है। इसके अलावे भी पिछले तीन वर्षों में दीघा, बुद्धा कॉलोनी, एसके पुरी, पाटलिपुत्र, दानापुर, शाहपुर आदि थाना क्षेत्रों में कई आपराधिक वारदातों को अंजाम देने का आरोप है। लंबे समय से फरार रवि के घर की कुर्की भी हो चुकी है।

कुख्यात की फरारी से पुलिस महकमे में हड़कंप

रवि गोप के फरारी से पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया है। सूचना के मुताबिक, रवि गोप की गिरफ्तारी एक केस में होने के बाद दूसरे केस में उसको रिमांड पर लेने की अर्जी पुलिस ने कोर्ट में नहीं दी। अगर उसके खिलाफ प्रोडक्शन वारंट रहता तो जेल से उसे रिहा नहीं किया जाता। इस बारे में बेऊर सह फुलवारीशरीफ जेल सुपरिंटेंडेंट सत्येंद्र कुमार सिंह ने कहा कि कोर्ट से जमानत के बाद रवि गोप को रिहा किया गया है और हमें प्रोडक्शन वारंट नहीं मिला था। आईजी रेंज संजय सिंह का इस बारे में कहना है कि पुलिस से चूक कहां हुई है इस बारे में रिपोर्ट मांगी गई है।

फिर से रवि गोप की तलाश में जुटी पुलिस

एसटीएफ और पटना पुलिस ने रवि गोप को 6 दिसंबर को तब गिरफ्तार किया जब वह शादी के लिए मंडप में था। रवि गोप पुलिस से छुपकर पटना से दूर गांव में शादी कर रहा था लेकिन एसटीएफ को भनक लगी और उसने इस कुख्यात अपराधी को मंडप में ही पकड़ लिया था। उसे रंगदारी मांगने के मामले में गिरफ्तार कर पुलिस ने फुलवारीशरीफ जेल भेज दिया था। इसके बाद एसीजेएम कोर्ट ने रवि गोप को जमानत दे दी। किसी और मामले में पुलिस ने रवि गोप को वांछित नहीं दिखाया था। रवि गोप पटना और दीघा का कुख्यात अपराधी है। उसके बारे में कहा जाता है कि दिल्ली, नोएडा समेत अन्य जगहों पर उसकी करोड़ों की प्रॉपर्टी है। मुश्किल से गिरफ्त में आए इस अपराधी की तलाश में पुलिस फिर से लगी है।

Comments are closed.